मानसूनी हाइकु़

16 जून 2016   |  डाॅ कंचन पुरी   (122 बार पढ़ा जा चुका है)

मानसूनी हाइकु़

1. 

आंधी की तेजी

बादलों की गर्जना

मानसून आ।

२.

मेघ गरजे

अम्मा बोल उठी

आ देख वर्षा।

3. 

बारिश होते 

अनोखी  सरगम 

खिली  हैं बाछें 

4. 

तूफान देख

मांझी लगा किनारे

चिंता घर की।

5. 

जून की तपस

खारी बूंदें लुढ़कीं

सूखता गला।

6. 

वर्षा रुके ना

लबालब सड़कें

प्रजा हैरान।

7. 

दरकते पेड़

बता रहे कहानी

आया तूफान।

8. 

बारिश बंद

उग पड़ा सूरज

इन्द्रधनुष।

9.

यज्ञ-प्रार्थना

बादल उमड़ते

मात्र प्रतीक्षा।


अगला लेख: शब्‍द सामर्थ्‍य बढ़ाएं-6



अभी मानसून आया नहीं है पर मानसूनी हाइकु को पढ़ने को मिल गए

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2016
1. जुगतक-युग, ख-युगल,ग-युक्ति2. जुगुप्साक-इच्छाख-निंदा, ग-क्रोध3. जेठाईक-बडप्पन, महत्त्वख-जेठ, ग-आयु4. जेय                   क-ढेर ख-तृणग-जो जीता जा सकेउत्तर 1. ग 2. ख 3. क 4. ग
12 जून 2016
20 जून 2016
1. झंझा  क-बहाव  ख-कष्ट   ग-आंधी  2. झक्की क-पागल ख-सनकी ग-विक्षिप्त 3. झलका क-छाला, फफोला   ख-चोट ग-कटा हुआ 4. झांसा       क-मारना ख-दौड़ाना ग-धोखा उत्तर 1. ग  2. ख 3. क 4. ग
20 जून 2016
26 जून 2016
सत्य की सड़क मिथ्या की चाैखट पर पहुंचकरमात्र एक गैलरी रह जाती हैऔर शेष भूमि परकविताएं लिख दी जाती हैं,कविताएंजो कभी भी किसी भी सूरत मेंसड्कें नहीं बन सकतीं।प्रशस्ति पत्रों से लिपटी सहमी ग्रामीण दुल्हनों जैसी जीवन भर चक्की पीसती रहती है, रोटियां पकाती रहती है और उधर मिथ्या की काली गैलरी में जेबें काट
26 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x