भूख प्यास मजबूरी का आलम देखा

07 मई 2016   |  अवधेश प्रताप सिंह भदौरिया 'अनुराग'   (292 बार पढ़ा जा चुका है)

भूख प्यास मजबूरी का आलम देखा


भूख प्यास मजबूरी का आलम देखा,

जब से होश संभाला केवल ग़म देखा। 


नहीं मिला ठहराव भटकते क़दमों को,

जिसके भी मन में झाँका बेदम देखा। 


वादों और विवादों की तक़रीर सुनी,

जख्मीं होंठों पर सूखा मरहम देखा। 


बिना किये बरसात बदरिया चली गई, 

कई मर्तबा ऐसा भी मौसम देखा। 


सर पे छप्पर नहीं मह्ज नीला अम्बर था,

उन आंखों में स्वाभिमान हरदम देखा। 


सेवा में मादर-ए-वतन की सरहद पर,

उस जवान ने अपना ही घर कम देखा।   


जिनकी हुंकारों से दुश्मन काँप उठा हो,

उन आवाजों में दर्द आँख को नम देखा। 


तार-तार हो गया गिरेबां घायल मन,

 उनके हाथों में अकसर  परचम देखा। 



अगला लेख: प्यार फिर सबको नज़र लगा है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मई 2016
मधुर तान छेड़े अगर बांसुरी,धरें श्याम-सुंदर अधर बांसुरी।अभिज्ञान गीता का  होगा तरल,  शब्द श्रंगार की है लहर बांसुरी। हैं  अक्षर स्वरों में निखर जाएंगे,  शक्ती संचार में है प्रखर बांसुरी। धीरे-धीरे   उजाले    उगेंगे,रात काली है अंतिम प्रहर बांसुरी।तुम जो छूलो महक जाएंगे हम,है सुगन्धित-सुगन्धित मेंहर ब
16 मई 2016
23 अप्रैल 2016
इस तरफ आओ इधर पहरा नहीं है,यार समंदर है मगर गहरा नहीं है। संदेश प्यार का लाता  तो रोज है,क़ासिद है कौन मैंने देखा नहीं है। वीरान है सुनसान भी सन्नाटा है,ये जगह निर्जन है मगर सहरा नहीं है। है नदी ब्याकुल बहुत प्यासी भी है,आकर कोई सागर  मि
23 अप्रैल 2016
07 मई 2016
कुछ तो हुआ है जो हमारी  आँख नम है,  बहुत बड़ी हलचल है मौसम सम-विषम है। छुपाओगे अगर इनको  बढ़ेंगी मुशकिलें ,   बन जाएंगे नासूर बडे गहरे ज़ख्म हैं। यकीनन बोझ में दबने लगी है ज़िन्दगी,अब मुस्कुराने का तो बस कोरा बहम है। मांगने से मिलेगा कैसे  
07 मई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x