ये तू ने क्या किया (शायरी)"दर्दीला-इश्क"पुस्तक

14 जून 2016   |  अवनीश कुमार मिश्रा   (203 बार पढ़ा जा चुका है)

बेदर्द था मैं उसने दर्द दे दिया ,
जब तक दर्द सह सका ,
तब तक दर्द सह लिया
इक दिन जब दर्द ने मार दी ठोकर ,
मुख से यकायक निकल पड़ा ,
बेवफा ये तूने क्या किया |

अगला लेख: कुर्सी का खेल (व्यंग)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 जून 2016
नेता जी भाषण देने पहुचे तो जनता देखकर दंग रह गई |असल में नेता जी की हिरनी जैसी चाल जो थी सभी नेता जी के चाल के दिवाने हो गये |अब नेता जी आते-जाते दिखते तो लोग एकत्रित हो जाते हिरनी चाल का मजा लेने के लिए |लेकिन सचमुच ऐसी चाल नेताजी की नहीं थी |ये उनकी चाल थी जो गदहे जैसा चलने लायक नहीं वह हिरनी जैसा
14 जून 2016
22 जून 2016
हमारे देश में आक्सीजन की कमीं दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है लेकिन फिर भी वन काटें जा रहे है हैं इसका खामियाजा आने वाले बरषों में लोगों को होगा |जब मनुष्य को सांस लेना भी दूभर हो जाएगा तब वही लोग आयेगें और कहेंगे आपने सही कहा था |वन से सिर्फ आक्सीजन अपितु वनस्पति ,जड़ी-बूटी आदि के अलावा पानी बरसाने म
22 जून 2016
12 जून 2016
आज हमारे देश में पहले जैसी बात नही रही हमारे देश का का संविधान है संविधान में बाल श्रम कराने वाले को अपराधी माना जाता है फिर भी हमारे देश में बहुत से आदमी ऐसे हैं जो आज भी बाल श्रम कराते है और उन्हें कानून से तनिक भी ड़र नही लगता |बहुत बच्चे ऐसे भी जो मजबूरी में श्रम करतें है उन्हें न किसी सरकारी यो
12 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x