सूर्योपनिषद् - 2

27 जून 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (179 बार पढ़ा जा चुका है)

सूर्योपनिषद् - 2


    ॐ भूर्भुवः सुवः। ॐ तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमिहि। धियो यो नः प्रचोदयात् ।।2।। 

   जो प्रणव रूप में सच्चिदानन्द परमात्मा भूः, भुवः, स्वः रूप त्रिलोक में संव्याप्त है। समस्त सृष्टि के उत्पादन करने  वाले उन  सवितादेव  के सर्वोत्तम  तेज का  हम ध्यान करते हैं, जो(वे सविता देवता)हमारी बुद्धियों को श्रेष्ठता की दिशा में  प्रेरणा प्रदान करें। ऐसा ध्यान करने  वाला साधक ब्रह्मनिष्ठ विदेह  मुक्त  हो  जाता है।


  भाग एक के लिए नीचे लिखे लिंक पर क्लिक करके पढ़ें-

 

    सूर्योपनिषद अथर्ववेदीय परम्परा से संबंध रखता है। इस उपनिषद में आठ श्लोकों में ब्रह्मा और सूर्य की अभिन्नता वर्णित है और बाद में  सूर्य  व  आत्मा  की अभिन्नता प्रतिपादित की गई है। इस उपनिषद के पाठ के लिए हस्त नक्षत्र स्थित सूर्य का समय अर्थात् आश्विन मास सर्वोत्तम माना गया है।  इसके पाठ  से व्यक् सूर्योपनिषद् १

http://shabdanagari.in/post/36126/-1-9751037

अगला लेख: समय का अभाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
02 जुलाई 2016
28 जून 2016
सूर्य आत्मा जगतस्तस्थुषश्च। सूर्याद्वै खल्विमानि भूतानि जायन्ते। सूर्याद्यज्ञः  पर्जन्योऽन्नमात्मा।।3।।  सूर्यदेव समस्त जड़ और चेतन जगत् की आत्मा हैं। सूर्य से सभी प्राणियों की उत्पत्ति होती है। सूर्य से ही यज्ञ, पर्जन्य, अन्न एवं आत्मा(चेतना) का  प्रादुर्भाव  होता  है।  नमस्त आदित्य। त्वमेव प्रत्यक
28 जून 2016
02 जुलाई 2016
यः सदाऽहरहर्जपति स वै ब्रह्मणो भवति स वै ब्रह्मणो भवति। सूर्याभिमुखो जप्त्वा  महाव्याधिभयात्प्रमुच्यते।  अलक्ष्मीर्नश्यति। अभक्ष्य-  भक्षणात्पूतो भवति। अगम्यागमनात्पूतो भवति।  पतितसंभाषणात्पूतो भवति। असत्संभाषणात्पूतो भवति।  मध्याह्ने सूर्याभिमुखः पठेत्।  सद्योत्पन्न्पंचमहापातकात्प्रमुच्यते। सैषां स
02 जुलाई 2016
03 जुलाई 2016
पूर्व में सात भाग में सूर्योपनिषद् की चर्चा की गई है। इस चर्चा में सूर्योपनिषद् के अमृत का रसास्वादन कराया गया था। यदि आप  सूर्योपनिषद् को पुस्तक रूप में अपने मेल पर मुफ्त में पाना चाहते हैं तो  मित्रता का अनुरोध करते हुए उपनिषदों का अमृत वेबपेज का अनुसरण करें और मुझे मेरे अधोलिखित मेल पर उक्त पुस्त
03 जुलाई 2016
18 जून 2016
शुक्राचार्य ने कहा है-'धन का देना मित्रता का कारण होता है, परन्‍तु वापस लेना शत्रुता का।'पूर्वोक्‍त कथन सत्‍य है, लेनदेन में यही होता है। उधार दीजे, दुश्‍मन कीजे-यह कहावत लोक चर्चित है, जो अत्‍यन्‍त व्‍यवहारिक है। ऋण लेते ही तुलसीदास की यह उक्ति पूर्णत: चरितार्थ होती है-'आव गया आदर गया, नैनन गया स्‍
18 जून 2016
15 जून 2016
आज का सुवचन 
15 जून 2016
17 जून 2016
हमारा मन जाग रहे हैं तो सोचता है और सो रहे हैं तो सपनों में सोचता है। सोचना उसकी नियति है इसीलिए तो निरंतर सोचता रहता है। मन अपनी सोच पर मनन करता है तो सार्थक विचार बनता है  वरना तो जो जी में आए सोचता ही रहता है। सभी को बहुत कुछ चाहिए पर सब कुछ सभी को मिलता नहीं। मिलता वही है जो मन का सोचा चिंतन के
17 जून 2016
28 जून 2016
सूर्य आत्मा जगतस्तस्थुषश्च। सूर्याद्वै खल्विमानि भूतानि जायन्ते। सूर्याद्यज्ञः  पर्जन्योऽन्नमात्मा।।3।।  सूर्यदेव समस्त जड़ और चेतन जगत् की आत्मा हैं। सूर्य से सभी प्राणियों की उत्पत्ति होती है। सूर्य से ही यज्ञ, पर्जन्य, अन्न एवं आत्मा(चेतना) का  प्रादुर्भाव  होता  है।  नमस्त आदित्य। त्वमेव प्रत्यक
28 जून 2016
15 जून 2016
जीवन में आने वाले सभी संशय ज्ञान के द्वारा ही दूर होते हैं। बिल्कुल उसी तरह जिस प्रकार प्रकाश से अंधेरा दूर हो जाता है उसी प्रकार ज्ञान से संशय मिट जाते हैं।
15 जून 2016
15 जून 2016
जीवन संघर्ष का नाम है राह के रोड़े हटाने के लिए संघर्ष तो हम सब की नियति है। हारना कभी नहीं चाहिए क्योंकि हार के बाद ही जीत है।
15 जून 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
26 जून 2016
आज का सुवचन 
26 जून 2016
25 जून 2016
    सूर्योपनिषद अथर्ववेदीय परम्परा से संबंध रखता है। इस उपनिषद में आठ श्लोकों में ब्रह्मा और सूर्य की अभिन्नता वर्णित है और बाद में  सूर्य  व  आत्मा  की अभिन्नता प्रतिपादित की गई है। इस उपनिषद के पाठ के लिए हस्त नक्षत्र स्थित सूर्य का समय अर्थात् आश्विन मास सर्वोत्तम माना गया है।  इसके पाठ  से व्यक्
25 जून 2016
15 जून 2016
प्रेम में एक अनोखी शक्ति होती है जो प्रत्येक रिश्ते के साथ अपना एक अलग भाव उजागर करती है। मां के रूप में ममता, पिता के रूप पितृत्व, बहन के रूप में  स्नेह,  भाई के  रूप में  बन्धुत्व,  मित्र के रूप  में सहयोग और  पत्नी के रूप में पूर्ण  समर्पण का भाव उजागर  करती है।  स्त्री की महानता  इसी  में  है  क
15 जून 2016
02 जुलाई 2016
यः सदाऽहरहर्जपति स वै ब्रह्मणो भवति स वै ब्रह्मणो भवति। सूर्याभिमुखो जप्त्वा  महाव्याधिभयात्प्रमुच्यते।  अलक्ष्मीर्नश्यति। अभक्ष्य-  भक्षणात्पूतो भवति। अगम्यागमनात्पूतो भवति।  पतितसंभाषणात्पूतो भवति। असत्संभाषणात्पूतो भवति।  मध्याह्ने सूर्याभिमुखः पठेत्।  सद्योत्पन्न्पंचमहापातकात्प्रमुच्यते। सैषां स
02 जुलाई 2016
28 जून 2016
सूर्य आत्मा जगतस्तस्थुषश्च। सूर्याद्वै खल्विमानि भूतानि जायन्ते। सूर्याद्यज्ञः  पर्जन्योऽन्नमात्मा।।3।।  सूर्यदेव समस्त जड़ और चेतन जगत् की आत्मा हैं। सूर्य से सभी प्राणियों की उत्पत्ति होती है। सूर्य से ही यज्ञ, पर्जन्य, अन्न एवं आत्मा(चेतना) का  प्रादुर्भाव  होता  है।  नमस्त आदित्य। त्वमेव प्रत्यक
28 जून 2016
26 जून 2016
     मन की गति बहुत तेज है। पलक झपकते इधर-उधर घूम आता है। कभी इधर जाता है तो कभी किधर जाता है। मन की गति पर लगाम लगाना ही मन को एकाग्र करना है। जो लगाम लगा लेते हैं वे ही कुछ हटकर करते हैं, बाकी सब तो लकीर के फकीर हैं उनका काम रोज की दिनचर्या पूरा करके सो जाना है और अगले दिन नित्य कर्म से निपटकर पुन
26 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x