शब्द सामर्थ्‍य बढ़ाईए-10

24 जून 2016   |  डाॅ कंचन पुरी   (193 बार पढ़ा जा चुका है)

शब्द सामर्थ्‍य बढ़ाईए-10


1. प्राभृतक   

क-नजर, रिश्वत 

ख-विरोध 

ग-शत्रु 

2. प्रियंवद 

क-अपना  

ख-मधुरभाषी 

ग-प्यार  

3. प्रेक्षक 

क-दर्शक   

ख-पठनीय  

ग-पृच्छक 

4. प्रेमोन्मत्त     

क-प्रेम 

ख-प्रेमी 

ग-प्रेम में पागल 


उत्तर

1. क   2. ख 3. क 4. ग

अगला लेख: शब्‍द सामर्थ्‍य बढ़ाएं-6



अच्छा लगा, धन्यवाद।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2016
1. जुगतक-युग, ख-युगल,ग-युक्ति2. जुगुप्साक-इच्छाख-निंदा, ग-क्रोध3. जेठाईक-बडप्पन, महत्त्वख-जेठ, ग-आयु4. जेय                   क-ढेर ख-तृणग-जो जीता जा सकेउत्तर 1. ग 2. ख 3. क 4. ग
12 जून 2016
20 जून 2016
          प्रेमचन्द हिन्दी के प्रथम मौलिक उपन्यासकार हैं। उन्होंने एक क्रमबद्ध एवं संगठित कथा देने का महत्त्वपूर्ण प्रयास किया है। उन्होंने हिन्दी के पाठकों की अभिरुचि को तिलिस्मी उपन्यासों की गर्त से निकालकर शुद्ध साहित्यिक नींव पर स्थिर किया। उनकी कला, उनका आदर्शवाद, उनकी कल्पना और सौन्दर्यानुभूति
20 जून 2016
22 जून 2016
उन्नति सभी चाहते हैं लेकिन उन्नति उनको मिलती है जो जीवन में इन पांच सूत्रों को अपनाते हैं-1. अपने क्षेत्र में सदैव ज्ञान के मामले में अद्यतन रहते हैं। 2. आगे बढ़कर काम पकड़ते हैं। 3. जोखिम उठाने से कभी पीछे नहीं हटते हैं।4. काम सदैव पूरा रखते हैं। 5. नए अवसर क़ी ताक में रहते हैं। जो इन पांच सूत्रों क
22 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x