यादे

26 अप्रैल 2016   |  कुमार रोहित राज   (105 बार पढ़ा जा चुका है)


मुस्कुराते थे जहां उनकी मुस्कान देखकर कभी उन्ही के साथ,


किस्मत देखिये उन्ही की याद मे तन्हा फफक कर रोए वही आज 

अगला लेख: दिल



पूनम शर्मा
27 अप्रैल 2016

ओहहों ..... बहुत खूब

शुक्रिया पूनम जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
23 अप्रैल 2016
मा
08 मई 2016
26 अप्रैल 2016
22 अप्रैल 2016
28 अप्रैल 2016
या
08 मई 2016
26 अप्रैल 2016
12 अप्रैल 2016
22 अप्रैल 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x