नारी

21 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (166 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@@- नारी- @@@@@@@@

इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |

खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||

जिसकी दीवानी सृष्टि सारी,वो नारी है कहलाती |

बुझे -बुझे मर्दों का मन ,नारी ही तो बहलाती ||
घर में पायल खनकाती ,मन का मोर नचवाती |
पतली कमर लचकाती ,प्यार में आकर इठलाती ||
इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |
खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||
पुरुष को जो प्यारा है , औरत वो सहारा है |
विलक्षण वो अदाकारा है ,मर्द उसी का मारा है ||
सुन्दरता उसकी बढ़ जाती ,जब कभी वो शर्माती |
जब जब सुर में वो गाती,कोयल की बोली याद आती ||
इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |
खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||
बहिन बीवी या हो भाभी ,सहेली हो या हो साली |
नारी की रौनक के बिन ,जीवन लगता है खाली ||
नारी के बिन घर-आँगन में,नहीं गूँजती किलकारी |
नारी के बलबूते पर ही ,चलती है गृहस्थी सारी ||
इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |
खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

अगला लेख: अनमोल आजादी



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

दुर्गेश जी ! नारियस्तु पूज्यन्ते वसन्ति तत्र देवता .

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
12 जून 2016
ना
नारी तुम मुक्त हो।नारी तुम मुक्त हो। बिखरा हुआ अस्तित्व हो। सिमटा हुआ व्यक्तित्व हो। सर्वथा अव्यक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।शब्द कोषों से छलित देवी होकर भी दलित। शेष से संयुक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।ईश्वर का संकल्प हो।प्रेम का तुम विकल्प हो। त्याग से संतृप्त हो। नारी तुम मुक्त हो
12 जून 2016
19 जून 2016
आज पुरुष और नारी समानता का युग होने के बावज़ूद, अभी भी नारी अत्याचार की इतनी घिनौनी कुप्रथाएं मौजूद है कि जिन्हें जानकर आप दाँतों तले उंगली दबा देंगे। नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
19 जून 2016
25 जून 2016
नारी "-ईश्वर की सर्वश्रेष्ठतम कृति ================== ‘नारी तुम केवल श्रद्धा हो विश्वास रजत नग, पग-तल में, पीयूष स्रोत सी बहा करो जीवन के सुन्दर समतल में।' वास्तव में नारी इन पक्तियों को चारितार्थ करती है।नारी श्रद्धा,प्रेम,समर्पण और सौंदर्य का पर्याय है। नारी अमृत तुल्य है क्योंकि वह जीवन देती है,
25 जून 2016
24 जून 2016
ना
                                                                                                                                                                                                     ईश्वर ने पावन प्रतिमा ऊपर से उतारी है .                                                                
24 जून 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
24 जून 2016
ना
                                                                                                                                                                                                     ईश्वर ने पावन प्रतिमा ऊपर से उतारी है .                                                                
24 जून 2016
23 जून 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@न बढा नजदीकियाँ इतनी,कि वे दूरियों का आधार बन जाएँ |कस न तू वीणा के तार इतने,कि वे उसके टूटे तार बन जाएँ ||सन्तुलन ही है जिन्दगी , बच अतियों से ओ भोले इन्सान ,मनाएँ अगर तू सलीके से , तो रूठा तेरा हर यार मन जाए ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
23 जून 2016
24 जून 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@कायरता को छोड़ बन्दे , हौसले का गर्जन कर |नाम अमर हो जाये तेरा , ऐसा तू सृजन कर ||कूच कर गये लोग करोड़ों बिना किसी पहचान के,कयामत त्तक ख़तम न हो, तू ऐसा अर्जन कर ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
24 जून 2016
22 जून 2016
@@@@@@@@@गलती @@@@@@@@@****************************************************इन्सान है गलती का पुतला ,गलती इन्सान से होती है |इन्सान की पैदाइश भी तो ,'गलती' से ही होती है ||होती नहीं अगर गलती तो ,इन्सान धरती पर नहीं आता |आता भी अगर कहीं तो , शीघ्र मुक्ति पा जाता ||आम इन्सान हर मोड़ पर, गलती करता जाता ह
22 जून 2016
15 जून 2016
सृष्टि और समाज की कमियों व विसंगतियों पर कटाक्षकरती हास्य कविता -@@@-अनूठा सपना-@@@*********************************************************झूठ -कपट और बेईमानी देख ,मैं बहुत उदास था |भ्रष्टाचार भरा संसार मुझको ,आया नहीं रास था ||उड़ जाते हैं बाल सर के ,पर बेकार बाल तंग करते |ढल जाता तन बुढ़ापे में ,वै
15 जून 2016
17 जून 2016
वैदिक काल में नारी की स्थिति अत्यन्त उच्च थी। उस काल में यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता की कहावत चरितार्थ होती थी। भारतीयों के सभी आदर्श रूप नारी में पाए जाते थे, जैसे सरस्वती(विद्या का आदर्श), लक्ष्मी(धन का आदर्श), दुर्गा(शक्ति का आदर्श), रति(सौन्दर्य का आदर्श) एवं गंगा(पवित्राता का आदर
17 जून 2016
12 जून 2016
ना
नारी तुम मुक्त हो।नारी तुम मुक्त हो। बिखरा हुआ अस्तित्व हो। सिमटा हुआ व्यक्तित्व हो। सर्वथा अव्यक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।शब्द कोषों से छलित देवी होकर भी दलित। शेष से संयुक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।ईश्वर का संकल्प हो।प्रेम का तुम विकल्प हो। त्याग से संतृप्त हो। नारी तुम मुक्त हो
12 जून 2016
21 जून 2016
@@@@@@@@@@@@@ बहू से बन गयी बेटी @@@@@@@@@@@@@************************************************************************************रोज सुबह घूमने जाने वाले सम्पत जी आज अभी तक सो रहे थे | उनकी बहू ने यह सोचा कि उनकी तबीयत ठीक नही होगी | कमरे की सफाई के दौरान बहू के हाथ से तिपाई पर रखा उनका चश्मा फर्श
21 जून 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
21 जून 2016
@@@@@ इच्छा शक्ति का प्रभाव @@@@@**********************************************पत्थर समझा जाकर जो, हीरा ठोकरे खाता है |पहचाना जाने पर वो , ताज में सजाया जाता है ||नामी लोगों की अकविता भी ,छप जाती अखबार में |पर छुपे विश्व -कवि की रचना ,मिलती है भंगार में ||आँख उठा कर नहीं देखता कोई ,चाहे प्रतिभा भरपू
21 जून 2016
18 जून 2016
@@@@@@@-अनमोल आजादी -@@@@@@@************************************************************सन अठारह सौ सतावन का .वो वक्त बहुत अनूठा था |जन -विद्रोह का ज्वालामुखी ,जब भारत में फूटा था ||भारतीयों ने अंग्रेजों के संग ,जब खुनी होली खेली थी |अंग्रेज जिसको ग़दर कहते ,वो आजादी की जंग पहली थी ||सुहागिनों ने सुह
18 जून 2016
15 जून 2016
ला
@लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो@*******************************************************नारी जिस्म-फ़रोशी का , बन्द यह बाजार करो ।लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो ॥नारी के जिन उरोजों पर,शिशुओं का होता है अधिकार।मिलती है जिनसे उनको , उज्ज्वल पावन जीवन-धार॥सरे आम उघाड़ कर उनको , न उन पे
15 जून 2016
09 जून 2016
लू
रिश्वत खोरी पर व्यंग करती कविता -लूट की छूट लूट कर यात्रियों को लूटेरों ने ,लौटा दिया सारा धन -माल |सोचने लगे यात्री सारे ,क्या है यह कोई इनकी चाल ?|डर रहे थे सब यात्री ,पर एक बालक बोला करते खाज |डाकू सर प्लीज बताओ , इस दया का क्या है राज ?|डाकू बोला ,यह दया नहीं है ,यह है रिश्वत का सवाल |हर लूट पर
09 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
25 जून 2016
नारी "-ईश्वर की सर्वश्रेष्ठतम कृति ================== ‘नारी तुम केवल श्रद्धा हो विश्वास रजत नग, पग-तल में, पीयूष स्रोत सी बहा करो जीवन के सुन्दर समतल में।' वास्तव में नारी इन पक्तियों को चारितार्थ करती है।नारी श्रद्धा,प्रेम,समर्पण और सौंदर्य का पर्याय है। नारी अमृत तुल्य है क्योंकि वह जीवन देती है,
25 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
25 जून 2016
नारी "-ईश्वर की सर्वश्रेष्ठतम कृति ================== ‘नारी तुम केवल श्रद्धा हो विश्वास रजत नग, पग-तल में, पीयूष स्रोत सी बहा करो जीवन के सुन्दर समतल में।' वास्तव में नारी इन पक्तियों को चारितार्थ करती है।नारी श्रद्धा,प्रेम,समर्पण और सौंदर्य का पर्याय है। नारी अमृत तुल्य है क्योंकि वह जीवन देती है,
25 जून 2016
19 जून 2016
आज पुरुष और नारी समानता का युग होने के बावज़ूद, अभी भी नारी अत्याचार की इतनी घिनौनी कुप्रथाएं मौजूद है कि जिन्हें जानकर आप दाँतों तले उंगली दबा देंगे। नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
19 जून 2016
23 जून 2016
@@@@ अन्धविश्वास का अन्धेरा @@@@**************************************************दुर्घटना में पलट गयी थी ,एक मारुती कार |उस काली कार में , मेरा साथी था सवार ||साथी के एक हाथ में ,गहरी चोट थी आयी |पास के हॉस्पिटल से उसने,पट्टी थी करवायी ||शाम को वो साथी घर पर,प्रसाद लेकर आया |और दुर्घटना में बच जाने
23 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x