निर्लिप्‍तता

17 जून 2016   |  डाॅ कंचन पुरी   (147 बार पढ़ा जा चुका है)

निर्लिप्‍तता

वुडरो विल्‍सन अमेरिका के सर्वोच्‍च पद की शोभा बढ़ाने के अलावा एक विद्वान और सुविचारक भी थे। वे लम्‍बी बीमारी के बाद भी जब स्‍वस्‍थ नहीं हुए तो एक दिन उनके अभिन्‍न मित्र ने उनसे कहा,'मित्र, अब तो शायद आपका समय निकट आ ही गया है।'

मित्र की बात सुनकर वुडरो विल्‍सन मुस्‍कराकर बोले,'मेरे प्रिय मित्र, मैं भी मृत्‍यु का स्‍वागत करने के लिए पूर्णतया तैयार हूं।'

अगला लेख: शब्‍द सामर्थ्‍य बढ़ाएं-6



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
डाॅ. केनेथ वाकर ने अपनी आत्मकथा में कहा है-‘आप जितना खाते हैं उसके आधे भोजन से पेट भरता है और आधे भोजन से डाॅक्टरों का पेट भरता है। आप आधा भोजन ही करें तो आप बीमार ही नहीं पड़ेंगे और डाॅक्टरों की कोई खास आवश्यकता नहीं रह जाएगी।’ डाॅ. केनेथ की यह बात अनुभूत है और व्यवहारोपयोगी है। सच में भूख से कम खा
23 जून 2016
20 जून 2016
          प्रेमचन्द हिन्दी के प्रथम मौलिक उपन्यासकार हैं। उन्होंने एक क्रमबद्ध एवं संगठित कथा देने का महत्त्वपूर्ण प्रयास किया है। उन्होंने हिन्दी के पाठकों की अभिरुचि को तिलिस्मी उपन्यासों की गर्त से निकालकर शुद्ध साहित्यिक नींव पर स्थिर किया। उनकी कला, उनका आदर्शवाद, उनकी कल्पना और सौन्दर्यानुभूति
20 जून 2016
12 जून 2016
1बुढ़ापा सदाअनुभव की खानसीख है देता ।2अकेला बूढ़ाबैठ खाँसता जाताघर के द्वार ।3उम्र से हारादुर्बल निढाल बूढ़ाबना बेचारा4सबको पालाअब हुआ अकेलाबची ना आस ।5कुल रौशन,करता है शोषणहै ना पोषण ।6पालक खोएजीवन का मान,रही ना शान ।7बारह बजेनाश्ता तक ना सजेपेट सिकुड़े ।8रखे ना ध्यानये लाडली संतानमारे है बान ।9तन
12 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x