जागते रहो!

27 जून 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (147 बार पढ़ा जा चुका है)

    जागते रहो!


     यह वेद वाक्य है-उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत्‌

     जीवन की कर्मभूमि पर कर्म की निरन्तरता ही हमें लक्ष्य की ओर ले जाती है। पहली आवश्यकता लक्ष्य सदैव मन व नेत्रों के समक्ष रहना चाहिए अर्थात्‌ उसके प्रति सदैव जागरूक रहें। जब तक आप स्वयं के प्रति जागरूक नहीं हैं तब तक आप लक्ष्य के प्रति जागरूक नहीं होंगे। हमारा स्वभाव, हमारे विचार, विकृतियां, व्यसन, वासनाएं तथा हमारे चहुं ओर का वातावरण ही लक्ष्य के प्रति जागरूक होने से रोकते हैं। इन सबके प्रति सजग होते ही हम लक्ष्य के प्रति जागरूक हो जाते हैं। इनसे एक-एक करके परिष्कृत होने के लिए अनुभवी लोगों का भी सहारा लेना चाहिए। वरना भटकाव की स्थिति बन जाती है। स्वयं ही चिन्तन के बाद अपनी कमजोरियों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए। धैर्य और दृढ़ता से ही यह सब होता है। संकल्प लें कि गलतियों का दुबारा नहीं दोहराएंगे। दिनचर्या में कुछ समय इस ओर ध्यान दें। धीरे-धीरे आप में परिवर्तन आने लगेगा जोकि एक मात्र जागरूक रहकर एक पथ पर चलने का अनुसरण मात्रा है। मन को संयमित करें और एकाग्रता बढ़ाएं। एकाग्रता से ही किसी भी चिन्तन में गहराई आती है और मन्तव्य स्पष्ट होता है। जागरूकता मात्रा के संकल्प एवं लक्ष्य प्राप्ति के लिए कर्मरत्‌ होना। संकल्प को नित्य दोहराना एवं लक्ष्य के लिए समर्पण भाव से सक्रिय रहने मात्रा से वांछित परिवर्तन के साथ-साथ मंजिल पाने की राह सरल होगी। अतः जागते रहो।

अगला लेख: समय का अभाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जुलाई 2016
हम निज विचारों से ही निज व्यक्तित्व निर्मित करते हैं। यदि हम अपने विचारों को सृजनात्मक व स्फूर्तिमय बना लें तो इससे हम अपना ही निर्माण करेंगे।हमारी इच्छाएं, आवश्यकताएं, भावनाएं और आर्दश हमारे विचार ही तो हैं।विचारों के संयम से ही व्यक्त्वि का संयम होता है। हमारे विचारों की समृद्धि व प्रखरता ही हमारे
05 जुलाई 2016
20 जून 2016
आज का सुवचन 
20 जून 2016
20 जून 2016
मि
मिलावटी खाद्यान्न खाते-खाते इन्सान भी दिन-प्रतिदिन मिलावटी होते जा रहे हैं। यह पढ़-सुनकर तो एकबार हम सबको शाक लगना स्वाभाविक है। यदि इस विषय पर गहराई से मनन किया जाए तो हम हैरान रह जाएँगे कि धरातलीय वास्तविकता यही है। हम मिलावटी हो रहे हैं यह कहने के पीछे तात्पर्य है कि हम सभी मुखौटानुमा जिन
20 जून 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
12 जून 2016
    एक तपस्वी के दो शिष्य थे।  दोनों ईश्वर भक्त थे। ईश्वर उपासना के उपरान्त वे दोनों आश्रम में आए रोगियों, दीन-दुखियों व पीड़ितों की सेवा करने में सहायता करते थे। एक दिन की बात है कि जब उपासना का समय चल रहा था और ऐसे में एक पीड़ित जिसको बहुत कष्ट हो रहा था, आश्रम में आ पहुंचा।गुरु ने उसको देखा तो उन
12 जून 2016
26 जून 2016
आज का सुवचन 
26 जून 2016
25 जून 2016
सूरत और मुंबई के हीरा व्यापारियों ने तेज गर्मी में भारत-पाकिस्तान सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों को 10,000 धूप के चश्मे, आरओ वाटर प्यूरीफायर, ईसीजी मशीनें और अन्य वस्तुएं भेंट की हैं। नादाबेत बीओपी (गुजरात): सूरत और मुंबई के हीरा व्यापारियों ने तेज गर्मी में भारत-पाकिस्तान सीमा पर तैनात बीएसएफ के जव
25 जून 2016
26 जून 2016
     मन की गति बहुत तेज है। पलक झपकते इधर-उधर घूम आता है। कभी इधर जाता है तो कभी किधर जाता है। मन की गति पर लगाम लगाना ही मन को एकाग्र करना है। जो लगाम लगा लेते हैं वे ही कुछ हटकर करते हैं, बाकी सब तो लकीर के फकीर हैं उनका काम रोज की दिनचर्या पूरा करके सो जाना है और अगले दिन नित्य कर्म से निपटकर पुन
26 जून 2016
15 जून 2016
प्रेम में एक अनोखी शक्ति होती है जो प्रत्येक रिश्ते के साथ अपना एक अलग भाव उजागर करती है। मां के रूप में ममता, पिता के रूप पितृत्व, बहन के रूप में  स्नेह,  भाई के  रूप में  बन्धुत्व,  मित्र के रूप  में सहयोग और  पत्नी के रूप में पूर्ण  समर्पण का भाव उजागर  करती है।  स्त्री की महानता  इसी  में  है  क
15 जून 2016
10 जुलाई 2016
प्रत्येक व्यक्ति अपनी प्रशंसा चाहता है। सही अर्थों में प्रशंसा एक प्रकार का प्रोत्साहन है! प्रशंसा में सृजन की क्षमा होती है। इसलिए प्रशंसा करने का जब भी अवसर मिले उसे व्यक्त करने से नहीं चूकना चाहिए। प्रशंसा करने से प्रशंसक की प्रतिष्ठा बढ़ती है। सभी में गुण व दोष होते हैं। ऐसा नहीं है कि बुरे से ब
10 जुलाई 2016
27 जून 2016
    ॐ भूर्भुवः सुवः। ॐ तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमिहि। धियो यो नः प्रचोदयात् ।।2।।    जो प्रणव रूप में सच्चिदानन्द परमात्मा भूः, भुवः, स्वः रूप त्रिलोक में संव्याप्त है। समस्त सृष्टि के उत्पादन करने  वाले उन  सवितादेव  के सर्वोत्तम  तेज का  हम ध्यान करते हैं, जो(वे सविता देवता)हमारी बुद्धियों
27 जून 2016
19 जून 2016
रा
किसी भी देश की राजनीति उस देश के विकास देशवासियों के हितार्थ होती है. भारत में पहले राजतंत्र था. तमाम राजा अपने प्रभुत्व अपनी शक्ति और पराक्रम से अपने राज्य काविस्तार करते थे.राजाओं की आपसी लड़ाई दुश्मनी के कारण ही भारत गुलाम हो गया.आठ सौ साल गुलामी झेलने के बाद बड़ी त्याग तपस्या और वलिदान के बाद भारत
19 जून 2016
15 जून 2016
जीवन में आने वाले सभी संशय ज्ञान के द्वारा ही दूर होते हैं। बिल्कुल उसी तरह जिस प्रकार प्रकाश से अंधेरा दूर हो जाता है उसी प्रकार ज्ञान से संशय मिट जाते हैं।
15 जून 2016
13 जून 2016
चाहे भोजन करने के लिए कुर्सियों का जंग हो या नेताओं के बीच सत्ता का लेकिन कुर्सी का खेल बड़ा ही निराला है कोई मेज के लिए झगड़ा क्यों नहीं करते क्या खास बात है कुर्सी में इसे तो ऐसे ही समझ लेना चाहिए कि आज से ही मोदी क्यों इलाहाबाद जाकर अपनी कुर्सी पक्का करने में जुट गयें हैं |ये दूसरो को बेकार और अप
13 जून 2016
15 जून 2016
जीवन संघर्ष का नाम है राह के रोड़े हटाने के लिए संघर्ष तो हम सब की नियति है। हारना कभी नहीं चाहिए क्योंकि हार के बाद ही जीत है।
15 जून 2016
23 जून 2016
दे
देश वासी देश की तरक्कीमे सहयोग करें ============================आरक्षण जैसी कई बीमारिया की वजह से टीना डाभी पास हुई और अंकित श्री वास्तव फेल जो की अंकित कोsahyog तिनसे ज्यादा मार्क्स है ३५ मार्क ज्यादा लेकिन अंकित को आरक्षण व्यवस्ताने फेल करदिया और तिनको पास , ये बिमारिकि जड़ देश में डालने वाला नहेरु
23 जून 2016
10 जुलाई 2016
प्रत्येक व्यक्ति अपनी प्रशंसा चाहता है। सही अर्थों में प्रशंसा एक प्रकार का प्रोत्साहन है! प्रशंसा में सृजन की क्षमा होती है। इसलिए प्रशंसा करने का जब भी अवसर मिले उसे व्यक्त करने से नहीं चूकना चाहिए। प्रशंसा करने से प्रशंसक की प्रतिष्ठा बढ़ती है। सभी में गुण व दोष होते हैं। ऐसा नहीं है कि बुरे से ब
10 जुलाई 2016
05 जुलाई 2016
अमीर बनने की चाबी कार्ल हेनरिख मार्क्स जर्मन का महान दार्शनिक मार्क्सवाद का जन्म दाता जो गरीबी में पैदा हुआ गरीबों के लिए लड़ा और गरीबी में ही मर गया पर वह मरते मरते मकार लोगों के हाथ में सरलता से अमीर बनने की चाबी दे गया इस चाबी का नाम था मार्क्सवाद मार्क्सवाद के तहत उन्होंने मजदूरों को शोषण करने वा
05 जुलाई 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x