बड़े खुश हैं हम

11 जून 2016   |  सुशील कुमार शर्मा   (126 बार पढ़ा जा चुका है)

बड़े खुश हैं हम

बादल गुजर गया लेकिन बरसा नहीं।

सूखी नदी हुआ अभी अरसा नहीं।

धरती झुलस रही है लेकिन बड़े खुश हैं हम।

नदी बिक रही है बा रास्ते सियासत के।

गूंगे बहरों के  शहर में बड़े खुश हैं हम।

न गोरैया न दादर न तीतर बोलता है अब।

काट कर परिंदों के पर बड़े खुश हैं हम।

नदी की धार सूख गई सूखे शहर के कुँए।

तालाब शहर के सुखा कर बड़े खुश हैं हम।

पेड़ों का दर्द सुनना हमने नहीं सीखा।

काट कर जिस्म पेड़ों के बड़े खुश हैं हम।

ईमान पर अपने कब तलक कायम रहोगे तुम।

बेंच कर ईमान अपना आज बड़े खुश हैं हम।

अगला लेख: क्या मैं लिख सकूँगा ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जून 2016
पा
पानी  बचाना चाहिए फेंका बहुत पानी अब उसको बचाना चाहिए। सूखे जर्द पौधों को अब जवानी चाहिए। वर्षा जल के संग्रहण का अब कोई उपाय करो। प्यासी सुर्ख धरती को अब रवानी चाहिए। लगाओ पेड़ पौधे अब हज़ारों की संख्या में। बादलों को अब मचल कर बरसना चाहिए। समय का बोझ ढोती शहर की सिसकती नदी है। इस बरस अब बाढ़ में इसको
11 जून 2016
13 जून 2016
कि
किसान चिंतित हैसुशील शर्माकिसान चिंतित है फसल की प्यास से ।किसान चिंतित है टूटते दरकते विश्वास से।किसान चिंतित है पसीने से तर बतर शरीरों से।किसान चिंतित है जहर बुझी तकरीरों से।किसान चिंतित है खाट पर कराहती माँ की खांसी से ।किसान चिंतित है पेड़ पर लटकती अपनी फांसी से।किसान चिंतित है मंडी में लूटते लुट
13 जून 2016
12 जून 2016
ना
नारी तुम मुक्त हो।नारी तुम मुक्त हो। बिखरा हुआ अस्तित्व हो। सिमटा हुआ व्यक्तित्व हो। सर्वथा अव्यक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।शब्द कोषों से छलित देवी होकर भी दलित। शेष से संयुक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।ईश्वर का संकल्प हो।प्रेम का तुम विकल्प हो। त्याग से संतृप्त हो। नारी तुम मुक्त हो
12 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x