अपना लहू बहा देंगे(कविता)"ये वतन"पुस्तक

14 जून 2016   |  अवनीश कुमार मिश्रा   (179 बार पढ़ा जा चुका है)

वीर जवां हूँ इसी वतन का
इस देश को न झुकने देंगे
लेकर हाँथों में खड़ग ,
सर काटेंगे ,कटवा भी लेंगे
कट जाऐंगे सर फिर भी ,
आखिर तक लड़ते रहेंगे
हम अपने वतन के खातिर अपना लहू बहा देंगे|

भारतवासी हैं हम सब जन
गैर गुलामी नहीं सहेंगें
बर्छी और भाले लेकर
हम बिना खड़ेदे नहीं रहेंगें
गर नहीं खड़ेदे दुश्मन को ,
तो दुनिया वाले कापुरुष कहेंगें
हम अपने वतन के खातिर अपना लहू बहा देंगे ||

अगला लेख: कुर्सी का खेल (व्यंग)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2016
इश्क करती नहीं मुझे,तो तेरी आँखे क्यों नम हैमैं मर रहा हूँ तेरे याद में तो आपको क्या गम है खोया रात भर रहता हूँ ,तेरे ही सपने हरदम देखा करता हूँ जब करती नही प्यार मुझसे,दिल को कोसता हूँ दिल धड़कने लगता है ,जब तुझको देखता हूँ इक बार गौर से देखो ,ये चेहरा क्या हसीन कम हैमैं मर रहा हूँ तेरे याद में तो
12 जून 2016
14 जून 2016
नेता जी भाषण देने पहुचे तो जनता देखकर दंग रह गई |असल में नेता जी की हिरनी जैसी चाल जो थी सभी नेता जी के चाल के दिवाने हो गये |अब नेता जी आते-जाते दिखते तो लोग एकत्रित हो जाते हिरनी चाल का मजा लेने के लिए |लेकिन सचमुच ऐसी चाल नेताजी की नहीं थी |ये उनकी चाल थी जो गदहे जैसा चलने लायक नहीं वह हिरनी जैसा
14 जून 2016
16 जून 2016
हमारे देश में पहले की तुलना में अब बहुत कम वन रह गयें है इसका सबसे बड़ा कारण है बढ़ती आबादी और स्मार्टता ,और अन्य कारण भी है |हमारे देश के वासी दूसरों की कापी करने में बहुत आगे रहते हैं |इसी का नतीजा है कि आयुर्वेदिक को छोड़कर अंग्रेजी दवाईयां प्रयोग करते हैं |लेकिन वन काट दिये तो जड़ी -बूटियाँ कहाँ
16 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x