किरायेदार

07 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (253 बार पढ़ा जा चुका है)

श्याम जी को अपने मकान के लिए कई दिनों से किरायेदार की तलाश थी. 

मेरे एक मित्र का ट्रांसफर मेरे ही शहर में हो गया. उसने रहने के लिए मुझसे किराये का कमरा दिलवाने को कहा. मैं और मेरा मित्र श्याम जी का कमरा देखने चले गए. कमरा मित्र कोपसंद भी आ गया, लेकिन श्याम जी को जैसे ही पता लगा मेरा मित्र दूसरे धर्म का है उन्होंने कमरा देने से साफ़ इंकार कर दिया. बहुत समझाने पर भी वो नहीं माने. मित्र को मैंने अपने घर पर ही एक कमरा खाली करके दे दिया. फिर कुछ दिनों बाद पता चला कि श्याम जी ने अपने ही धर्म के किसी जानकार लड़के को कमरा किराए पर दे दिया. लड़का खाने- पीने वाला निकला. श्याम जी बहुत परेशान थे . उन्होंने लड़के से कमरा खाली करने का आदेश दे दिया, लेकिन तीसरे दिन ही लड़का श्याम जी की बेटी को भगा ले गया.

अगला लेख: जीने की राह



सृष्टि
07 जून 2016

धर्म के नाम पर आज भी समाज आगे नही निकला

सृष्टि
07 जून 2016

धर्म के नाम पर आज भी समाज आगे नही निकला..

यह क्या बात हुई भाई

श्रीमान जी लोग धर्म के नाम पर लड़ते है और उनके धर्म वाले ही उन्हें धोखा दे जाते है

keshav jain
07 जून 2016

wah jiii wah kya bt h

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जून 2016
बे
पिताजी की मृत्यु को एक महीना ही हुआ था. शान्तनु के सिर पर ही बहिन की शादी और घर की जिम्मेदारी का बोझ आ गया.  पिताजी की बीमारी में भी बहुत खर्च हो चुका था. घर के हालात को माँ समझती थी, लेकिन बेबस थी, फिर शान्तनु के भी तो दो लड़कियाँ थी, जिनको पढ़ाना - लिखाना और उनके ब्याह के लिए भी कुछ जोडना. सब कुछ दे
10 जून 2016
09 जून 2016
जीवन में सफलता तो आवश्यक है ही लेकिन यह भी आश्यक है कि आप जीवन से संतुष्ट एवं प्रसन्न रहें. धन और शोहरत तो जरूरी है लेकिन उनके पीछे भागते रहने से मौजूदा जीवन पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ना चाहिये. अक्सर लोग परेशान रहते है कि जीवन में सुख नहीं है, लेकिन यह सुख दरअसल आपके हाथ में ही है. बस आपको पहचानना है 
09 जून 2016
02 जून 2016
बे
जब भी पडोसी श्याम सुन्दर जी से बात होती तो मै अपने ऊपर गर्व सा महसूस करने लगता. श्याम जी तीन बेटियों के बाप थे और बेटा नही दिया था भगवान ने. उनकी बातो में सदा इसका दुःख छिपा होता जबकि मै  एक बेटे  का बाप होने के नाते अपने आप को उनसे ऊपर समझने लगा. बातो से तो वो भी कुछ ऐसा ही प्रकट करते. हम दोनों ही 
02 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x