सन्तुलन

23 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (87 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

न बढा नजदीकियाँ इतनी,कि वे दूरियों का आधार बन जाएँ |

कस न तू वीणा के तार इतने,कि वे उसके टूटे तार बन जाएँ ||

सन्तुलन ही है जिन्दगी , बच अतियों से ओ भोले इन्सान ,

मनाएँ अगर तू सलीके से , तो रूठा तेरा हर यार मन जाए ||
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

अगला लेख: अनमोल आजादी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
@@@@ अन्धविश्वास का अन्धेरा @@@@**************************************************दुर्घटना में पलट गयी थी ,एक मारुती कार |उस काली कार में , मेरा साथी था सवार ||साथी के एक हाथ में ,गहरी चोट थी आयी |पास के हॉस्पिटल से उसने,पट्टी थी करवायी ||शाम को वो साथी घर पर,प्रसाद लेकर आया |और दुर्घटना में बच जाने
23 जून 2016
24 जून 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@कायरता को छोड़ बन्दे , हौसले का गर्जन कर |नाम अमर हो जाये तेरा , ऐसा तू सृजन कर ||कूच कर गये लोग करोड़ों बिना किसी पहचान के,कयामत त्तक ख़तम न हो, तू ऐसा अर्जन कर ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
24 जून 2016
22 जून 2016
@@@@@@@@@गलती @@@@@@@@@****************************************************इन्सान है गलती का पुतला ,गलती इन्सान से होती है |इन्सान की पैदाइश भी तो ,'गलती' से ही होती है ||होती नहीं अगर गलती तो ,इन्सान धरती पर नहीं आता |आता भी अगर कहीं तो , शीघ्र मुक्ति पा जाता ||आम इन्सान हर मोड़ पर, गलती करता जाता ह
22 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x