कानपुर में हिन्दी ग़ज़ल

22 अप्रैल 2016   |  ओम प्रकाश शर्मा   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

कानपुर में हिन्दी ग़ज़ल



ग़ज़ल का पारम्पिरिक अर्थ दो स्त्रियों की बातचीत बताया जाता है। ‘ग़ज़ल’ ऐसी काव्य विधा को भी कहा गया है जिसमें प्रेमिका के सौंदर्य का वर्णन किया गया हो। ग़ज़ल एक लंबी यात्रा है जो अरबी-फ़ारसी से चलकर उर्दू से होती हुई हिन्दी में आ पहुँची है। कोई भी यात्री जब लंबी यात्रा तय करता है तो उसमें रास्ते कीजगहों की ख़ूबियाँ भी आ जाती हैं। फलतः ग़ज़ल में भी अरबी-फारसी की रूमानियत, उर्दू की मुलायम ख़याली और हिन्दी की आत्मिक पवित्रता विद्यमान है। हिन्दी में ग़ज़ल कुछ-कुछ अपने उपर्युक्त संदर्भों से ही ग्रहण की गई है। इसलिए हिन्दी तक आते-आते ग़ज़ल पारंपरिक परिभाषा से हटती हुई प्रतीत होती है। इसे समसामयिक मूल्यों की तल्खी से भी जोड़ा जा सकता है। आज की ग़ज़ल अपनी दृश्यात्मक और ध्वन्यात्मकता के कारण रचनाकारों की विशेष प्रिय विधा बन गई है। कानपुर का यह सौभाग्य रहा है कि यहाँ हिन्दी, अरबी-फ़ारसी और उर्दू काव्य का साथ-साथ विकास हुआ है। अगर यहाँ महर्षि वाल्मीकि से लेकर आज तक के हिन्दी काव्य प्रणेताओं का लंबा इतिहास मिलता है तो अरबी-फ़ारसी, उर्दू के बेहतरीन शायरों का लंबा सिलसिला भी आज तक चला आ रहा है। जहाँ एक ओर यहाँ समस्यापूर्ति-कविगोष्ठियों की सुदीर्घ परंपरा रही है वहीं तरही नशिस्तों और मुशायरों का क्रम अभी भी बना हुआ है। इसलिए चाहे देश में कमल खिलें या संकीर्ण विचारधाराओं का कीचड़ बना हुआ है, पर कानपुर की गंगा-जमुनी संस्कृति पर कोई असर नहीं दिखाई पड़ता। ग़ज़ल ने कानपुर के उस रंग को और निखार दिया है। 


कानपुर के सुरम्य वातावरण को और भी सरस बनाते जो नाम मेरे कानों में पड़े है, उनमें जनाब हसरत मोहानी का नाम सबसे ऊपर है। फिर तो जनाब कौसर जायसी, कमाल जायसी, क़मर लखनवी, नाशाद फ़ैज़ाबादी, कामिल फ़तेहपुरी, हक़ बनारसी, शायर फ़तेहपुरी, वर्मा कानपुरी, ज़हीर कानपुरी और इरशाद कानपुरी जैसे ग़ज़ल के सशक्त हस्ताक्षरों को देखने-सुनने और पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। यह सब जन्नतनशीं उस्ताद जनाब कृष्ण मुरारी लाल श्रीवास्तव नाशाद अर्जुनपुरी साहब के करम से हुआ। कानपुर में देवेन्द्रनाथ शास्त्री, हितैशी, हृदयेश, सिद्धेश्वर अवस्थी, श्याम नारायण वर्मा, सिन्दूर, चन्द्रेश, कृष्ण नंद चैबेण् अशोक निर्मल, जीवन शुक्ल, मानव और वीरेश कात्यायन आदि नाम गिनाए जा सकते हैं।


कानपुर में अनेक संस्थाएँ, ग़ज़लगो रचनाकारों के लिए बनी हैं उनमें नाशाद अर्जुनपुरी साहब द्वारा स्थापित कुछ हिन्दी उर्दू हिन्दी समिति मुख्य हैं। इस संस्था के मुख्य हस्ताक्षर श्री रामकृष्ण प्रेमी, डॉ. प्रतीक मिश्र, और सत्यप्रकाश शर्मा जैसे सशक्त लोग हैं। इधर पं0 कृष्णानंद चौबे ने अनेक नये लोगों को लेकर कवि कुल का निर्माण किया और उर्दू ग़ज़ल की इसलाह परंपरा का पूरे तौर से निर्वाह करते हुए प्रमोद तिवारी, मृदुल तिवारी, राजेन्द्र तिवारी, लालमन आज़ाद, अंसार कंबरी, जैसे सशक्त हस्ताक्षर हिन्दी ग़ज़ल परंपरा को समर्पित किए। उपर्युक्त नामों के अतिरिक्त स्व0 श्रीमती कमला गुप्ता, श्रीमती विद्या सक्सेना , डाॅ. कमल शंकर दवे , श्री कमल किशोर 'श्रमिक' , रवि शंकर मिश्र,  लक्ष्मी शंकर वाजपेई, पीयूष अवस्थी, शिव कुमार सिंह 'कुंवर' डॉ.  अवधेश दीक्षित, विश्वम्भर नाथ त्रिपाठी,  कमलेश द्विवेदी,  जयराम सिंह जय, असीम त्रिवेदी, प्रदीप श्रीवास्तव भी कानपुर के ग़ज़लगो रचनाकारों में अपना प्रमुख स्थान रखते हैं।

-उपेंद्र शास्त्री 

नवाबगंज, कानपुर ।


अगला लेख: सिगरेट एवं तम्बाकू जैसे उत्पादों पर वैधानिक चेतावनी का असर कितना ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अप्रैल 2016
यह तनिक अनपेक्षित-अस्वाभाविक है कि न्यायाधीशों की कमी का जिक्र करते हुए उच्चतम न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश इतना भावुक हुए कि उनकी आंखों में आंसू छलक आए। मुख्यमंत्रियों और उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों के सम्मेलन में प्रधान न्यायाधीश केवल भावुक ही नहीं हुए, बल्
25 अप्रैल 2016
27 अप्रैल 2016
तेज़ रफ़्तार भागती ज़िन्दगी और सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते आंकड़े, हर किसी को सोचने पर  विवश करते हैं। दुर्घटनाएँ होती हैं तो उनके पीछे कारण भी होते हैं। दिन-ब-दिन रोड पर बढ़ते वाहनों की संख्या, चालकों का बेसब्र और बेकाबू होना, यातायात नियमों की अनदेखी करना या खराब सड़कें.... आप किसे अधिक ज़िम्मेदार मान
27 अप्रैल 2016
26 अप्रैल 2016
कितना अद्भुत, कितना सत्य !यह घटना भूमध्यसागर के सिसली द्वीप की है। अपराह्न के समय, सड़क पर अपने काम-धंधों में व्यस्त लोगों तथा व्यापारियों का जमघट लगा था। अचानक एक ज़ोर की आवाज़ सुनाई दी, 'मिल गया, मिल गया।' एक नंगा आदमी सड़क के बीचो-बीच दौ
26 अप्रैल 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x