दया धर्म का मूल है

20 जून 2016   |  प्रिंस सिंघल   (2028 बार पढ़ा जा चुका है)

 हमारा देश भारत धर्म निरपेक्ष देश होते हुए भी ऐसा धर्म प्रधान देश है कि धर्म के बिना भारत कैसा होगा इसकी

कल्पना भी करना कठिन है. धर्म का वैचारिक अर्थ है जिसे धारण किया जाये या फिर वह कर्तव्य जिसे पूर्ण निष्ठा के साथ निभाया जाये, कबीर दास जी ने भी अपने एक दोहे में कहा है " दया धर्म का मूल है" 

लेकिन यहां तो जन समुदाय में धर्म के नाम पर चिंगारी हमेशा सुलगती रहती है जिसे जो चाहे जब चाहे थोड़ी सी हवा 

देकर एक अग्नि कांड में परिवर्तित कर सकता है. कई लड़ायी झगड़ो के पीछे किसी न किसी का कोई न कोई धर्म अवश्य रहा है. कुछ लोगों ने अपने धर्म को संपूर्ण संसार में फैलना ही अपना धर्म समझा, और जो भी लोग इसमें बाधक बने उन्हें गाजर मूली की तरह काट दिया गया. क्रूरता यहां तक भी बढ़ी कि कुछ लोगों ने दूसरे धर्म के हर निशान को मिटाना चाहा. ग्रंथों और पोथियों को भी जला डाला इससे भी अधिक खेद की बात यह है इतना कुछ करने के बाद भी ये लोग धर्म 

के सच्चे अनुयायी कहलाते रहे. एक विचारक ने कहा है "लोग धर्म के लिये सोचेंगे, लिखेंगे, लड़ेंगे और मरेंगे लेकिन जीयेंगे नही", जबकि धर्म हमें जीना सिखाता , दया भाव सिखाता है और सबसे बड़ी बात धर्म हमें भाईचारा सिखाता है.

अगला लेख: प्रेम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जून 2016
यो
योग भारतीय संस्कृति की एक महत्वपूर्ण  वीध्या है. योग से हमारा सर्वांगीण, शरीरिक, मानसिक, बौद्धिक, व्यवहारिक विकास होता है. योग जीवन जीने की कला है, जिसे सीखकर व्यक्ति स्वस्थ रहता है, जीवन में सफल होता है. जीवन दिव्य बनाता है और अपना भाग्य बदलने में सक्षम होता है. योग सर्वांगीण विकास करने वाली कला ह
21 जून 2016
06 जून 2016
बरसात के मौसम में सड़क के खड्डो से गुजरती बस, धचके खाती चली जा रही थी. सीटों पर बैठे बूढ़े, बच्चे और अन्य यात्री धक्के खाते एक - दूसरे पर गिर रहे थे. उन्ही के बीच, दोनों सीटों के मध्य, एक युवती नीचे गठरी पर बैठी थी. शरीर पर मैले - कुचैले कपड़े और हाथों में एक 7-8 महीने का बालक था. उसी के पास एक वर्दी व
06 जून 2016
17 जून 2016
आतंकवाद की गोली, हमारा खुदका बोया भ्रष्टाचार, घोटालों और बेईमानी का बीज जिस भारत में पनप रहा है, क्या आम आदमी ने ऐसा ही लोकतंत्र चाहा था? क्या जिन लक्ष्यों, उम्मीदों व सपनों को आजादी के नाम पर संजोया था उसका कुछ हिस्सा भी आम आदमी तक पहुँच पाया है? यहां साहूकार, जमीदार, और बड़े व्यापारी जरूर फले फूले 
17 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x