नारी तुम महान हो

25 जून 2016   |  chaurasiya धर्म प्रकाश चौरसिया   (668 बार पढ़ा जा चुका है)

सूर्य में कितनी ऊर्जा है ये उसे नहीं पता ,चन्द्रमा में कितनी शीतलता है ये उसे नहीं पता ,फूल अपनी सुगंध से अवगत नहीं है ,हीरा अपने मूल्य से अंजान है                                                                                                                                                            .स्वयं का धैर्य धरती नहीं समझती , अम्बर की विशालता वो क्या जाने ?"                                                                                      साहसी इंसान की गर कोई औकात ना होती ,                                                                                                                                                                               तो हिमालय की बुलंदी से कभी भी बात न होती ."                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                अंतरिक्ष पर किसने कदम रखे ? सागर किसने बांधा ?राम, कृष्ण को किसने जन्म दिया ?                                                    हे पूजनीय प्रकृति स्वरूपा ! तुम विराट सामर्थ्य की स्वामिनी हो ,तुम हो तो जीवन की सुंदरता है ,तुम हो तो प्रकृति की नैसर्गिकता है ,तुम हो तो रिस्ते हैं                                                                                                                                                             ,तुम्हारे बिना संसार की कल्पना संभव नहीं ,                                                                                                                                        नार्यस्तु पूजयन्ते तत्र रमन्ते देवता ,                                                                                                                                                               हे मातृशक्ति नारी ! तुम अबला नहीं हो ,तुम बेबस ,असहाय नहीं हो, तुम सबला हो .तुम समर्पण नहीं विजय की प्रतीक हो                             ,तुम्हारे अस्तित्व की अहमियत का जमाने को अहसास हो .                                                           तुम्हारा जीवन घुट घुटकर मरने के लिए नहीं है                                                                                                                                 शोषित मर्यादा  रूपी कायरता को त्यागो ,तुम्हारा पवित्र जीवन तुम्हें  आगे बढ़ने के लिए आवाज दे रहा है .

अगला लेख: विनाशवाद



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जून 2016
पै
                                                                              आए निष्ठुर शहर में छूट गया वो गाँव .                                                                                                                                                                            वो नदिया में त
24 जून 2016
15 जून 2016
किसी बच्चे के चेहरे पै कभी मुस्कान खिलती है                                                                                                     मेरी जब सांस चलती है वो मेरी माँ  से मिलती है .                                                                                                             
15 जून 2016
14 जून 2016
खो
सांझ अब ढलने लगी है,                                                                                                                                                                                                     हे प्रिये तुम लौट आओ .                                                             
14 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
17 जून 2016
वैदिक काल में नारी की स्थिति अत्यन्त उच्च थी। उस काल में यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता की कहावत चरितार्थ होती थी। भारतीयों के सभी आदर्श रूप नारी में पाए जाते थे, जैसे सरस्वती(विद्या का आदर्श), लक्ष्मी(धन का आदर्श), दुर्गा(शक्ति का आदर्श), रति(सौन्दर्य का आदर्श) एवं गंगा(पवित्राता का आदर
17 जून 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
14 जून 2016
क्या विनाशवाद और जातिवादी पार्टियों का खात्मा जरुरी है ?
14 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
21 जून 2016
ना
@@@@@@@@- नारी- @@@@@@@@इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||जिसकी दीवानी सृष्टि सारी,वो नारी है कहलाती |बुझे -बुझे मर्दों का मन ,नारी ही तो बहलाती ||घर में पायल खनकाती ,मन का मोर नचवाती |पतली कमर लचकाती ,प्यार में आकर इठलाती ||इस दुनिया की शोभा है
21 जून 2016
15 जून 2016
ला
@लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो@*******************************************************नारी जिस्म-फ़रोशी का , बन्द यह बाजार करो ।लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो ॥नारी के जिन उरोजों पर,शिशुओं का होता है अधिकार।मिलती है जिनसे उनको , उज्ज्वल पावन जीवन-धार॥सरे आम उघाड़ कर उनको , न उन पे
15 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
18 जून 2016
तु
तुम्हारे आने की एक आहट,                                                                                                                                                                से जिंदगी मुस्कुरा रही है .                                                                                          
18 जून 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
19 जून 2016
आज पुरुष और नारी समानता का युग होने के बावज़ूद, अभी भी नारी अत्याचार की इतनी घिनौनी कुप्रथाएं मौजूद है कि जिन्हें जानकर आप दाँतों तले उंगली दबा देंगे। नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
19 जून 2016
16 जून 2016
मू
बुतों को तोड़ कर तुम बुतशिकन हो तो गए लेकिन ,                                                                                                           दिलों को जोड़ लेने का हुनर तुम जानते होते .                                                                                                           
16 जून 2016
20 जून 2016
                चल पथिक काँटों  भरा  रस्ता  है  तू रुकना नहीं .                                                                                                                                           कोई भी कितना करे अन्याय तू  झुकना नहीं .                                                          
20 जून 2016
11 जून 2016
भा
मां भारती तुझे हम ऐसी बहार देंगे ,                                                                                                                                                                                                            अपने लहू से तेरा दामन निखार देंगे .                           
11 जून 2016
12 जून 2016
ना
नारी तुम मुक्त हो।नारी तुम मुक्त हो। बिखरा हुआ अस्तित्व हो। सिमटा हुआ व्यक्तित्व हो। सर्वथा अव्यक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।शब्द कोषों से छलित देवी होकर भी दलित। शेष से संयुक्त हो। नारी तुम मुक्त हो।ईश्वर का संकल्प हो।प्रेम का तुम विकल्प हो। त्याग से संतृप्त हो। नारी तुम मुक्त हो
12 जून 2016
01 जुलाई 2016
हर किसी को चाहिये सुसंस्कृत नारी जो बस उसके के ही गीत गायेगी खुद के लक्षण हों चाहे शक्ति कपूर जैसे पर बीबी सपनों में, सीता जैसी आयेगीरूप लावण्य से भरी होनी चाहिये जवानी भी पूरी खरी होनी चाहिए सामने बोलना मंजूर ना होगा हरदम नौकरी भी करती हो तो छा जायेगीघर के काम में दक्षता होना तो लाजिमी है जो उसे दब
01 जुलाई 2016
05 जुलाई 2016
ना
नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।
05 जुलाई 2016
14 जून 2016
एक बार एक नाइ की दूकान पर कपिल सिब्बल बाल बनवाने जाते हैं ,नाई बालों को पानी मैं भिगोते भिगोते पूछता है " अरे मंत्री जी ! ये कोयला घोटाला क्या है ?सिब्बल नाराज होकर कहते हैं " तुझे क्या करना है ,चुपचाप बाल बना " नाई बाल काट देता है ,सिब्बल गुस्साते चले जाते हैं .दूसरे दिन पी .चिदंबरम बाल कटाने आते ह
14 जून 2016
18 जून 2016
सामान्यतः मनुष्यों को जल, भाफ, अग्नि, विद्युत, वायु, गैस आदि की शक्ति का तो अनुभव हुआ करता है, परन्तु ‘शब्द’ में भी कोई ऐसी शक्ति होती है, जो स्थूल पदार्थों पर प्रत्यक्ष प्रभाव डाल सके, इस पर उनको शीघ्र विश्वास नहीं होता। वे यह तो मान सकते हैं कि मधुर शब्दों से श्रोता का चित्त प्रसन्न होता है कठोर श
18 जून 2016
21 जून 2016
                                                                                                                                                                                                                                                                                                           
21 जून 2016
11 जून 2016
खुली हवा मैं सांस लेने की जो आजादी हमें मिली है ,                                                                                                                 अपनी बात कहने की जो आजादी हमें मिली हैः,                                                                                                  
11 जून 2016
19 जून 2016
आज पुरुष और नारी समानता का युग होने के बावज़ूद, अभी भी नारी अत्याचार की इतनी घिनौनी कुप्रथाएं मौजूद है कि जिन्हें जानकर आप दाँतों तले उंगली दबा देंगे। नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
19 जून 2016
15 जून 2016
ला
@लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो@*******************************************************नारी जिस्म-फ़रोशी का , बन्द यह बाजार करो ।लाज है नारी का गहना,इसका मत व्यापार करो ॥नारी के जिन उरोजों पर,शिशुओं का होता है अधिकार।मिलती है जिनसे उनको , उज्ज्वल पावन जीवन-धार॥सरे आम उघाड़ कर उनको , न उन पे
15 जून 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x