हे परीक्षा परिणाम ,मत डराओ बच्चों को

10 जून 2016   |  सुशील कुमार शर्मा   (129 बार पढ़ा जा चुका है)



हे परीक्षा परिणाम ,मत डराओ बच्चों को 
सुशील शर्मा 
हे परीक्षा परिणाम 

मत सताओ बच्चों को, प्यारे बच्चों के मासूम दिलों से खेलना बंद करो। 

न जाने कितने मासूम दिलों से तुम खेलते हो ,न जाने कितने बच्चों के भविष्य को रौंद चुके हो तुम। 
न जाने कितने माँ बाप को खून के आंसू रुला चुके हो तुम। 
तुम्हे किसने यह अधिकार दिया कि तुम एक कागज पर लिखे अंको के आधार पर। 
किसी की प्रतिभा का आंकलन करो ,तुम कौन होते हो यह निर्णय देने वाले की मार्कशीट के अंक बच्चे की प्रतिभा का प्रतिबिम्ब हैं। क्या बिलगेट्स ,सचिन ,गांधी की प्रतिभा तुम्हारे अंको की मोहताज रही है ?
क्या नरेंद्र मोदी को तुमने प्रधानमंत्री लायक बनाया ?
क्या कलाम तुम्हारे अंको के आधार पर कामयाबी के शिखर तक पहुंचे ?
क्या न्यूटन ओर आइंस्टीन को तुमने वैज्ञानिक बनाया ? 
नहीं ये सभी प्रतिभाएं तुम्हारी अंको की लंगड़ी गाड़ी में चढ़ी। 
ये सभी कड़ी मेहनत एवं लगन से शिखरों तक पहुंची हैं। 
क्या तुम उस मासूम के करीब से गुजरे हो जिसके अंक तुमने सिर्फ इसलिए काटे हैं। 
कि उसने रट कर तुम्हारा उत्तर नहीं दिया? 
क्या तुमने उन माँ बाप के चहरों की उदासी देखी है जिनके बच्चे 
तुम्हारी दी हुई लक्ष्मण रेखा पार नहीं कर सके ?
हे परीक्षा परिणाम 
हो सके तो उन सही बच्चों के टूटे हुए दिलों में झांकना 
जो कक्षा में प्रथम स्थानों पर नहीं आ सके। 
हो सके तो उन सभी माँ बाप के बिखरते सपनों को 
महसूस करना जिनके बच्चे IIT ,IIM एवं मेडिकल में नहीं जा सके। 
क्या ये सब प्रतिभा हीन हैं ?क्या इनका कोई भविष्य नहीं है ?
तुमने तो एक कागज के टुकड़े पर अंक लिख कर 
इनको प्रतिभा हीन प्रमाणित कर दिया। 
तुमने इनकी कापियों को लाल ,हरा ,काला कर 
इनके भविष्य पर अंको का ताला लगा दिया। 
हे परीक्षा परिणाम तुम देखना 
यही बच्चे तुम्हे झूठा साबित करेंगें। 
ये तुम्हारे अंकों के कागज को रद्दी की टोकरी में फेंक कर। 
बनेगें बिलगेट्स ,गांधी ,सचिन ,नरेंद्र मोदी और अब्दुल कलाम। 
यही बच्चे बनेगें इंदिरा ,कल्पना ,सानिया और सायना। 
यही बच्चे साबित करेंगे की तुम्हारा आंकलन सिर्फ कागज पर लिखे 
कुछ अंको के आलावा कुछ नहीं है। 
इसलिए हे परीक्षा परिणाम सुधर जाओ और मत डराओ इन मासूम बच्चों को।

अगला लेख: दहकता बुंदेलखंड



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 जून 2016
पर्यावरण संरक्षण सर्वोत्तम मानवीय संवेदना सुशील शर्मा मनुष्य और पर्यावरण का परस्पर गहरा संबंध है।अग्नि , जल, पृथ्वी , वायु और आकाश यही किसी न किसी रूप में जीवन का निर्माण करते हैं, उसे पोषण देते हैं। इन सभी तत्वों का सम्मिलित , स्वरूप ही पर्यावरण है। पर्यावरण संरक्षण पाँच स्तरों पर सम्भव होगा-1- मान
06 जून 2016
13 जून 2016
कि
किसान चिंतित हैसुशील शर्माकिसान चिंतित है फसल की प्यास से ।किसान चिंतित है टूटते दरकते विश्वास से।किसान चिंतित है पसीने से तर बतर शरीरों से।किसान चिंतित है जहर बुझी तकरीरों से।किसान चिंतित है खाट पर कराहती माँ की खांसी से ।किसान चिंतित है पेड़ पर लटकती अपनी फांसी से।किसान चिंतित है मंडी में लूटते लुट
13 जून 2016
02 जून 2016
बघुवार-स्वराज मुमकिन है। सुशील कुमार शर्मा archanasharma891@gmail .com मायाजी की इस पुस्तक का विमोचन ग्राम बघुवार में हो रहा था। ABP न्यूज़ के मध्यप्रदेश हेड श्री ब्रजेश राजपूत जो कि मुझे भ्रातवत अपनत्व प्रदान करते हैं के  सन्दर्भ से मायाजी की ओर से विमोचन का निमंत्रण आया लेकिन शासकीय व्यस्तताओं के
02 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x