बुरा क्यों

08 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (201 बार पढ़ा जा चुका है)

गर्मी के मौसम में अक्सर मैं समुद्र किनारे घूमने निकल जाया करता था, और वहीं बैठा समुद्र की ठंडी लहरों का आनंद लेता. उस दिन जब मैं समुद्र किनारे पेड़ के नीचे बैठा था तो मेरी नज़र एक कीड़े पर पड़ी. वह अपने बिल तक पहुंचने के लिए बहुत कोशिश कर रहा था, लेकिन बार - बार लहरें आती और उसे पीछे ले जाती. वह भी अपने पैर बालू में गड़ा देता और लहरों के जाने के बाद फिर अपने बिल की और चल देता. मैं वहां बैठा यही देख रहा था कि कीड़ा अपने बिल तक पहुंच भी पाएगा या नहीं. अबकी बार जब लहरें आई तो जाते हुए एक मेंढक को छोड़ गई. मेंढक कीड़े को देखकर जैसे ही उस पर झपटा तभी वृक्ष पर बैठी चील बिजली की गति से आई और मेंढक को उठा ले गई. कीड़ा अपने बिल तक पहुँचने में सफल हो गया और अब मेरी समझ में आ गया था किसी का बुरा क्यों ?

 

अगला लेख: जीने की राह



kratika
09 जून 2016

प्रेरणादायक रचना

एक वेहतरीन लघु कथा । प्रेरणादायक रचना अच्छी लगी।

बहुत बहुत धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 मई 2016
रामपुर गांव की एक गली में एक बुढ़िया रहती थी . बुढ़िया की उम्र लगभग 80 वर्ष से कम नही थी.  कहने को तो बुढ़िया के 2 बटे थे,  लेकिन दोनों ही बुढ़िया को गाँव में मरने के लिये अकेली छोड़ दूर शहर में जा बसे. बुढ़िया घूम घूम कर अपने लिये भोजन इक्क्ट्ठा करती और अपना पेट भर कर सो जाती. उसका जीवन निरर्थक था. सिवाय
31 मई 2016
20 जून 2016
 हमारा देश भारत धर्म निरपेक्ष देश होते हुए भी ऐसा धर्म प्रधान देश है कि धर्म के बिना भारत कैसा होगा इसकी कल्पना भी करना कठिन है. धर्म का वैचारिक अर्थ है जिसे धारण किया जाये या फिर वह कर्तव्य जिसे पूर्ण निष्ठा के साथ निभाया जाये, कबीर दास जी ने भी अपने एक दोहे में कहा है " दया धर्म का मूल है" लेकिन 
20 जून 2016
11 जून 2016
फू
शाम के 6 बज चुके थे घर जाते हुए अक्सर मै मंदिर की सीढ़ियों पर बैठ जाया करता था. उस दिन मेरी नज़र फूल बेचने वाली पर पड़ी. 10-12 साल की एक मासूम लड़की, बदन पर मैली सी फ्रॉक, हाथों में फूलो की टोकरी लिये वह मंदिर जाने वाले सभी लोगो के पीछे दौड़ती और कहती, " फूल ले लो बाबूजी, भगवान पर चढ़ा देना वो खुश हो जाएं
11 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x