रात भर

08 जून 2016   |  भीम भारत भूषण   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

रात भर वो मुझे याद आते रहे

इक विरह वेदना में जलाते रहे

मेरी आँखों में मस्ती भरी नींद थी

करवटों   करवटों  वो जगाते रहे

चाँद भी देख कर हम पे हँसता रहा

उनके फोटो का  घूँघट  हटाते      रहे

साथ उनके बिताये थे जो सुनहरे पल

सोचकर    उनको    बस  मुस्कुराते रहे

उनकी खुशबू से तन मन महकता रहा

धीमे  धीमे   से  हम     गुनगुनाते   रहे

हमने चाहा था वो अब चले आयेंगे

धडकनों    में  मेरी  वो बस जायेंगे

जब से रूठे है वो मेरी आवाज़ से

इशारों -   इशारों    हम  मनाते   रहे

अब तो दूरी हुई अपनी मजबूरियां

भाव        तन्हाई    के  पास आते रहे

बर्फ की मानिंद मैं   पिघलता रहा

जब से दिल की शमां वो जलाते रहे

 

              भीम भारत भूषण 

अगला लेख: शब्दनगरी पर लेखन की प्रक्रिया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x