इस हफ्ते का साप्ताहिक ज्ञान

18 जून 2016   |  देवेन्द्र प्रसाद   (212 बार पढ़ा जा चुका है)

😂
झूठ बोलना …

बच्चों के लिए … पाप ,,

कुंवारों के लिए …. अनिवार्य ,,

प्रेमियों के लिए ….. कला ,,
और …

शादीशुदा लोगों के लिए … 
शान्ति से जीने का मार्ग होता है....!!""


ये है इस हफ्ते का साप्ताहिक ज्ञान।

बड़ी मुश्किल से ढूंढ़ कर निकाला है।

गीता में लिखना रह गया था।

अगला लेख: नींबू की चमत्कारिक शक्तियां



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जून 2016
पितामह भीष्म के जीवन का एक ही पाप था कि उन्होंने समय पर क्रोध नहीं किया।औरजटायु के जीवन का एक ही पुण्य था कि उसने समय पर क्रोध किया।परिणामस्वरुप,एक को बाणों की शैय्या मिली,औरएक को प्रभु श्रीराम की गोद!अतः क्रोध भी तब पुण्य बन जाता है जब वह धर्म और मर्यादा के लिए किया जाए, और सहनशीलता भी तब पाप बन जा
09 जून 2016
13 जून 2016
चाहे भोजन करने के लिए कुर्सियों का जंग हो या नेताओं के बीच सत्ता का लेकिन कुर्सी का खेल बड़ा ही निराला है कोई मेज के लिए झगड़ा क्यों नहीं करते क्या खास बात है कुर्सी में इसे तो ऐसे ही समझ लेना चाहिए कि आज से ही मोदी क्यों इलाहाबाद जाकर अपनी कुर्सी पक्का करने में जुट गयें हैं |ये दूसरो को बेकार और अप
13 जून 2016
17 जून 2016
गु
आत्म कल्याण की इच्छा से महाराज अजातशत्रु ने तप करने का निश्चय किया। लोगों ने बताया इससे पूर्व कि आप कोई साधना प्रारम्भ करें एक मार्गदर्शक गुरु वरण करना आवश्यक है। बिना गुरु के साधनाएँ सफल नहीं होती। अजातशत्रु ने यह बात मान ली पर अब एक नई समस्या उठ खड़ी हुई कि गुरु किसे बनाया जाये? लोगों ने यह बताया
17 जून 2016
10 जून 2016
मू
(प्रश्न) मूर्त्तिपूजा कहां से चली?(उत्तर) जैनियों से(प्रश्न) जैनियों ने कहां से चलाई?(उत्तर) अपनी मूर्खता से।(प्रश्न) जैनी लोग कहते हैं कि शान्त ध्यानावस्थित बैठी हुई मूर्त्ति देख के अपने जीव का भी शुभ परिणाम वैसा ही होता है।(उत्तर) जीव चेतन और मूर्त्ति जड़। क्या मूर्त्ति के सदृश जीव भी जड़ हो जायगा?
10 जून 2016
21 जून 2016
भा
इसी संदर्भ में Vinay Jha ji विनय झा जी की यह पोस्ट संदर्भित है- भारत मे जितने प्राचीन प्रमाणिक ग्रन्थ उपलब्ध हैं उतने शेष संसार में नहीं हैं | यह दूसरी बात है कि म्लेच्छ और उनके मानसपुत्र ऋषियों के ग्रन्थों को प्रामाणिक नहीं मानते | भारत के सभी पुस्तकालय जला दिए गए, मन्दिरों से संलग्न पाठशालाएं मन्
21 जून 2016
17 जून 2016
वि
मेरे एक दोस्त का नाम है 'दिव्यांग'।19 साल पहले उसके माता पिता को किसी ने नहीं बताया कि मोदीजी जब PM बनेंगे तो विकलांग को दिव्यांग कहेंगे...अब दिव्यांग जब भी अपना नाम किसी को बताता है तो लोग उसके हाथ पैर देखने लगते हैं..... 😂😂😂😂
17 जून 2016
22 जून 2016
मित्रो प्रस्तुत है एक नवगीतसच ही बोलेंगे-------------------हम अभी तक मौन थे अब भेद खोलेंगेसच कहेंगे सच लिखेंगे सच ही बोलेंगेधर्म आडम्बर हमें कमजोर करते हैंजब छले जाते तभी हम शोर करते हैंबेंचकर घोड़े नहीं अब और सोंयेंगेमान्यताओं का यहॉ पर क्षरण होता है घुटन के वातावरण कावरण होता हैऔर कब तक आश में वि
22 जून 2016
09 जून 2016
हम सभी रोटी, साग, चावल, दाल का आहार मिला-जुला कर करते हैं। ऐसा नहीं होता कि कुछ समय दाल ही पीते रहे-कुछ शाक खाकर रहे,फिर चावल खाया करे और बहुत दिन बाद केवल रोटी पर ही निर्भर रहे। स्कूली पढ़ाई में भाषा, गणित, भूगोल, इतिहास की पढ़ाई साथ चलती है, ऐसा नहीं होता कि एक वर्ष भाषा दूसरे वर्ष गणित तीसरे वर्ष
09 जून 2016
18 जून 2016
स्
स्वप्नों और अदृश्य प्रेरणाओं द्वारा जिन व्यक्तियों को किन्हीं महत्वपूर्ण विषयों की प्रेरणा प्राप्त होती है, उन सबकी यही सम्मति है कि जिन व्यक्तियों में पारस्परिक हार्दिक प्रेम, स्नेह होता है, वे दूर रहते हुए भी एक-दूसरे के सुख-दुःख की जानकारी प्राप्त कर लेते हैं। युद्ध में जो व्यक्ति मारे जाते हैं,
18 जून 2016
18 जून 2016
तु
तुम परमात्मा की आधी शक्ति के मध्य में खड़े हो, तुमसे ऊँचे देव, सिद्ध और अवतार हैं तथा नीचे पशु-पक्षी, कीट-पतंग आदि हैं। ऊपर वाले केवल मात्र सुख ही भोग रहे हैं और नीचे वाले दु:ख ही भोग रहे हैं। तुम मनुष्य ही ऐसे हो, जो सुख और दु:ख दोनों एक साथ भोगते हो। यदि तुम चाहो तो नीचे पशु-पक्षी भी हो सकते हो और
18 जून 2016
13 जून 2016
नी
1-शुद्ध शहद में नींबू की शिकंजी पीने से मोटापा दूर होता है।2-नींबू के सेवन से सूखा रोग दूर होता है।3-नींबू का रस एवं शहद एक-एक तोला लेने से दमा में आराम मिलता है।4-नींबू का छिलका पीसकर उसका लेप माथे पर लगाने से माइग्रेन ठीक होता है।5- नींबू में पिसी काली मिर्च छिड़क कर जरा सा गर्म करके चूसने से मलेर
13 जून 2016
21 जून 2016
ज्
दुनियाँ में लक्ष्मी, विद्या, प्रतिष्ठा, बल, पद, मैत्री, कीर्ति, भोग, ऐश्वर्य आदि को बड़ा फल माना जाता है। यह सब -ज्ञान-रूपी वृक्ष के फल हैं। ज्ञान के अभाव में इनमें से एक भी वस्तु प्राप्त नहीं हो सकती। इस लोक के सारे सुख ज्ञान के ऊपर निर्भर हैं, परलोक का सुख भी ज्ञान द्वारा ही सम्पादित होता हैं। विव
21 जून 2016
27 जून 2016
मन बड़ा बलवान् शत्रु है। इससे युद्ध करना भी अत्यंत दुष्कर कृत्य है। इससे युद्ध में एक विचित्रता है। यदि युद्ध करने वाला दृढ़ता से युद्ध में संलग्न रहे, निज इच्छाशक्ति को मन के व्यापारों पर लगाए रहे, तो युद्ध में संलग्न सैनिक की शक्ति अधिकाधिक बढ़ती है और एक दिन वह इस पर पूर्ण विजय प्राप्त कर लेता है
27 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x