अनमोल आजादी

18 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (107 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@-अनमोल आजादी -@@@@@@@

************************************************************

सन अठारह सौ सतावन का .वो वक्त बहुत अनूठा था |

जन -विद्रोह का ज्वालामुखी ,जब भारत में फूटा था ||

भारतीयों ने अंग्रेजों के संग ,जब खुनी होली खेली थी |
अंग्रेज जिसको ग़दर कहते ,वो आजादी की जंग पहली थी ||
सुहागिनों ने सुहाग खोया ,माताओं ने खोये अपने लाल |
बहनों को भाई खोने पड़े ,हो गयी धरा खून से लाल ||
आजादी की उस पहली जंग में ,चाहे हमारी हार हुई |
पर निज देश पर -मिटने की भावना साकार हुई ||
जोश ,जुनून और जज्बात का ,वो युग कभी का बीत गया |
त्याग भाव से भरा दिल ,न जाने क्यों कर रीत गया ||
अनेक वीरों के बलिदानों से, आजादी तो हम पा गये|
पर भ्रष्टाचार के काले बादल ,सारे भारत में छा गए ||
अब भ्रष्टनेता भाषणों में ,ईमान का पाठ पढ़ाते हैं |
और दुराचारी लोग हमको ,गरिमा का पाठ पढ़ाते हैं ||
जैसे नेता वैसी जनता ,भ्रष्टाचार का दरिया बहता |
लगाते डुबकी उसमें दोनों ,फिर कौन किसी को दागी कहता ||
लोकतन्त्र के नाम पर, अब लूटतन्त्र का राज है |
लालच में डूबे देश पर ,अब कौन करता नाज है |
मूल्य बढ़ गए वस्तुओं के ,पर नैतिक मूल्य गिर गये |
आदर्शों पर चलने वाले ,संकटों से गिर गये||
मिलावटी खाद्य -पेय धड़ल्ले से ,बेच रहे हैं व्यापारी |
बेमौत मारती जनता चाहे ,पर होता लाभ उनको भारी ||
भ्रष्टाचार और जनसंख्या वृद्धि ,अब हमारे राष्ट्रीय खेल हैं|
इनमें चेम्पियन बनाने खातिर ,जनता में पूरा मेल है ||
आज देश के झूठे नेता ,झूठा ढोल पीटते हैं |
नारे लगाते समाजवाद के,और मंचों पर चीखते हैं ||
आजादी हमने दिलवायी ,यह झूठा दावा करते हैं |
और भ्रष्टाचार के जंगल में ,घूस का चारा चरते हैं ||
ऐसे भ्रष्ट नेताओं को ,हमें सबक सीखाना है |
और भ्रष्टाचार को भारत से ,हमें दूर भगाना है ||
अपील जागरूक जनता से ,इस कवि कुंवर दुर्गेश की |
बदल डालो अपनी मेहनत से ,यह बिगड़ी हालत देश की ||
**************************************************************

अगला लेख: नकारे नेता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जून 2016
सृष्टि और समाज की कमियों व विसंगतियों पर कटाक्षकरती हास्य कविता -@@@-अनूठा सपना-@@@*********************************************************झूठ -कपट और बेईमानी देख ,मैं बहुत उदास था |भ्रष्टाचार भरा संसार मुझको ,आया नहीं रास था ||उड़ जाते हैं बाल सर के ,पर बेकार बाल तंग करते |ढल जाता तन बुढ़ापे में ,वै
15 जून 2016
23 जून 2016
भा
राष्ट्र भक्ति से परिपूर्ण कविता - @@@@@@@@भारत का नव निर्माण@@@@@@@@ पाखंडियों की पोल खोले हम ,सज्जनों का हम कल्याण करें | आओ साथियों हम सब मिलकर ,भारत का नव निर्माण करें|| सीमाओं को हम खून से सींचे ,और सींचे खेत पसीने से | दुश्मन को हम धूल चटा दें ,दोस्त को लगाए सीने से || बलात्कारी को बधिया करदे ,
23 जून 2016
09 जून 2016
लू
रिश्वत खोरी पर व्यंग करती कविता -लूट की छूट लूट कर यात्रियों को लूटेरों ने ,लौटा दिया सारा धन -माल |सोचने लगे यात्री सारे ,क्या है यह कोई इनकी चाल ?|डर रहे थे सब यात्री ,पर एक बालक बोला करते खाज |डाकू सर प्लीज बताओ , इस दया का क्या है राज ?|डाकू बोला ,यह दया नहीं है ,यह है रिश्वत का सवाल |हर लूट पर
09 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x