इस मिट्टी पर ही हमे अपना स्वर्ग खड़ा करना है

17 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (164 बार पढ़ा जा चुका है)

आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है?

यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले हैं, गाँवो और शहरों में नेताओं की फ़ौज भी और बढ़ी है, लेकिन इनसे कहीं अधिक मज़दूर की बेबसी बढ़ी है, भूख बढ़ी है, मजदूरी कम और मजबूरी ज़्यादा बढ़ी है. लूटखसोट, ठगी, बेईमानी, घूसखोरी, गुटबंदी और न जाने ऐसा क्या क्या बढ़ा है. आज भी मुठ्ठी भर उद्योगपतियों, नेताओं और अफ़सरों को छोड़ दें तो अधिक भारतीय गरीबी रेखा के नीचे घिसटते नज़र आते हैं जिनके पास न पर्याप्त भोजन है, न कपड़े और न मकान....... फिर क्या मायने है इस आजादी के? यदि यही हालात रहे तो जनता के दिलों में आक्रोश पनपने लगेगा और ये आक्रोश एक नयी क्रांति को जन्म देगा और जो क्रांति आयेगी उसे सम्भालना मुश्किल हो जायेगा. इस क्रांति से बचने के लिए हमारे सामने कई चुनौतियाँ है. शक्ति और साहस के साथ हमे मिलकर इसका सामना करना होगा. सबको एक होकर, भेदभाव मिटाकर आगे बढ़ना होगा, नहीं तो हम पिछड़ जाएंगे. याद रखो इस मिट्टी को कितने ही शहीदों ने मिलकर  सींचा है, अब इस मिट्टी पर ही हमे अपना स्वर्ग खड़ा करना है, और ये सब तभी संभव होगा जब हम सत्य, आत्म नियंत्रण और त्याग के मार्ग पर चलेगें.

अगला लेख: प्रेम



mhavirsinghal
17 जून 2016

अच्छी हा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जून 2016
प्
प्रेम किसी के लिये ज़िम्मेदारी है तो किसी के लिये वफादारी. किसी के लिये प्रेम लालसा है तो किसी की वासना, कोई अपनी सुविधा देखकर प्रेम करता है तो कोई आपसी योग्यता को देखकर. प्रेम की गहराई नापना असंभव है. लोग किसी महिला और पुरुष के संबंध को प्रेम मानते है, तो क्या एक माँ का अपने पुत्र या पुत्री के प्रति
24 जून 2016
10 जून 2016
बे
पिताजी की मृत्यु को एक महीना ही हुआ था. शान्तनु के सिर पर ही बहिन की शादी और घर की जिम्मेदारी का बोझ आ गया.  पिताजी की बीमारी में भी बहुत खर्च हो चुका था. घर के हालात को माँ समझती थी, लेकिन बेबस थी, फिर शान्तनु के भी तो दो लड़कियाँ थी, जिनको पढ़ाना - लिखाना और उनके ब्याह के लिए भी कुछ जोडना. सब कुछ दे
10 जून 2016
18 जून 2016
शि
शिष्टाचार व्यक्तित्व विकास का प्रमुख पहलू है. आज के युग में सफलता पाने के लिये जरूरी है कि  आप सभी वर्गों में लोकप्रिय हों और अपनी एक अलग पहचान बनाये. शिष्टाचार इसमें हमारी मदद करता है. हम दूसरों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद तभी कर सकते है जब स्वयम में शिष्टाचार होगा. संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के लिए 
18 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x