फिर खतरे में आजादी

14 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (406 बार पढ़ा जा चुका है)

जिस देश में बेटियां बिकने पर मजबूर हों और बेटे घर परिवार की सुरक्षा के लिए कलम की बजाय बंदूक पकड़ने को मजबूर हो जाएँ, तो ऐसी आजादी बेमानी होने की बात मन में उठना स्वभाविक है. बाजार हो या ट्रेन, या बस हो, कब छुपाकर रखा बम फट जाये, इस दहशत में आजाद भारत में जीना पड़े तो इसे विडंबना ही कहा जायेगा. जहाँ एक के बाद एक नये राज्यों

का गठन कहीं न कहीं आंतरिक विभाजन के बीज बो रहा है, जहाँ भाषा और क्षेत्र के आधार देश के टुकड़े हो रहे हैं, 

ऐसे में देश की आजादी एक छलावा सिद्ध होती है. आजाद भारत में अब एक नया जहर आरक्षण और फैल गया है. 

अधिकांश जातियां आरक्षण मांगने लगी है. राजनितिक दबाववश यदि ऐसी जातियों को आरक्षण दिया जाता है, 

जो इसके काबिल नहीं तो अनारक्षित वर्ग में असंतोष पनपता है. यदि आरक्षण ना दिया जाये तो हिंसक आंदोलन 

और जातिगत प्रतिद्वंद्विता सामने आती है. यह असंतोष समाज और देश के लिए घातक सिद्ध हो रहा है. कुल मिलाकर यदि समय रहते देश की चिंता ना की गई तो हमारी आजादी फिर खतरे में होगी.

अगला लेख: जीने की राह



सही कहा।

mhavirsinghal
15 जून 2016

गुड

mhavirsinghal
15 जून 2016

गुड

mhavirsinghal
15 जून 2016

गुड

mhavirsinghal
15 जून 2016

गुड

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
रायपुर के राजा तेजसिंह की प्रजा राजा को बहुत चाहती थी, और राजा भी अपनी प्रजा का अपने बच्चों की तरह ख्याल रखता था, लेकिन राजा को इस बात का धीरे धीरे घमंड होने लगा कि उसके जैसा शासन कोई नही कर सकता एवं जितनी सुखी प्रजा उसके राज में है ऐसी किसी अन्य के राज में नही है. ये घमंड दूर करने के लिये मंत्री ने
23 जून 2016
07 जून 2016
कि
श्याम जी को अपने मकान के लिए कई दिनों से किरायेदार की तलाश थी.  मेरे एक मित्र का ट्रांसफर मेरे ही शहर में हो गया. उसने रहने के लिए मुझसे किराये का कमरा दिलवाने को कहा. मैं और मेरा मित्र श्याम जी का कमरा देखने चले गए. कमरा मित्र कोपसंद भी आ गया, लेकिन श्याम जी को जैसे ही पता लगा मेरा मित्र दूसरे धर्म
07 जून 2016
16 जून 2016
सा
पाँच जून को विश्व पर्यावरण दिवस पर दुनिया भर में जागरुकता की दृष्टि से कई आयोजन होते हैं, और इस वर्ष भी हुए थे. यह ख़ुशी की बात है कि पिछले कुछ अरसे में पर्यावरण सुरक्षा की ओर लोग पहले से अधिक जागरूक हुए हैं. लेकिन पेड़ - पौधों और वायुमंडल से जुड़े पर्यावरण के संरक्षण के अलावा एक और प्रदूषण की रोकथाम भ
16 जून 2016
06 जून 2016
बरसात के मौसम में सड़क के खड्डो से गुजरती बस, धचके खाती चली जा रही थी. सीटों पर बैठे बूढ़े, बच्चे और अन्य यात्री धक्के खाते एक - दूसरे पर गिर रहे थे. उन्ही के बीच, दोनों सीटों के मध्य, एक युवती नीचे गठरी पर बैठी थी. शरीर पर मैले - कुचैले कपड़े और हाथों में एक 7-8 महीने का बालक था. उसी के पास एक वर्दी व
06 जून 2016
19 जून 2016
रा
किसी भी देश की राजनीति उस देश के विकास देशवासियों के हितार्थ होती है. भारत में पहले राजतंत्र था. तमाम राजा अपने प्रभुत्व अपनी शक्ति और पराक्रम से अपने राज्य काविस्तार करते थे.राजाओं की आपसी लड़ाई दुश्मनी के कारण ही भारत गुलाम हो गया.आठ सौ साल गुलामी झेलने के बाद बड़ी त्याग तपस्या और वलिदान के बाद भारत
19 जून 2016
17 जून 2016
आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है? यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले 
17 जून 2016
24 जून 2016
प्
प्रेम किसी के लिये ज़िम्मेदारी है तो किसी के लिये वफादारी. किसी के लिये प्रेम लालसा है तो किसी की वासना, कोई अपनी सुविधा देखकर प्रेम करता है तो कोई आपसी योग्यता को देखकर. प्रेम की गहराई नापना असंभव है. लोग किसी महिला और पुरुष के संबंध को प्रेम मानते है, तो क्या एक माँ का अपने पुत्र या पुत्री के प्रति
24 जून 2016
09 जून 2016
जीवन में सफलता तो आवश्यक है ही लेकिन यह भी आश्यक है कि आप जीवन से संतुष्ट एवं प्रसन्न रहें. धन और शोहरत तो जरूरी है लेकिन उनके पीछे भागते रहने से मौजूदा जीवन पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ना चाहिये. अक्सर लोग परेशान रहते है कि जीवन में सुख नहीं है, लेकिन यह सुख दरअसल आपके हाथ में ही है. बस आपको पहचानना है 
09 जून 2016
20 जून 2016
 हमारा देश भारत धर्म निरपेक्ष देश होते हुए भी ऐसा धर्म प्रधान देश है कि धर्म के बिना भारत कैसा होगा इसकी कल्पना भी करना कठिन है. धर्म का वैचारिक अर्थ है जिसे धारण किया जाये या फिर वह कर्तव्य जिसे पूर्ण निष्ठा के साथ निभाया जाये, कबीर दास जी ने भी अपने एक दोहे में कहा है " दया धर्म का मूल है" लेकिन 
20 जून 2016
27 जून 2016
छात्रों के पास से गुज़रती प्रोफेसर के कानो में कुलदीप की एक बात पड़ी। "हमारे पूर्वजो ने तुम्हे बचाया। तुम लोगो के घर-बार और तुम्हारी बहु-बेटियों की इज़्ज़त लुटने से बचाने वाले हम लोग ही थे। अगर हम न होते तो क्या होता तुम्हारे समुदाय का?"प्रोफेसर के कदम थम गए, ऐसा वाक्य उन्होंने पहली बार नहीं सुना था। वो
27 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x