फूल वाली

11 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (562 बार पढ़ा जा चुका है)

शाम के 6 बज चुके थे घर जाते हुए अक्सर मै मंदिर की सीढ़ियों पर बैठ जाया करता था. उस दिन मेरी नज़र फूल बेचने वाली पर पड़ी. 10-12 साल की एक मासूम लड़की, बदन पर मैली सी फ्रॉक, हाथों में फूलो की टोकरी लिये वह मंदिर जाने वाले सभी लोगो के पीछे दौड़ती और कहती, " फूल ले लो बाबूजी, भगवान पर चढ़ा देना वो खुश हो जाएंगे". कोई ले लेता और कोई बिना लिए ही मंदिर में घुस जाता. फूल वाली को देखकर लगा पढ़ने की उम्र में मासूमियत भगवान की चौखट पर सिर पटक रही है. कौन जाने भगवान किस रूप में आकर उसे कब सम्भाल ले. तभी एक नौजवान तेजी से चलता हुआ फूल वाली से जा टकराया, फिर कुछ ही क्षण बाद नौजवान मुडकर आया और उसने मासूम को पकड़ लिया, " चोरी करती है, शर्म नहीं आती".

" बाबूजी मैंने कुछ नहीं चुराया, मै चोर नहीं हूँ".

"  अरे, अभी मेरा पर्स मेरी जेब से निकाल लिया और झूठ भी बोलती है".

मासूम चीख - चीख कर रोने लगी, पर उसकी फ़रियाद सुनने वाला वहाँ कोई नहीं था.........शायद भगवान भी नहीं.

नौजवान की नज़र फूलवाली की टोकरी पर पड़ी तो उसने वो भी छीन ली

" दिखा इसमें फूलों के नीचे क्या है".  .......... सभी फूल सड़क पर फैल गए. मासूम रोती रह गई.

" कुछ नहीं बाबूजी इसमें रोटी है.............. आज मेरी बहिन का जन्मदिन है, सोचा था शाम को फूल बेच कर जो पैसे आयेंगे, उनसे, उसके लिए कुछ ले जाऊँगी, इसलिये आज सुबह से हमने रोटी नहीं खायी थी. .......... क्या करें बाबूजी हम अनाथ गरीबों का जन्मदिन ऐसे ही होता है.

अगला लेख: जीने की राह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जून 2016
कि
श्याम जी को अपने मकान के लिए कई दिनों से किरायेदार की तलाश थी.  मेरे एक मित्र का ट्रांसफर मेरे ही शहर में हो गया. उसने रहने के लिए मुझसे किराये का कमरा दिलवाने को कहा. मैं और मेरा मित्र श्याम जी का कमरा देखने चले गए. कमरा मित्र कोपसंद भी आ गया, लेकिन श्याम जी को जैसे ही पता लगा मेरा मित्र दूसरे धर्म
07 जून 2016
17 जून 2016
आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है? यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले 
17 जून 2016
23 जून 2016
रायपुर के राजा तेजसिंह की प्रजा राजा को बहुत चाहती थी, और राजा भी अपनी प्रजा का अपने बच्चों की तरह ख्याल रखता था, लेकिन राजा को इस बात का धीरे धीरे घमंड होने लगा कि उसके जैसा शासन कोई नही कर सकता एवं जितनी सुखी प्रजा उसके राज में है ऐसी किसी अन्य के राज में नही है. ये घमंड दूर करने के लिये मंत्री ने
23 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x