दर्द नहीं, मुस्कान बनो

27 जून 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (104 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@@ दर्द नहीं,मुस्कान बनो @@@@@@ ********************************************************** न शैतान बनो,न हैवान बनो,भगवान् नहीं इन्सान बनो | न भीड़ बनो, न भेड़ बनो , दर्द नहीं, मुस्कान बनो || दुश्मनी की गाँठे खोलो,मूँह से सोच-समझ कर बोलो | प्रेम-अमृत जीवन में घोलो,नहीं कभी फिजुल में बोलो || न खुदगर्ज बनो,न मर्ज बनो,शर्म नहीं,पहचान बनो | न भीड़ बनो, न भेड़ बनो , दर्द नहीं ,मुस्कान बनो || *****************************************************

अगला लेख: नकारे नेता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
@@@@ अन्धविश्वास का अन्धेरा @@@@**************************************************दुर्घटना में पलट गयी थी ,एक मारुती कार |उस काली कार में , मेरा साथी था सवार ||साथी के एक हाथ में ,गहरी चोट थी आयी |पास के हॉस्पिटल से उसने,पट्टी थी करवायी ||शाम को वो साथी घर पर,प्रसाद लेकर आया |और दुर्घटना में बच जाने
23 जून 2016
28 जून 2016
नी
@@@@@@@@@ नीति की बातें @@@@@@@@@ ***************************************************************** सत्य,सेहत और सिध्दान्तों से ,समझौता नहीं करना चाहिए | जितना हो सके हम को ,दुख दूजों के हरना चाहिए || देश हित के लिए सदा ,काम हमें करना चाहिए | सही पथ पर चलते हुए ,हमें नहीं डरना चाहिए || सन्तुलित और स
28 जून 2016
15 जून 2016
सृष्टि और समाज की कमियों व विसंगतियों पर कटाक्षकरती हास्य कविता -@@@-अनूठा सपना-@@@*********************************************************झूठ -कपट और बेईमानी देख ,मैं बहुत उदास था |भ्रष्टाचार भरा संसार मुझको ,आया नहीं रास था ||उड़ जाते हैं बाल सर के ,पर बेकार बाल तंग करते |ढल जाता तन बुढ़ापे में ,वै
15 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x