शिष्टाचार बनाता है लोकप्रिय

18 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (198 बार पढ़ा जा चुका है)

शिष्टाचार व्यक्तित्व विकास का प्रमुख पहलू है. आज के युग में सफलता पाने के लिये जरूरी है कि  आप सभी वर्गों में लोकप्रिय हों और अपनी एक अलग पहचान बनाये. शिष्टाचार इसमें हमारी 

मदद करता है. हम दूसरों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद तभी कर सकते है जब स्वयम में शिष्टाचार होगा. संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के लिए हमे थोड़ा बहुत समझौता करना पड़ता है. हमारे थोड़ा सा झुक जाने से हम छोटे नहीं हो जाते बल्कि हम परिवार टूटने से बचा सकते है. परिवार को जोड़े रखने के लिए सहनशीलता और सूझबूझ आवश्यक है, जो परिवार के हर सदस्य में होनी चाहिए. मेरी - तेरी की भावना शिष्टाचार के विरुद्ध जाती है. पारिवारिक शिष्टाचार कहता है की सोच समझकर एवं दूसरों की भावना को जानकर ही बात कही जाये. ऐसी भावना ही परिवार में हमें सबका चहेता बनाती है. लोगों को अपने व्यवहार से यदि अपना बनाना हो तो जरूरी है उनके बीच रहकर जिस व्यवहार की वे हमसे अपेक्षा

रखते है हम वैसा ही करें. शिष्टाचार हमे अपनी  मँजिल पर पहुँचाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यदि किसी अध्यापक में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने छात्रों का चहेता कभी नहीं बन सकता. इसी प्रकार एक डॉक्टर में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने मरीज़ के दर्द को कम नहीं कर सकता. यदि डॉक्टर अपने मरीज़ से शिष्टाचार अपनाये तो मरीज़ का दर्द कम कर सकता है और उसको बड़ी से बड़ी बीमारी

से भी लड़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है. शिष्टाचार और खुशमिज़ाजी ही हमें लोगों से अलग दर्शाती है और हम जिस क्षेत्र में कार्यरत है यदि उस क्षेत्र के लोगो 

पर हमारा शिष्टाचार छा गया तो सफलता हमारे कदम चूमेगी.

अगला लेख: प्रेम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 जून 2016
बरसात के मौसम में सड़क के खड्डो से गुजरती बस, धचके खाती चली जा रही थी. सीटों पर बैठे बूढ़े, बच्चे और अन्य यात्री धक्के खाते एक - दूसरे पर गिर रहे थे. उन्ही के बीच, दोनों सीटों के मध्य, एक युवती नीचे गठरी पर बैठी थी. शरीर पर मैले - कुचैले कपड़े और हाथों में एक 7-8 महीने का बालक था. उसी के पास एक वर्दी व
06 जून 2016
11 जून 2016
फू
शाम के 6 बज चुके थे घर जाते हुए अक्सर मै मंदिर की सीढ़ियों पर बैठ जाया करता था. उस दिन मेरी नज़र फूल बेचने वाली पर पड़ी. 10-12 साल की एक मासूम लड़की, बदन पर मैली सी फ्रॉक, हाथों में फूलो की टोकरी लिये वह मंदिर जाने वाले सभी लोगो के पीछे दौड़ती और कहती, " फूल ले लो बाबूजी, भगवान पर चढ़ा देना वो खुश हो जाएं
11 जून 2016
09 जून 2016
जीवन में सफलता तो आवश्यक है ही लेकिन यह भी आश्यक है कि आप जीवन से संतुष्ट एवं प्रसन्न रहें. धन और शोहरत तो जरूरी है लेकिन उनके पीछे भागते रहने से मौजूदा जीवन पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ना चाहिये. अक्सर लोग परेशान रहते है कि जीवन में सुख नहीं है, लेकिन यह सुख दरअसल आपके हाथ में ही है. बस आपको पहचानना है 
09 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x