मुझे कौन भेजेगा स्कूल ......... मै लड़की हूँ ना !

13 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (338 बार पढ़ा जा चुका है)

तीन दिन से छुट्टी पर चल रही है, काम नहीं करना तो मना कर दे, कोई जोर जबरदस्ती थोड़ी है. रोज कोई ना कोई बहाना लेकर भेज देती है अपनी बेटी को, उससे न सफाई ठीक से होती है और ना ही बर्तन साफ़ होते है. कपड़ों पर भी दाग यूँ के यूँ लगे रहते है .......... और उसमे इस बेचारी का दोष भी क्या है? इसकी उम्र भी तो नहीं है अभी ऐसे काम करने की, न जाने क्या सोच कर भेज देती है इसे काम पर ......... ऐसे अनगिनत विचारों ने मेरे दिल में हल्ला बोल दिया, जैसे ही आज भी

मैंने कान्ता बाई की जगह उसकी

बेटी को काम पर आते देखा. वह भी शायद मेरे अंदर की मनोदशा भांप गई थी, इसीलिए आते ही बिना ही कुछ बोले काम पर लग गई.

आज मैंने भी बुलाकर उससे बोल ही दिया

"क्यों री .... तेरी माँ की जगह तू क्यों चली आती है काम पर, तेरी माँ कहाँ है ?" 

" माँ तो तीन दिन से छोटे भाई को स्कूल में दाखिला दिलवाने के लिए चक्कर काट रही है." 

" और तुझे नहीं जाना स्कूल, जो रोज यहाँ चली आती है"

" मुझे कोन भेजेगा स्कूल .......... माँ कहती है ................ मै लड़की हूँ ना ."

उसकी आवाज मेरे कानो में गूंज उठी

मुझे कौन भेजेगा स्कूल ........ मै लड़की हूँ ना ! 


अगला लेख: जीने की राह



mhavirsinghal
14 जून 2016

गुड थोुगत

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जून 2016
सा
पाँच जून को विश्व पर्यावरण दिवस पर दुनिया भर में जागरुकता की दृष्टि से कई आयोजन होते हैं, और इस वर्ष भी हुए थे. यह ख़ुशी की बात है कि पिछले कुछ अरसे में पर्यावरण सुरक्षा की ओर लोग पहले से अधिक जागरूक हुए हैं. लेकिन पेड़ - पौधों और वायुमंडल से जुड़े पर्यावरण के संरक्षण के अलावा एक और प्रदूषण की रोकथाम भ
16 जून 2016
09 जून 2016
जीवन में सफलता तो आवश्यक है ही लेकिन यह भी आश्यक है कि आप जीवन से संतुष्ट एवं प्रसन्न रहें. धन और शोहरत तो जरूरी है लेकिन उनके पीछे भागते रहने से मौजूदा जीवन पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ना चाहिये. अक्सर लोग परेशान रहते है कि जीवन में सुख नहीं है, लेकिन यह सुख दरअसल आपके हाथ में ही है. बस आपको पहचानना है 
09 जून 2016
24 जून 2016
प्
प्रेम किसी के लिये ज़िम्मेदारी है तो किसी के लिये वफादारी. किसी के लिये प्रेम लालसा है तो किसी की वासना, कोई अपनी सुविधा देखकर प्रेम करता है तो कोई आपसी योग्यता को देखकर. प्रेम की गहराई नापना असंभव है. लोग किसी महिला और पुरुष के संबंध को प्रेम मानते है, तो क्या एक माँ का अपने पुत्र या पुत्री के प्रति
24 जून 2016
20 जून 2016
 हमारा देश भारत धर्म निरपेक्ष देश होते हुए भी ऐसा धर्म प्रधान देश है कि धर्म के बिना भारत कैसा होगा इसकी कल्पना भी करना कठिन है. धर्म का वैचारिक अर्थ है जिसे धारण किया जाये या फिर वह कर्तव्य जिसे पूर्ण निष्ठा के साथ निभाया जाये, कबीर दास जी ने भी अपने एक दोहे में कहा है " दया धर्म का मूल है" लेकिन 
20 जून 2016
17 जून 2016
आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है? यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले 
17 जून 2016
27 जून 2016
     यह वेद वाक्य है-उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत्‌।      जीवन की कर्मभूमि पर कर्म की निरन्तरता ही हमें लक्ष्य की ओर ले जाती है। पहली आवश्यकता लक्ष्य सदैव मन व नेत्रों के समक्ष रहना चाहिए अर्थात्‌ उसके प्रति सदैव जागरूक रहें। जब तक आप स्वयं के प्रति जागरूक नहीं हैं तब तक आप लक्ष्य के प्रति ज
27 जून 2016
11 जून 2016
फू
शाम के 6 बज चुके थे घर जाते हुए अक्सर मै मंदिर की सीढ़ियों पर बैठ जाया करता था. उस दिन मेरी नज़र फूल बेचने वाली पर पड़ी. 10-12 साल की एक मासूम लड़की, बदन पर मैली सी फ्रॉक, हाथों में फूलो की टोकरी लिये वह मंदिर जाने वाले सभी लोगो के पीछे दौड़ती और कहती, " फूल ले लो बाबूजी, भगवान पर चढ़ा देना वो खुश हो जाएं
11 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x