दहेज़ से महंगी बेटी (कहानी) - राम लखारा 'विपुल'

13 जून 2016   |  राम लखारा   (1212 बार पढ़ा जा चुका है)

दहेज़ से महंगी बेटी (कहानी) - राम लखारा 'विपुल'

बड़ी धूूमधाम से दीपिका की शादी हुई थी। इतने मेहमान आए थे कि पूरे समाज में इस शादी की मिसाल दी जाने लगी थी। पिताजी बड़े अफसर थे, सो जो भी मेहमान आए महंगे गिफ्ट लेकर आए थे दीपिका के लिए।


लेकिन दीपिका की शादी होने के बाद से ही उसका पति दहेज के लिए ताने देता रहता था। दीपिका के पिता ने शादी में सब कुछ दिया था, लेकिन शादी में मोटर साइकिल नहीं देना उसके पति मुरलीधर को बहुत अखरा था। 

वह बात बात पर इस बारे में उलाहने देता रहता था “ तुम्हारे पापा मुझे एक मोटरसाइकिल तो दे ही सकते थे। देखों आजकल गरीब से गरीब आदमी भी अपनी बेटी को मोटरसाइकिल दे देता है। तिस पर तुम्हारे पिताजी तो सरकारी महकमे में बड़े अफसर कहाते है। मैनें कार तो न चाही थी, सिर्फ एक मोटर साइकिल ही तो चाही थी। वो भी दे न सके।” इतना कहकर मुरलीधर मुंह बिगाड़कर दूसरी तरफ देखने लगता था।


दिन में कम से कम दो बार तो मुरलीधर के जुबान पर मोटरसाइकिल का जिक्र आ ही जाता था। 

बेचारी दीपिका चुपचाप सहन कर लेती थी। वह कह भी क्या सकती थी? यह शिकायत उसने अपने पिताजी से भी नहीं की, कारण कि वो उनका दिल नहीं दुखाना चाहती थी।


उसने मुरलीधर को सिर्फ उस दिन खुश देखा जिस दिन उसने यह खुश खबरी दी कि वो गर्भ से है और उसके बच्चे की मां बनने वाली है।

लेकिन दूसरे ही दिन मुरलीधर फिर उन्ही सपनो में खो गया कि बच्चे के जन्म पर विदाई के समय उसके ससुरजी अवश्य ही उसे मोटरसाइकिल दे देंगे। नहीं देंगे तो मांग लूंगा, इस बार कोई शरम नहीं रखूंगा।


दीपिका भी यह विचार करने लगी थी कि बच्चे के जन्म पर वो अपने पिताजी से यह गुजारिश करेगी कि उसके जमा पैसे में और कुछ राशि मिलाकर वो एक मोटरसाइकिल खरीद ले और उसके पति को उपहार में दे। रोज रोज के ताने और अपने पिताजी का अपमान अब उसकी बर्दाश्त से बाहर था।


वो दिन भी आया। शादी की पहली सालगिरह के दूसरे ही दिन दीपिका ने एक फूल सी बच्ची को जन्म दिया। बच्ची के जन्म की खबर पाकर खुशी से मुरलीधर के पांव जमीं पर नहीं टिक रहे थे। 


अगले दिन ही वो अपने ससुराल अपनी पत्नी से मिलने पहुंचा।


हाॅस्पीटल में पहुंचते ही अपनी बच्ची को गोद मे लेकर मुरलीधर आंखों में आंसू लिए दीपिका से बोला ”दीपिका मुझे मोटर साइकिल नहीं चाहिए। जिस बाप ने अपनी जान से प्यारी बेटी किसी पराए आदमी को सौंप दी, वों इससे महंगा अब और क्या दे सकेगा? कुछ भी तो नहीं।“




लेखक -  राम लखारा 'विपुल' 

अगला लेख: क्या हमें एक दूसरे की रचनाओं पर टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए?



सही कहा अपने इस लेख में के जिस बाप ने अपनी जान से प्यारी बेटी किसी पराए आदमी को सौंप दी, वों इससे महंगा अब और क्या दे सकेगा?....बहुत सुन्दर ..

वाह. ...लाख टके का जमाई

शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए

स्नेहा
13 जून 2016

सही कहते है, एक बाप की ख़ुशी और व्यथा खुद बाप बन के ही समझ आती है

शुक्रिया तभी तो कहते है जाके पांव ना फटी बुवाई वो क्या जाने पीर पराई।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जून 2016
एक सुखद और सकारात्मक खबर जो अक्सर नहीं बन पाती है हैडलाइन !बात बात पर ५६ इंच नापने वाले ,टमाटर-दाल तौलने वाले और 15 लाख गिनने का इंतज़ार करने वालों के लिए यह खबर शायद महत्व्पूर्ण नहीं ! मगर इसका महत्व उनसे पूछो जो अपने घर से दशकों तक विस्थापित रहे ! कैराना आदि के लिए संघर्ष करने वालों के लिए इसमें सन
16 जून 2016
10 जून 2016
वि
यह विज्ञापनों का देश था।कुछ विज्ञापन देकर कमाते थे, कुछ लेकर।गली, मोहल्ले, बाजार, स्कूल, पेड़, पौधे, सार्वजनिक सुविधा घर यहां तक कि दूसरों की फेसबुक दीवार और रोटी पर तक लोग विज्ञापन लगाने से नहीं चूकते थे। जो लोग विज्ञापन नहीं लगवाना चाहते थे वे भी अपनी दीवारों पर विज्ञापन देकर लिखते थे कि यहां विज्ञ
10 जून 2016
16 जून 2016
टेबल पर बैठ कर सोचता हूं क्या लिखूं? भविष्य को दुलारू या भूत को दुत्कारू।कुछ भी तो नहीं लिखा जाता।अभी आॅफिस पहुंचा हूं। चारों तरफ कागज के बण्डल बार बार यह एहसास करवाते रहते है, आरसी! दुनिया में अकेले तुम ही उपेक्षित नहीं हो। स्वीपर का काम है, मेरे आते ही सफाई करना। कर रहा है। अपने मोबाईल के आॅडियो प
16 जून 2016
10 जून 2016
मा
"माँ, मैं एक आनुवंशिक वैज्ञानिक हूँ। मैं अमेरिका में मानव के विकास पर काम कर रहा हूं। विकास का सिद्धांत, चार्ल्स डार्विन, आपने उसके बारे में सुना है?" वासु ने पूछा। उसकी मां उसके पास बैठी और मुस्कुराकर बोली, “मैं डार्विन के बारे में जानती हूं, वासु। मैं यह भी जानती हूं कि तुम जो सोचते हो कि उसने जो
10 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x