लता दी द्वारा साझा किया हुआ विचार

29 अप्रैल 2016   |  चंद्रेश विमला त्रिपाठी   (492 बार पढ़ा जा चुका है)

लता दी द्वारा साझा किया हुआ विचार


अगला लेख: क्या आज दिखते हैं आपको भगवान श्रीराम के आदर्श ?



रेणु
16 मार्च 2017

बहुत सुन्दर और प्रेरणादायक विचार है --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अप्रैल 2016
अखिल रंजन, बीबीसी मॉनिटरिंग"आए दिन की छेड़छाड़ और ग़लत बर्ताव की वजह से मुझे अपनी कॉल सेंटर की नौकरीछोड़नी पड़ी. लोग हमें चिंकी या नेपाली कहते हैं, अश्लील इशारे करते हैं, मेट्रो या बस मेंइधर-उधर छूने की कोशिश करते हैं और अगर कुछ बोलो तो फिर झगड़ा और पुलिस थाने काचक्कर." ये आप बीती है म्यांमार से आकर
23 अप्रैल 2016
26 अप्रैल 2016
अफजल गुरु की बरसी पर जेएनयू में देश विरोधी नारेबाजी कर पूरे देश में बवाल मचाने वाले कन्हैया कुमार पर 10 हज़ार का जुर्माना, उमर खालिद का 1 सेमेस्टर तथा&
26 अप्रैल 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x