दहकता बुंदेलखंड

09 जून 2016   |  सुशील कुमार शर्मा   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

. दहकता बुंदेलखंड

जीवन की बूंदों को तरसा भारत का एक खण्ड।

सूरज जैसा दहक रहा हैं हमारा बुंदेलखंड।

गाँव गली सुनसान है पनघट भी वीरान।

टूटी पड़ी है नाव भी कुदरत खुद हैरान।

वृक्ष नहीं हैं दूर तक सूखे पड़े हैं खेत।

कुआँ सूख गढ्ढा बने पम्प उगलते रेत।

कभी लहलहाते खेत थे आज लगे श्मशान।

बिन पानी सूखे पड़े नदी नहर खलियान।

मानव ,पशु प्यासे फिरें प्यासा सारा गांव।

पक्षी प्यासे जंगल प्यासा झुलसे गाय के पांव।



अगला लेख: क्या मैं लिख सकूँगा ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जून 2016
बघुवार-स्वराज मुमकिन है। सुशील कुमार शर्मा archanasharma891@gmail .com मायाजी की इस पुस्तक का विमोचन ग्राम बघुवार में हो रहा था। ABP न्यूज़ के मध्यप्रदेश हेड श्री ब्रजेश राजपूत जो कि मुझे भ्रातवत अपनत्व प्रदान करते हैं के  सन्दर्भ से मायाजी की ओर से विमोचन का निमंत्रण आया लेकिन शासकीय व्यस्तताओं के
02 जून 2016
10 जून 2016
हे
हे परीक्षा परिणाम ,मत डराओ बच्चों को सुशील शर्मा हे परीक्षा परिणाम मत सताओ बच्चों को, प्यारे बच्चों के मासूम दिलों से खेलना बंद करो। न जाने कितने मासूम दिलों से तुम खेलते हो ,न जाने कितने बच्चों के भविष्य को रौंद चुके हो तुम। न जाने कितने माँ बाप को खून के आंसू रुला चुके हो तुम। तुम्हे किसने यह अधिक
10 जून 2016
11 जून 2016
बड़े खुश हैं हम बादल गुजर गया लेकिन बरसा नहीं। सूखी नदी हुआ अभी अरसा नहीं। धरती झुलस रही है लेकिन बड़े खुश हैं हम। नदी बिक रही है बा रास्ते सियासत के। गूंगे बहरों के  शहर में बड़े खुश हैं हम। न गोरैया न दादर न तीतर बोलता है अब। काट कर परिंदों के पर बड़े खुश हैं हम। नदी की धार सूख गई सूखे शहर के कुँए। ता
11 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x