मै पानी बना नहीं सकता....... बचा सकता हूँ

15 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (329 बार पढ़ा जा चुका है)

कलयुग में किल्लत से घिरा पानी अमृत से कम नहीं 

जिसे बचाना ग्राम से लेकर विश्व स्तर तक जरूरी है. पानी की कमी क्या हुई, मुनाफाखोरों की तो मानो चांदी हो गई. ऐसे में निजी क्षेत्र ने पानी से चांदी कूटने का रास्ता निकाल लिया. करीब हर छोटे गाँव से लेकर शहर में टैंकर का 

पानी नकदी के एवज में उपलब्ध है. बड़े शहरों में पानी की बड़ी बोतलें महँगी दरों पर कॉलोनियों में सप्लाई हो रही है. कई बस स्टैंडों पर तो रेहड़ी पर बड़े मटके लेकर बैठे विक्रेता पाँच- सात रुपये प्रति बोतल लेकर पानी भरते नज़र 

आते है. मुफ़्त में पानी भरने पर होटल वाला अब भौहें चढ़ा लेता है. ऐसे में जल संरक्षण पर विचार मंथन की जरूरत है.  जल संकट की केवल बात करने से काम नहीं चलेगा बल्कि सरकार के साथ ही हर नागरिक को अपने स्तर पर 

जागरुकता लाने और उपाय सुझाने की जिम्मेदारी निभानी होगी. सूखे इलाकों में रेन वाटर   हार्वेस्टिग को एक आदत बनाना होगा. इसके अलावा व्यक्तिगत जीवन में पानी के किफ़ायत से प्रयोग को जीवन शैली बनाना होगा. याद रखिए पानी से पनप रही है यह पृथ्वी और अगर पृथ्वी पर ज़िंदगी को बचाना है तो सबसे पहले पानी को ही बचाना होगा.

अगला लेख: दया धर्म का मूल है



बिल्कुल सही।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जून 2016
शि
शिष्टाचार व्यक्तित्व विकास का प्रमुख पहलू है. आज के युग में सफलता पाने के लिये जरूरी है कि  आप सभी वर्गों में लोकप्रिय हों और अपनी एक अलग पहचान बनाये. शिष्टाचार इसमें हमारी मदद करता है. हम दूसरों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद तभी कर सकते है जब स्वयम में शिष्टाचार होगा. संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के लिए 
18 जून 2016
24 जून 2016
प्
प्रेम किसी के लिये ज़िम्मेदारी है तो किसी के लिये वफादारी. किसी के लिये प्रेम लालसा है तो किसी की वासना, कोई अपनी सुविधा देखकर प्रेम करता है तो कोई आपसी योग्यता को देखकर. प्रेम की गहराई नापना असंभव है. लोग किसी महिला और पुरुष के संबंध को प्रेम मानते है, तो क्या एक माँ का अपने पुत्र या पुत्री के प्रति
24 जून 2016
06 जून 2016
बरसात के मौसम में सड़क के खड्डो से गुजरती बस, धचके खाती चली जा रही थी. सीटों पर बैठे बूढ़े, बच्चे और अन्य यात्री धक्के खाते एक - दूसरे पर गिर रहे थे. उन्ही के बीच, दोनों सीटों के मध्य, एक युवती नीचे गठरी पर बैठी थी. शरीर पर मैले - कुचैले कपड़े और हाथों में एक 7-8 महीने का बालक था. उसी के पास एक वर्दी व
06 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x