अमीर बनने की चाबी

05 जुलाई 2016   |  gsmalhadia   (540 बार पढ़ा जा चुका है)

अमीर बनने की चाबी 


कार्ल हेनरिख मार्क्स जर्मन का महान दार्शनिक मार्क्सवाद का जन्म दाता जो गरीबी में पैदा हुआ गरीबों के लिए लड़ा और गरीबी में ही मर गया पर वह मरते मरते मकार लोगों के हाथ में सरलता से अमीर बनने की चाबी दे गया इस चाबी का नाम था मार्क्सवाद

मार्क्सवाद के तहत उन्होंने मजदूरों को शोषण करने वालों के विरुद्ध अवाज बुलंद करना सिखाया वह मानते थे समाज में दो ही वर्ग होते हैं शोषक (शोषण करने वाले),तथा शोषित (जिनका शोषण होता है)


पर मेरा मानना है के मार्क्सवाद से जितना फायदा मजदूर नेताओं का होता है उतना मजदूरों का नहीं उनके तो आागे कुआँ पीछे खाई आंदोलन करे तो मरे ना करें तो मरे सिल बट्टे में पीसना ही उनका भाग्य नजर आता है. मार्क्सवाद का सही इस्तेमाल हमारे नेता करते हैं मार्क्सवाद की आड़ में वो गरीबी का मजाक उड़ा उड़ा वोट बटोर ले जाते हैं और सेवा के नाम पर राज करने लगते हैं चुनाव से पहले वह जिन लोगों से वोटो की भीख मांगते है चुनाव के बाद वह उन लोगो को पहचानते भी नही इन्हीं लोगों को अपनी फरियाद रखने के लिए इनके चौंकीदारों की गालियां खानी पड़ती है तब कहीं जाकर नेता जी मिलते हैं और चुनाव से पहले के वादे नेता जी को याद भी नहीं रहते बड़े बड़े घोटाले करने के बाद भी कुर्सी नहीं छोड़ते राजनीतिक षड्यंत्र बता कर इस्तीफा भी नहीं देते कानून को अपनी उंगलियों पर नचाते हैं देश का धन लुटकर विदेशों में जमा कराते हैं।

हम लोगों को भी यह सत्य ज्ञात है पर क्या करें साहब हम भारतीय बाद में हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई दलित पहले हैं हमारा नेता चुना जाए तो हमारे समाज के लिए बेहतर करेगा।

     

कुछ बातें 

विदेश से पढ़कर आया नेता अंग्रेजी अच्छी बोल सकता है आपकी भावनाओं को नहीं समझ सकता। पूंजीपति आपकी गरीबी का मजाक उड़ा सकता है उसको महसूस नहीं कर सकता। फिल्म स्टार अच्छी ऐक्टींग कर सकता आपकी वास्तविक पीड़ा नहीं समझ सकता

नेता का बेटा या कोई रिश्तेदार आपको शराब बांट सकता है आप का भला नहीं कर सकता। कोई गुंडा केवल गुंडागर्दी कर सकता है आपका भला नहीं।

            

 नेता  किसे चुने

अपने में से किसी साधारण व्यक्ति को जो इमानदार हो काम करने वाला हो बकलोल ना हो आपका हमदर्द हो निडर हो।

बिना धार्मिक जाति गत भेदभाव के अपने व्यक्तिगत फायदे को त्याग कर हमें ऐसे किसी व्यक्ति का चुनाव करना चाहिए पर यदि ऐसा व्यक्ति भी पथ भ्रष्ट हो जाए तो अगले चुनाव में उसका बहिष्कार कर देना चाहिए।


मुश्किल काम है ना! इसी लिए हमारा मुल्क जो सोने की चीड़िया कहलाता था आज एक विकास शील देश है मात्र

अगला लेख: केजरीवाल जी जवाब दें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2016
अमितेश मिश्रा आप जी का बहुत बहुत धन्यवाद के आपजी ने हिंदी प्रेमियो के   एक महत्वपूर्ण मंच प्रदान किया है 
02 जुलाई 2016
28 जून 2016
First Cut App Se Videos Dekhkar Paise Kamayen Hindi Me :) Paise Kamayen Ghar Baithe Online. App Download Karen Paise Kamayen. Make Money Online. First Cut App Se Videos Dekhkar Paise Kamayen Hindi Me :)
28 जून 2016
04 जुलाई 2016
T
साइबर स्कवैटिंग’ Cyber Squatting का मतलब यह है : कि किसी लोकप्रिय नाम या संस्था के आधार पर अपनी वेबसाईट या ब्लाग का पता और नाम तय करना।टाइपो स्क्वैटिंग’ Typo Squatting का मतलब है : कि किसी लोकप्रिय नाम या संस्था के नाम से मिलता जुलता नाम रखना ताकि लोग भ्रमित होकर वहां आयें।टाईपो Typo : Typing mistak
04 जुलाई 2016
27 जून 2016
दे
देश हमारा बदल रहा हैदेश हमारा बदल रहा हैधीरे धीरे संभल रहा है दुनिया में खुद को साबित करने कोयुवा हदृय फिर मचल रहा है।।गॅाव -गाॅव और शहर -शहर में परिवर्तन का दौर चला हैंऐसा लगता है मानोदेश हमारा दौड़ पडा है।।नये अन्वेषण,नये लक्ष्य सेप्रतिपल भारत बदल रहा हैउन्नत तकनीको के प्रयोग सेकृषि जगत भी संभल रहा
27 जून 2016
16 जुलाई 2016
के
1. जनलोकपाल का क्या हुआ याद भी है कुछ के नहीं ?2. राजनीति नहीं करूँगा हर ज्वलनशील मुद्दे में आप घुस जाते हैं क्यों 3. आप की नजर मुस्लिम और दलित वोट बैंक पर हैं इससे तो गंदी राजनीति की बू आती है 4. पहले दिल्ली का विकास करे आप तो अन्य राज्यों में अपनी पार्टी को मजबूत करने लगे ह
16 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
दु
एक बार बाप बेटा कहीं बजार घूमने के मकसद घर से बाहर निकलते हैं वह अपना घोड़ा साथ लेते हैं।अब्बा कहते हैं बेटा तुम घोड़े पर बैठ जाओ तुम थक जाओगे बेटा कहता है नहीं अब्बा आप बैठ जाओ में ठीक हूँ।वह थोड़ी दूर जाते हैं तो एक रास्ते का शख्स कहता है कितना अजीब बाप है खुद मजे से घोड़े पर बैठा है और बच्चे को पैदल
09 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
ते
हर समस्या का समाधान होता है , कहना आसान है मगर असल में कर पाना हर बार उतना भी सरल नहीं होता ! खासकर तब जब वो भीड़ का उन्माद हो या फिर कट्टर धार्मिकता से पैदा किया गया जूनून ! समाधान असम्भव तब हो जाता है जब समस्या जबरन पैदा की गयी हो ! कहा भी जाता है की पागलपन का कोई इलाज नहीं !लेकिन इस चक्कर में किसी
13 जुलाई 2016

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x