काम करो ,कुछ नाम करो

02 जुलाई 2016   |  दुर्गेश नन्दन भारतीय   (214 बार पढ़ा जा चुका है)

@@@@@ काम करो , कुछ नाम करो @@@@@ ********************************************************** काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो | भय को दूर भगाओ तुम ,जमीर को जगाओ तुम | दुखियों का तुम दुःख हरो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || धन खूब कमाओ तुम ,पर पूरा कर चुकाओ तुम | ईमान से तुम घर भरो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || होली पर रंग - संग करो ,पर नहीं रंग में भंग करो | खुशियों के तुम रंग भरो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || दीवाली खूब मनाओ तुम ,पर शोर नहीं मचाओ तुम | बुराई का अंधेर हरो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || पौष्टिक खाना खाओ तुम ,पर पेट नहीं बढाओ तुम | मांसाहार से तुम डरो| काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || अपना विरोध जताओ तुम ,पर बेर नहीं बढाओ तुम | गलतफहमी तुम दूर करो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || भले की तुम नक़ल करो ,पर बुरे की ठीक अकल करो | ज्ञान का प्रकाश करो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || सदाचार अपनाओ तुम ,भ्रष्टाचार भगाओ तुम | बदी का मार्ग जाम करो | काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || दुर्गेश की बातें सुनो तुम ,सही लगे तो गुनो तुम | नेकी सुबह और शाम करो| काम करो ,कुछ नाम करो ,पर नहीं देश बदनाम करो || **********************************************************

अगला लेख: कालजयी सृजन



Kokilaben Hospital India
08 मार्च 2018

We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $450,000,00,For more info
Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
WhatsApp +91 779-583-3215

अधिक जानकारी के लिए हमें कोकिलाबेन अस्पताल के भारत में गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता $ 450,000,00 की राशि के लिए है
ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
व्हाट्सएप +91 779-583-3215

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 जून 2016
@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@न बढा नजदीकियाँ इतनी,कि वे दूरियों का आधार बन जाएँ |कस न तू वीणा के तार इतने,कि वे उसके टूटे तार बन जाएँ ||सन्तुलन ही है जिन्दगी , बच अतियों से ओ भोले इन्सान ,मनाएँ अगर तू सलीके से , तो रूठा तेरा हर यार मन जाए ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@
23 जून 2016
28 जून 2016
वा
@@@@@@@@ वाह रे तर्क वीर @@@@@@@@ ********************************** एक वकील गया एक दिन ,मिठाई की दूकान पर | रहते हैं कोरे कुतर्क , जिसकी बद जुबान पर || पूछा था उसने हलवाई से ,कि रसगुल्लों का क्या भाव है | हँस कर बोला हलवाई ,जिसका सरल स्वभाव है || किलो के रुपये सौ लगेगें , अगर खाने का चाव है | वकील
28 जून 2016
23 जून 2016
भा
राष्ट्र भक्ति से परिपूर्ण कविता - @@@@@@@@भारत का नव निर्माण@@@@@@@@ पाखंडियों की पोल खोले हम ,सज्जनों का हम कल्याण करें | आओ साथियों हम सब मिलकर ,भारत का नव निर्माण करें|| सीमाओं को हम खून से सींचे ,और सींचे खेत पसीने से | दुश्मन को हम धूल चटा दें ,दोस्त को लगाए सीने से || बलात्कारी को बधिया करदे ,
23 जून 2016
06 जुलाई 2016
का
अपने प्रेमी के संग स्वच्छंद रंगरेलियां मनाने की हवस में अंधी, एक कलयुगी माँ द्वारा ,अपने मासूम बच्चों की तकिये से गला घोंट कर निर्मम हत्या करने की खबर से आहत होकर लिखी गयी और खरे कटु सत्य को उजागर करती कविता -*******************************************@@@@@@@ काश कमीना काम न होता @@@@@@@************
06 जुलाई 2016
25 जून 2016
सूरत और मुंबई के हीरा व्यापारियों ने तेज गर्मी में भारत-पाकिस्तान सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों को 10,000 धूप के चश्मे, आरओ वाटर प्यूरीफायर, ईसीजी मशीनें और अन्य वस्तुएं भेंट की हैं। नादाबेत बीओपी (गुजरात): सूरत और मुंबई के हीरा व्यापारियों ने तेज गर्मी में भारत-पाकिस्तान सीमा पर तैनात बीएसएफ के जव
25 जून 2016
21 जून 2016
@@@@@@@@@@@@@ बहू से बन गयी बेटी @@@@@@@@@@@@@************************************************************************************रोज सुबह घूमने जाने वाले सम्पत जी आज अभी तक सो रहे थे | उनकी बहू ने यह सोचा कि उनकी तबीयत ठीक नही होगी | कमरे की सफाई के दौरान बहू के हाथ से तिपाई पर रखा उनका चश्मा फर्श
21 जून 2016
06 जुलाई 2016
का
अपने प्रेमी के संग स्वच्छंद रंगरेलियां मनाने की हवस में अंधी, एक कलयुगी माँ द्वारा ,अपने मासूम बच्चों की तकिये से गला घोंट कर निर्मम हत्या करने की खबर से आहत होकर लिखी गयी और खरे कटु सत्य को उजागर करती कविता -*******************************************@@@@@@@ काश कमीना काम न होता @@@@@@@************
06 जुलाई 2016
18 जून 2016
@@@@@@@-अनमोल आजादी -@@@@@@@************************************************************सन अठारह सौ सतावन का .वो वक्त बहुत अनूठा था |जन -विद्रोह का ज्वालामुखी ,जब भारत में फूटा था ||भारतीयों ने अंग्रेजों के संग ,जब खुनी होली खेली थी |अंग्रेज जिसको ग़दर कहते ,वो आजादी की जंग पहली थी ||सुहागिनों ने सुह
18 जून 2016
24 जून 2016
का
@@@@@@@@@@@@@@@@@@कायरता को छोड़ बन्दे , हौसले का गर्जन कर |नाम अमर हो जाये तेरा , ऐसा तू सृजन कर ||कूच कर गये लोग करोड़ों बिना किसी पहचान के,कयामत त्तक ख़तम न हो, तू ऐसा अर्जन कर ||@@@@@@@@@@@@@@@@@@
24 जून 2016
09 जुलाई 2016
का
काम कोई भी छोटा नहीं  होताएक समय की बात है समुद्र के किनारे  मछुआरों की बस्ती में हेमंत नाम का मलाह रहता था वह अपनी कश्ती से यात्रियों को एक किनारे से दुसरे किनारे लाने ले जाने का काम करता था इस काम से उसे ज्यादा पैसे तो मिलते नहीं थे पर दाल रोटी चलती जाती थी उसका परिवार खुश था उसका बड़ा बेटा राहुल भ
09 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
का
काम कोई भी छोटा नहीं  होताएक समय की बात है समुद्र के किनारे  मछुआरों की बस्ती में हेमंत नाम का मलाह रहता था वह अपनी कश्ती से यात्रियों को एक किनारे से दुसरे किनारे लाने ले जाने का काम करता था इस काम से उसे ज्यादा पैसे तो मिलते नहीं थे पर दाल रोटी चलती जाती थी उसका परिवार खुश था उसका बड़ा बेटा राहुल भ
09 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x