अजनबी जब से तुमको देखा है - राम लखारा 'विपुल'

16 जून 2016   |  राम लखारा   (234 बार पढ़ा जा चुका है)

अजनबी जब से तुमको देखा है - राम लखारा 'विपुल'

टेबल पर बैठ कर सोचता हूं क्या लिखूं? भविष्य को दुलारू या भूत को दुत्कारू।


कुछ भी तो नहीं लिखा जाता।


अभी आॅफिस पहुंचा हूं। चारों तरफ कागज के बण्डल बार बार यह एहसास करवाते रहते है, आरसी! दुनिया में अकेले तुम ही उपेक्षित नहीं हो। 


स्वीपर का काम है, मेरे आते ही सफाई करना। कर रहा है। 

अपने मोबाईल के आॅडियो प्लेयर से उसने गाना लगाया है, मेरे प्रिय गीतकार निदा फाजली का लिखा, लता का गाया फिल्म 'स्वीकार किया मैनें' का गाना ”अजनबी जब से तुमको देखा है“। 


अरे! कितना आसान है?


आप सोचो क्या लिखना है? तभी कोई झोंका आपके कान के पास से गुजरते हुए बता जाता है कि क्या लिखना है।

मनोवैज्ञानिक और बड़े लेखक इसे आकर्षण का नियम कहते है। हां! हां। यही कहते है।


फिर से खो गया हूं, उस अजनबी की याद में। जब पहले पहल देखा था, आज भी तो वैसी ही लगती है। 


आंखे भी कितनी खुदगर्ज है जो चीज उन्हें अच्छी लगती है, वो हमेशा उसे अच्छी दिखाती है।


#अतीत_के_पन्नों_से

अगला लेख: क्या हमें एक दूसरे की रचनाओं पर टिप्पणियां नहीं करनी चाहिए?



अच्छी रचना।

जी शुक्रिया

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x