जानवर सा आदमी है अब ,और आदमी सा है जानवर

09 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (357 बार पढ़ा जा चुका है)

जानवर सा आदमी है अब ,और आदमी सा है जानवर 

*************************************************

भौंक -भौक कर एक कुता ,दूजे को दे रहा था गाली |

बच्चे देख रहे थे उनको , बजा -बजा कर ताली ||

साला आदमी कहीं का ,तू भगा ले गया मेरी साली |
तू कुता नहीं,आदमी है ,करतूत है जिसकी काली ||
कुते द्वारा कुते को ही ,दी गयी आदमी की वो गाली |
मेरे कोमल कवि-ह्रदय ने,नहीं हँसी में थी टाली ||
आदमी के घोर पतन की , थाह मैंने थी पा ली |
और एक कहानी,कविता में ,मैंने यूँ लिख डाली ||
राजनगर में रहते थे , बाबू राम भरोसे लाल |
निवृत हुए जब नौकरी से , अच्छे थे उनके हाल ||
डॉक्टर था बेटा उनका , जो चला गया विदेश |
पत्नी के संग बीता रहे थे ,वे जिन्दगी के दिन शेष ||
पत्नी रामप्यारी उनकी ,जब हो गयी राम को प्यारी |
तब जीना राम भरोसे का ,हो गया बहुत ही भारी ||
घर की देखभाल हेतु , तब रखा था नौकर एक |
भरोसा किया था उस पर , समझ आदमी नेक ||
राम भरोसे ने अपने घर पर ,एक कुता भी था पाला |
सोता था जो उनके कमरे में ,था उनका वो रखवाला ||
उनका अपना बेटा था ,पर नहीं सुख था उसका |
नौकर को भी बेटा समझा ,मैला मन था जिसका ||
सुख-सुविधाएँ दी नौकर को,मान कर उसको अपना |
लूट कर उनकी दौलत को , जो चाहता था टपना ||
अमीर है राम भरोसे , यह जानता था नौकर |
लूटना चाहता था उनको ,बीज विश्वास का बोकर ||
सोच रहा था नौकर , कि कैसी तरकीब अपनाऊँ |
कि शक हो डकैती का ,पर मैं साफ बच जाऊँ ||
एक रात उस नौकर ने,भरोसे पर हमला कर दिया |
राम भरोसे की चीख ने , कुते में क्रोध भर दिया ||
नौकर की पिंडली में उसने ,अपने दांत गड़ा दिये |
चाक़ू छूट गया हाथ से ,तो कुते से पंजे लड़ा लिये||
पिण्ड छुड़ा कर कुते से , नौकर वहाँ से भाग गया |
चीख -पुकार सुनकर उनकी,मोहल्ला सारा जाग गया ||
घाव गहरा नहीं था तन का ,सो चन्द दिनों में भर गया |
उस दिन से आदमी पर , भरोसे का भरोसा मर गया ||
कहते हैं वे जो सबको ,वो सुन ले आप भी मान्यवर |
जानवर सा आदमी है अब ,और आदमी सा है जानवर ||
***************************************************

अगला लेख: अनमोल आजादी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जून 2016
लू
रिश्वत खोरी पर व्यंग करती कविता -लूट की छूट लूट कर यात्रियों को लूटेरों ने ,लौटा दिया सारा धन -माल |सोचने लगे यात्री सारे ,क्या है यह कोई इनकी चाल ?|डर रहे थे सब यात्री ,पर एक बालक बोला करते खाज |डाकू सर प्लीज बताओ , इस दया का क्या है राज ?|डाकू बोला ,यह दया नहीं है ,यह है रिश्वत का सवाल |हर लूट पर
09 जून 2016
15 जून 2016
ला
@लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो@*******************************************************नारी जिस्म-फ़रोशी का , बन्द यह बाजार करो ।लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो ॥नारी के जिन उरोजों पर,शिशुओं का होता है अधिकार।मिलती है जिनसे उनको , उज्ज्वल पावन जीवन-धार॥सरे आम उघाड़ कर उनको , न उन पे
15 जून 2016
09 जून 2016
वि
हवाई सफ़र ने दुनिया को ,बहुत छोटा कर दिया |आराम दिया विज्ञान ने ,पर सुकून सारा हर लिया ||दूरियां पार कर ली हमने ,सात समंदर पार की |पर दूर हो गये दिल हमारे ,क्या बात करें संसार की||छोटी हो गयी दुनिया अपनी ,पर फ़ैल गये शहर विकराल |मोबाईल का ज़माना आया ,फैला अजब अंतर जाल ||अजनबी अब फेसफ्रेण्ड है ,पर नहीं
09 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x