सन्तुलन

23 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (91 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

न बढा नजदीकियाँ इतनी,कि वे दूरियों का आधार बन जाएँ |

कस न तू वीणा के तार इतने,कि वे उसके टूटे तार बन जाएँ ||

सन्तुलन ही है जिन्दगी , बच अतियों से ओ भोले इन्सान ,

मनाएँ अगर तू सलीके से , तो रूठा तेरा हर यार मन जाए ||
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

अगला लेख: अनमोल आजादी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जून 2016
@@@@@@@@ नकारे नेता @@@@@@@@***************************************************पाचन शक्ति इनकी देख कर ,लगता ये इन्सान नहीं हैं |चारा,कोयला ,खाद यूरिया , इन्सानों का खान नहीं हैं ||इनके बयानों को सुनकर ,लगता इनको ज्ञान नहीं है |हक़ की बातें करते सारे ,कर्त्तव्य की पहचान नहीं है ||कायरता इनकी देख कर ,ल
17 जून 2016
21 जून 2016
@@@@@@@@@@@@@ बहू से बन गयी बेटी @@@@@@@@@@@@@************************************************************************************रोज सुबह घूमने जाने वाले सम्पत जी आज अभी तक सो रहे थे | उनकी बहू ने यह सोचा कि उनकी तबीयत ठीक नही होगी | कमरे की सफाई के दौरान बहू के हाथ से तिपाई पर रखा उनका चश्मा फर्श
21 जून 2016
27 जून 2016
@@@@@@ दर्द नहीं,मुस्कान बनो @@@@@@ ********************************************************** न शैतान बनो,न हैवान बनो,भगवान् नहीं इन्सान बनो | न भीड़ बनो, न भेड़ बनो , दर्द नहीं, मुस्कान बनो || दुश्मनी की गाँठे खोलो,मूँह से सोच-समझ कर बोलो | प्रेम-अमृत जीवन में घोलो,नहीं कभी फिजुल में बोलो || न खुदगर
27 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x