शिष्टाचार बनाता है लोकप्रिय

18 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (219 बार पढ़ा जा चुका है)

शिष्टाचार व्यक्तित्व विकास का प्रमुख पहलू है. आज के युग में सफलता पाने के लिये जरूरी है कि  आप सभी वर्गों में लोकप्रिय हों और अपनी एक अलग पहचान बनाये. शिष्टाचार इसमें हमारी 

मदद करता है. हम दूसरों से अच्छे व्यवहार की उम्मीद तभी कर सकते है जब स्वयम में शिष्टाचार होगा. संबंधों में प्रगाढ़ता लाने के लिए हमे थोड़ा बहुत समझौता करना पड़ता है. हमारे थोड़ा सा झुक जाने से हम छोटे नहीं हो जाते बल्कि हम परिवार टूटने से बचा सकते है. परिवार को जोड़े रखने के लिए सहनशीलता और सूझबूझ आवश्यक है, जो परिवार के हर सदस्य में होनी चाहिए. मेरी - तेरी की भावना शिष्टाचार के विरुद्ध जाती है. पारिवारिक शिष्टाचार कहता है की सोच समझकर एवं दूसरों की भावना को जानकर ही बात कही जाये. ऐसी भावना ही परिवार में हमें सबका चहेता बनाती है. लोगों को अपने व्यवहार से यदि अपना बनाना हो तो जरूरी है उनके बीच रहकर जिस व्यवहार की वे हमसे अपेक्षा

रखते है हम वैसा ही करें. शिष्टाचार हमे अपनी  मँजिल पर पहुँचाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यदि किसी अध्यापक में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने छात्रों का चहेता कभी नहीं बन सकता. इसी प्रकार एक डॉक्टर में शिष्टाचार नहीं है तो वह अपने मरीज़ के दर्द को कम नहीं कर सकता. यदि डॉक्टर अपने मरीज़ से शिष्टाचार अपनाये तो मरीज़ का दर्द कम कर सकता है और उसको बड़ी से बड़ी बीमारी

से भी लड़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है. शिष्टाचार और खुशमिज़ाजी ही हमें लोगों से अलग दर्शाती है और हम जिस क्षेत्र में कार्यरत है यदि उस क्षेत्र के लोगो 

पर हमारा शिष्टाचार छा गया तो सफलता हमारे कदम चूमेगी.

अगला लेख: दया धर्म का मूल है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जून 2016
कि
श्याम जी को अपने मकान के लिए कई दिनों से किरायेदार की तलाश थी.  मेरे एक मित्र का ट्रांसफर मेरे ही शहर में हो गया. उसने रहने के लिए मुझसे किराये का कमरा दिलवाने को कहा. मैं और मेरा मित्र श्याम जी का कमरा देखने चले गए. कमरा मित्र कोपसंद भी आ गया, लेकिन श्याम जी को जैसे ही पता लगा मेरा मित्र दूसरे धर्म
07 जून 2016
23 जून 2016
रायपुर के राजा तेजसिंह की प्रजा राजा को बहुत चाहती थी, और राजा भी अपनी प्रजा का अपने बच्चों की तरह ख्याल रखता था, लेकिन राजा को इस बात का धीरे धीरे घमंड होने लगा कि उसके जैसा शासन कोई नही कर सकता एवं जितनी सुखी प्रजा उसके राज में है ऐसी किसी अन्य के राज में नही है. ये घमंड दूर करने के लिये मंत्री ने
23 जून 2016
17 जून 2016
आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है? यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले 
17 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x