अमीर बनने की चाबी

05 जुलाई 2016   |  gsmalhadia   (576 बार पढ़ा जा चुका है)

अमीर बनने की चाबी 


कार्ल हेनरिख मार्क्स जर्मन का महान दार्शनिक मार्क्सवाद का जन्म दाता जो गरीबी में पैदा हुआ गरीबों के लिए लड़ा और गरीबी में ही मर गया पर वह मरते मरते मकार लोगों के हाथ में सरलता से अमीर बनने की चाबी दे गया इस चाबी का नाम था मार्क्सवाद

मार्क्सवाद के तहत उन्होंने मजदूरों को शोषण करने वालों के विरुद्ध अवाज बुलंद करना सिखाया वह मानते थे समाज में दो ही वर्ग होते हैं शोषक (शोषण करने वाले),तथा शोषित (जिनका शोषण होता है)


पर मेरा मानना है के मार्क्सवाद से जितना फायदा मजदूर नेताओं का होता है उतना मजदूरों का नहीं उनके तो आागे कुआँ पीछे खाई आंदोलन करे तो मरे ना करें तो मरे सिल बट्टे में पीसना ही उनका भाग्य नजर आता है. मार्क्सवाद का सही इस्तेमाल हमारे नेता करते हैं मार्क्सवाद की आड़ में वो गरीबी का मजाक उड़ा उड़ा वोट बटोर ले जाते हैं और सेवा के नाम पर राज करने लगते हैं चुनाव से पहले वह जिन लोगों से वोटो की भीख मांगते है चुनाव के बाद वह उन लोगो को पहचानते भी नही इन्हीं लोगों को अपनी फरियाद रखने के लिए इनके चौंकीदारों की गालियां खानी पड़ती है तब कहीं जाकर नेता जी मिलते हैं और चुनाव से पहले के वादे नेता जी को याद भी नहीं रहते बड़े बड़े घोटाले करने के बाद भी कुर्सी नहीं छोड़ते राजनीतिक षड्यंत्र बता कर इस्तीफा भी नहीं देते कानून को अपनी उंगलियों पर नचाते हैं देश का धन लुटकर विदेशों में जमा कराते हैं।

हम लोगों को भी यह सत्य ज्ञात है पर क्या करें साहब हम भारतीय बाद में हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई दलित पहले हैं हमारा नेता चुना जाए तो हमारे समाज के लिए बेहतर करेगा।

     

कुछ बातें 

विदेश से पढ़कर आया नेता अंग्रेजी अच्छी बोल सकता है आपकी भावनाओं को नहीं समझ सकता। पूंजीपति आपकी गरीबी का मजाक उड़ा सकता है उसको महसूस नहीं कर सकता। फिल्म स्टार अच्छी ऐक्टींग कर सकता आपकी वास्तविक पीड़ा नहीं समझ सकता

नेता का बेटा या कोई रिश्तेदार आपको शराब बांट सकता है आप का भला नहीं कर सकता। कोई गुंडा केवल गुंडागर्दी कर सकता है आपका भला नहीं।

            

 नेता  किसे चुने

अपने में से किसी साधारण व्यक्ति को जो इमानदार हो काम करने वाला हो बकलोल ना हो आपका हमदर्द हो निडर हो।

बिना धार्मिक जाति गत भेदभाव के अपने व्यक्तिगत फायदे को त्याग कर हमें ऐसे किसी व्यक्ति का चुनाव करना चाहिए पर यदि ऐसा व्यक्ति भी पथ भ्रष्ट हो जाए तो अगले चुनाव में उसका बहिष्कार कर देना चाहिए।


मुश्किल काम है ना! इसी लिए हमारा मुल्क जो सोने की चीड़िया कहलाता था आज एक विकास शील देश है मात्र

अगला लेख: केजरीवाल जी जवाब दें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2016
के
1. जनलोकपाल का क्या हुआ याद भी है कुछ के नहीं ?2. राजनीति नहीं करूँगा हर ज्वलनशील मुद्दे में आप घुस जाते हैं क्यों 3. आप की नजर मुस्लिम और दलित वोट बैंक पर हैं इससे तो गंदी राजनीति की बू आती है 4. पहले दिल्ली का विकास करे आप तो अन्य राज्यों में अपनी पार्टी को मजबूत करने लगे ह
16 जुलाई 2016
27 जून 2016
दे
देश हमारा बदल रहा हैदेश हमारा बदल रहा हैधीरे धीरे संभल रहा है दुनिया में खुद को साबित करने कोयुवा हदृय फिर मचल रहा है।।गॅाव -गाॅव और शहर -शहर में परिवर्तन का दौर चला हैंऐसा लगता है मानोदेश हमारा दौड़ पडा है।।नये अन्वेषण,नये लक्ष्य सेप्रतिपल भारत बदल रहा हैउन्नत तकनीको के प्रयोग सेकृषि जगत भी संभल रहा
27 जून 2016
30 जून 2016
रा
हम जानते है कि भारत देश में राजनीति और आरक्षण दो ऐसे मुद्दे है जो आजकल बच्चे बच्चे की जुबान पर है और यही दो मुद्दे देश के विकास को रोक रहे है कहने को तो भारत देश काफी विकसित देश है और ये सच भी है पर इस देश में से राजनीति और आरक्षण हटा दिए जाये तो ये देश कहाँ से कहाँ पहुंच जाये ! देश के नेता सिर्फ वा
30 जून 2016
15 जुलाई 2016
रा
एक गांव में नदियाँ किनारे मन्दिर में रोज शाम की आरती के बाद पंडित जी रामायण की कथा करते और भगतों को राम नाम की शक्ति का अनुसरण कराते पंडित जी की कथा की महिमा दूसरे गांवों में भी फेलने लगी लोग दूर दूर से जुड़ने लगे।एक गुजरी भी दूसरे गाँव से कश्ती में नदी पार कर नित्य कथा सुनने आने लगी एक बार कथा करते
15 जुलाई 2016
02 जुलाई 2016
अमितेश मिश्रा आप जी का बहुत बहुत धन्यवाद के आपजी ने हिंदी प्रेमियो के   एक महत्वपूर्ण मंच प्रदान किया है 
02 जुलाई 2016
04 जुलाई 2016
गु
कोई भी हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई बौद्ध जैनी या अन्य किसी धर्म को मानने वाला सिक्खों की धार्मिक पुस्तक का अनादर बेअदबी करने से पूर्व एक बार जरूर पड़े गुरु ग्रंथ साहिब जी सिक्खो का हि नहीं पूरी मानवता का सांझा ग्रंथ है इसमें दर्ज बाणी में लिखा गया है1.अव्वल अला नूर उपाया कुदरत के सब बंदे एक नूर ते सब ज
04 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
23 जून 2016
दे
देश वासी देश की तरक्कीमे सहयोग करें ============================आरक्षण जैसी कई बीमारिया की वजह से टीना डाभी पास हुई और अंकित श्री वास्तव फेल जो की अंकित कोsahyog तिनसे ज्यादा मार्क्स है ३५ मार्क ज्यादा लेकिन अंकित को आरक्षण व्यवस्ताने फेल करदिया और तिनको पास , ये बिमारिकि जड़ देश में डालने वाला नहेरु
23 जून 2016

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x