देश वासी देश की तरक्कीमे सहयोग करें

23 जून 2016   |  प्रहलादभाई   (188 बार पढ़ा जा चुका है)

देश वासी देश की तरक्कीमे सहयोग करें 

============================

आरक्षण जैसी कई बीमारिया की वजह से टीना डाभी पास हुई और अंकित श्री वास्तव फेल जो की अंकित कोsahyog तिनसे ज्यादा मार्क्स है ३५ मार्क ज्यादा लेकिन अंकित को आरक्षण व्यवस्ताने फेल करदिया और तिनको पास , ये बिमारिकि जड़ देश में डालने वाला नहेरु खानदान और कई सेक्युलर है जिन्होंने ऐसी कई सजिसें रची है ,जो देश को तोड़ने वाली है और देशमे उनके पालतू लोग ही आगे बढे और सही में बुद्धि जीवी या देश भक्त का बिचड़ा पण पाला रहे ऐसे कई साजिस न्याय पालिकामे प्रसाशनमें 
और सामजिक व्यवस्थामे बानी हुई है जिनको ये लोगोने ६८ सालोसे बढ़ावा किया है और देश को लुटा है उन्होंने कई जयचन्द पैदा किये है ,कई गद्दार पैदा किये है कई आतंकी योके उत्पादक है ,कई तपोरियोके मालिक है ,कै चमचोके रखवाले है ,कई देश द्रोहियोको पालते पोषते है सामजिक व्यवस्थाको आ समतोल बनाके उसका उठाते रहे है और देश पर कब्जा जमाये रखा है कई जयचन्द
देश द्रोही ,गद्दार लोभी ,लालची ,चरित्र के हनन करनेवाले हवस खोरो को पालकी रखे है जो उनको 
गुलामी और जी हजूरी करके देश को गरीबी ,और बेकारी,भूख मरी और शिथिल बनानेकी साजिस्मे 
मदद गार बने हुए है ६८ सालोमे देश टूटता गया गरीब होता गया औरवो लोग मालदार पैसेदार जागीर दार जमींदार और देश को लूटके जादा से ज्यादा शक्ति शाली और पावरफुल बनते गए जो देश को 
बर्बाद करने में उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी है ,देश की जनता को १० % प्रतिशत लाभ दिया और ९०% प्रतिशत वो लोग लुटते गए , और जनताकी आखोमे धूल डेट गए की देखो हमने देश का विकास किया है ये १०% प्रतिशत के गन गान करके जैसे की रातमे जब इंसा नींदमें सोता है तो चूहा फुक फुक क्र इन्सानका पैर की चमड़ी कहाजाता है और इनसान को मालूमात ही नहीं पड़ती और वो उसकी फुक फुक कर खानेकी 
वजह से वो गहरी नीद में सोता रहता है जब सुबह होती हैतो वो 
चल नहीं पाता ठीक वैसे ही इन्होने देश को खा खा के लंगड़ा किया है जो चलनेको काबिल नहीं रहता है ऐसे कई गादारोकि 
टोली ,देश द्रोहियो की टोली लुटेरोकि टोलीको उन्होंने ही नम दिया है ,अब ये देश को एक ईमानदार ,महेनति और काबिल 
इंसान मिलाहै जिसका नाम मोदी है ये इंसान उनकी नाग चुड से बच गया है और देश की भलाई के लिए निकल पड़ा है ,उन्होंने पहले कई देश भक्तोंका सफाया कर दिया है जिनके कई उदाहरण भी है लेकिन ये एक इंसान जो बच निकला है जिसको देश की पहचाने और साथ दे ताकि देश की तरक्की हो शके आप सबसे बिनती है की मोदीजीको सहयोग करें 
===प्रहलादभाई प्रजापति 
२२/६/२०१६ , किर्कलेंड वॉशिंगटन यु एस ऐ

अगला लेख: देश हमारा बदल रहा है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जून 2016
रा
किसी भी देश की राजनीति उस देश के विकास देशवासियों के हितार्थ होती है. भारत में पहले राजतंत्र था. तमाम राजा अपने प्रभुत्व अपनी शक्ति और पराक्रम से अपने राज्य काविस्तार करते थे.राजाओं की आपसी लड़ाई दुश्मनी के कारण ही भारत गुलाम हो गया.आठ सौ साल गुलामी झेलने के बाद बड़ी त्याग तपस्या और वलिदान के बाद भारत
19 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x