शिष्टाचार बनाता है लोकप्रिय

18 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (201 बार पढ़ा जा चुका है)

शिष्टाचार व्यक्तित्व विकास का प्रमुख पहलू है. आज के युग में सफलता पाने के लिये जरूरी है कि  आप सभी वर्गों में लोकप्रिय हों और अपनी एक अलग पहचान बनाये. शिष्टाचार इसमें हमारी 

मदद करता है. हम दूसरों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद तभी कर सकते है जब स्वयम में शिष्टाचार होगा. संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के लिए हमे थोड़ा बहुत समझौता करना पड़ता है. हमारे थोड़ा सा झुक जाने से हम छोटे नहीं हो जाते बल्कि हम परिवार टूटने से बचा सकते है. परिवार को जोड़े रखने के लिए सहनशीलता और सूझबूझ आवश्यक है, जो परिवार के हर सदस्य में होनी चाहिए. मेरी - तेरी की भावना शिष्टाचार के विरुद्ध जाती है. पारिवारिक शिष्टाचार कहता है की सोच समझकर एवं दूसरों की भावना को जानकर ही बात कही जाये. ऐसी भावना ही परिवार में हमें सबका चहेता बनाती है. लोगों को अपने व्यवहार से यदि अपना बनाना हो तो जरूरी है उनके बीच रहकर जिस व्यवहार की वे हमसे अपेक्षा

रखते है हम वैसा ही करें. शिष्टाचार हमे अपनी  मँजिल पर पहुँचाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यदि किसी अध्यापक में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने छात्रों का चहेता कभी नहीं बन सकता. इसी प्रकार एक डॉक्टर में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने मरीज़ के दर्द को कम नहीं कर सकता. यदि डॉक्टर अपने मरीज़ से शिष्टाचार अपनाये तो मरीज़ का दर्द कम कर सकता है और उसको बड़ी से बड़ी बीमारी

से भी लड़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है. शिष्टाचार और खुशमिज़ाजी ही हमें लोगों से अलग दर्शाती है और हम जिस क्षेत्र में कार्यरत है यदि उस क्षेत्र के लोगो 

पर हमारा शिष्टाचार छा गया तो सफलता हमारे कदम चूमेगी.

अगला लेख: प्रेम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जून 2016
बे
पिताजी की मृत्यु को एक महीना ही हुआ था. शान्तनु के सिर पर ही बहिन की शादी और घर की जिम्मेदारी का बोझ आ गया.  पिताजी की बीमारी में भी बहुत खर्च हो चुका था. घर के हालात को माँ समझती थी, लेकिन बेबस थी, फिर शान्तनु के भी तो दो लड़कियाँ थी, जिनको पढ़ाना - लिखाना और उनके ब्याह के लिए भी कुछ जोडना. सब कुछ दे
10 जून 2016
21 जून 2016
यो
योग भारतीय संस्कृति की एक महत्वपूर्ण  वीध्या है. योग से हमारा सर्वांगीण, शरीरिक, मानसिक, बौद्धिक, व्यवहारिक विकास होता है. योग जीवन जीने की कला है, जिसे सीखकर व्यक्ति स्वस्थ रहता है, जीवन में सफल होता है. जीवन दिव्य बनाता है और अपना भाग्य बदलने में सक्षम होता है. योग सर्वांगीण विकास करने वाली कला ह
21 जून 2016
08 जून 2016
बु
गर्मी के मौसम में अक्सर मैं समुद्र किनारे घूमने निकल जाया करता था, और वहीं बैठा समुद्र की ठंडी लहरों का आनंद लेता. उस दिन जब मैं समुद्र किनारे पेड़ के नीचे बैठा था तो मेरी नज़र एक कीड़े पर पड़ी. वह अपने बिल तक पहुंचने के लिए बहुत कोशिश कर रहा था, लेकिन बार - बार लहरें आती और उसे पीछे ले जाती. वह भी अपने
08 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x