मंजिल

27 जून 2016   |  डाॅ कंचन पुरी   (217 बार पढ़ा जा चुका है)

मंजिल

जिंदगी   है   इक  झरोखा झांकते रहिये।

लक्ष्य  से  भी  अपनी  दूरी  नापते  रहिये।

साथ-साथ  चलेंगे तो पा ही लेंगे  मंजिलें।

बस एक दूजे के दु:खों को  बांटते रहिये।

अगला लेख: उन्नति



बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ , कहाँ गायब हो गई है आप ?

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
डाॅ. केनेथ वाकर ने अपनी आत्मकथा में कहा है-‘आप जितना खाते हैं उसके आधे भोजन से पेट भरता है और आधे भोजन से डाॅक्टरों का पेट भरता है। आप आधा भोजन ही करें तो आप बीमार ही नहीं पड़ेंगे और डाॅक्टरों की कोई खास आवश्यकता नहीं रह जाएगी।’ डाॅ. केनेथ की यह बात अनुभूत है और व्यवहारोपयोगी है। सच में भूख से कम खा
23 जून 2016
22 जून 2016
उन्नति सभी चाहते हैं लेकिन उन्नति उनको मिलती है जो जीवन में इन पांच सूत्रों को अपनाते हैं-1. अपने क्षेत्र में सदैव ज्ञान के मामले में अद्यतन रहते हैं। 2. आगे बढ़कर काम पकड़ते हैं। 3. जोखिम उठाने से कभी पीछे नहीं हटते हैं।4. काम सदैव पूरा रखते हैं। 5. नए अवसर क़ी ताक में रहते हैं। जो इन पांच सूत्रों क
22 जून 2016
10 जुलाई 2016
प्रत्येक व्यक्ति अपनी प्रशंसा चाहता है। सही अर्थों में प्रशंसा एक प्रकार का प्रोत्साहन है! प्रशंसा में सृजन की क्षमा होती है। इसलिए प्रशंसा करने का जब भी अवसर मिले उसे व्यक्त करने से नहीं चूकना चाहिए। प्रशंसा करने से प्रशंसक की प्रतिष्ठा बढ़ती है। सभी में गुण व दोष होते हैं। ऐसा नहीं है कि बुरे से ब
10 जुलाई 2016
26 जून 2016
सत्य की सड़क मिथ्या की चाैखट पर पहुंचकरमात्र एक गैलरी रह जाती हैऔर शेष भूमि परकविताएं लिख दी जाती हैं,कविताएंजो कभी भी किसी भी सूरत मेंसड्कें नहीं बन सकतीं।प्रशस्ति पत्रों से लिपटी सहमी ग्रामीण दुल्हनों जैसी जीवन भर चक्की पीसती रहती है, रोटियां पकाती रहती है और उधर मिथ्या की काली गैलरी में जेबें काट
26 जून 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
26 जून 2016
सत्य की सड़क मिथ्या की चाैखट पर पहुंचकरमात्र एक गैलरी रह जाती हैऔर शेष भूमि परकविताएं लिख दी जाती हैं,कविताएंजो कभी भी किसी भी सूरत मेंसड्कें नहीं बन सकतीं।प्रशस्ति पत्रों से लिपटी सहमी ग्रामीण दुल्हनों जैसी जीवन भर चक्की पीसती रहती है, रोटियां पकाती रहती है और उधर मिथ्या की काली गैलरी में जेबें काट
26 जून 2016
26 जून 2016
सत्य की सड़क मिथ्या की चाैखट पर पहुंचकरमात्र एक गैलरी रह जाती हैऔर शेष भूमि परकविताएं लिख दी जाती हैं,कविताएंजो कभी भी किसी भी सूरत मेंसड्कें नहीं बन सकतीं।प्रशस्ति पत्रों से लिपटी सहमी ग्रामीण दुल्हनों जैसी जीवन भर चक्की पीसती रहती है, रोटियां पकाती रहती है और उधर मिथ्या की काली गैलरी में जेबें काट
26 जून 2016
20 जून 2016
कवि:- शिवदत्त श्रोत्रियजब तक आँखो मे आँसू हैतब तक समझो मे जिंदा हूँ||धरती का सीना चीर यहाँनिकाल रहे है सामानो कोमंदिर को ढाल बना अपनीछिपा रहे है खजानो को|इमारतें बना के उँचीछू बैठे है आकाश कोउड़ रहे हवा के वेग साथजो ठहरा देता सांस को|जब तक भूख ग़रीबी चोराहो परतब तक मै शर्मिंदा हूँ||जब तक आँखो मे आँस
20 जून 2016
30 जून 2016
आजकल हमारे देश में नौजवानो के लिए साहित्य से लगाव ही नहीं |कविता,कहानी क्या है जानते ही नहीं |न लेखक को पहचानते हैं न कवि को |साहित्य से दूर ही रहते हैं वो तो आजकल अश्लील वीडियो ,अश्लील मूवीज एंव भोजपुरी के अश्लील गाने एंव फिल्मो को देखना पसंद करते हैं इन सबका हमारे देश मे तेजी से वृद्धि भी हो रहा ह
30 जून 2016
12 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
12 जुलाई 2016
21 जून 2016
योग व्यक्ति को तन और मन से जोड़ता है। तन से जुड़ने का का मतलब है शरीर की देखभाल इस देखभाल से स्वास्थ्य अच्छा रहता है और मन सेे जुड़ने का मतलब है मन की एकाग्रता। इस प्रकार तन और मन पर व्यक्ति का नियंत्रण हो जाता है जिससे संयम, विवेक और साहस बढ़ता है और व्यक्ति स्वस्थ व प्रसन्नचित्त रहता है। वस्तुतः यो
21 जून 2016
24 जून 2016
1. प्राभृतक   क-नजर, रिश्वत ख-विरोध ग-शत्रु 2. प्रियंवद क-अपना  ख-मधुरभाषी ग-प्यार  3. प्रेक्षक क-दर्शक   ख-पठनीय  ग-पृच्छक 4. प्रेमोन्मत्त     क-प्रेम ख-प्रेमी ग-प्रेम में पागल उत्तर 1. क   2. ख 3. क 4. ग
24 जून 2016
30 जून 2016
मे
कवि:- शिवदत्त श्रोत्रियहर किसी को आज है, इंतेजार महफ़िल मे मेराफिर भी लगता है कि , बस हम ही बिन बुलाए है||मोहब्बत अगर गुनाह, फिर हम दोनो थे ज़िम्मेदारमहफिले चाँदनी तुम, हम सरे बज्म सर झुकाए है||खामोशी उनकी कहती है, कुछ टूटा है अन्दर तकलगता है जैसे मेरी तरह, वो जमाने के सताए है ||वैसे क्या कम सितम, ज
30 जून 2016
15 जून 2016
प्राय: ऐसा होता है कि जब हम काम आरम्‍भ करते हैं तो बड़े उत्‍साह से करते हैं। किन्‍तु ज्‍यों-ज्‍यों उस कार्य में आगे बढ़ते हैं, त्‍यों-त्‍यों उत्‍साह में कमी आने लगती है, लगन शिथिल पढ़ने लगती है। ऐसा क्‍यों है, कभी आपने सोचा। ऐसा आत्‍मचिन्‍तन के अभाव में होता है। निज किए हुए कार्यों का चिन्‍तन करने व
15 जून 2016
14 जून 2016
1. प्रमादीक-पागल/लापरवाहख-आलस्य ग-बुरा2. प्रमिताशनक-प्रतिमा सदृशख-नपातुला भोजन ग-मूर्ति3. प्रमुक्तिक-मुक्ति/मोक्षख-विश्वास, ग-छोड़ना4. प्रयासी         क-प्रयास ख-कर्मग-प्रयास करने वालाउत्तर 1. क 2. ख 3. क 4. ग
14 जून 2016
12 जुलाई 2016
उपयोगी को ग्राह्य कर लेना चाहिए और अनुपयोगी को त्याज्य देना चाहिए। एक बार की बात है कि गांधी जी को किसी युवक द्वारा लिखा एक पत्र मिला जिसमें गांधी जी को बहुत गालियां दी गई थीं।  गांधी जी ने शान्त भाव से तीन पन्नों का पत्र पढ़ा था और उसमें लगी आॅलपिन को निकालकर रख लिया और पत्र फाड़कर रद्दी की टोकरी म
12 जुलाई 2016
19 जून 2016
जाति एक भ्रान्ति है-मानव को मानव से तोड़ने की, मानवता से मोड़ने की, भेदभाव से जोड़ने की। यह सार्वभौमिक सत्य है-हर धमनी में दौड़ता खून लाल है। समानता की सबसे बड़ी मिसाल है। सर्वधर्म, समभाव की भावना यह होगी सबकी कामना तब वो दिन दूर न होगा- जब एकता के वटवृक्ष उगेंगे शान्ति के दीपक जलेंगे और इस जाति नाम
19 जून 2016
05 जुलाई 2016
हम निज विचारों से ही निज व्यक्तित्व निर्मित करते हैं। यदि हम अपने विचारों को सृजनात्मक व स्फूर्तिमय बना लें तो इससे हम अपना ही निर्माण करेंगे।हमारी इच्छाएं, आवश्यकताएं, भावनाएं और आर्दश हमारे विचार ही तो हैं।विचारों के संयम से ही व्यक्त्वि का संयम होता है। हमारे विचारों की समृद्धि व प्रखरता ही हमारे
05 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x