सीख

12 जुलाई 2016   |  राजेश कुमार श्रीवास्तव   (328 बार पढ़ा जा चुका है)

सीख

अक्सर जब घर में कमाने वाला एक और खाने वाले अत्यधिक हों तो जो हाल होता है वही हाल सुधीर का था/ उसके अलावा,  परिवार में माता -पिता,एक बेरोजगार भाई, एक अविवाहित बहन और एक तलाकशुदा बहन अपने दो-दो बच्चों के साथ एक ही घर में रहते थे / सभी के खर्च का जिम्मा सुधीर ही उठाता था / पिताजी रिटायर्ड हो चुके थे और नाम मात्र का पेंशन पाते थे / छोटा भाई और बड़ी बहन ट्यूशन पढ़ाकर मामूली आय करते थे / माँ हमेशा बीमार रहती थी / माँ के इलाज और छोटी बहन के पढाई में अच्छा -खाशा खर्च होता था /  सुधीर  एक कंपनी में इंजीनियर था / उसकी आय अच्छी थी / लेकिन सारा आय परिवार में ही खर्च हो जाता था / सुधीर भी परिवार के ख़ुशी में ही अपनी ख़ुशी मानता था / अच्छे पोस्ट और अच्छे आय के वावजूद वह साधारण जीवन व्यतीत करता था/ उसे इसका कोई अफ़सोस नहीं रहता की अच्छे आय के वावजूद वह अपनी निजी इच्छाओं को पूर्ति करने में असमर्थ था/ लेकिन धीरे -धीरे सहकर्मियों के पहनावों -ओढ़े, खान-पान, जीवन -यापन को देख देखकर उसके सोच में परिवर्तन होने लगा / उसे लगने लगा की इतना अच्छा कमाने के वावजूद वह अपने लिए अलग से कुछ खर्च नहीं कर पाता / उसे भी आधुनिक और मौज-मस्ती की दुनिया लुभाने लगी /  परिवार के साथ रहकर ऐसा सम्भव नहीं था / इसलिए उसने घर छोड़कर बाहर नौकरी के लिए जाने का निर्णय किया / 

घर के लोग उसके निर्णय से खुश नहीं थे / लेकिन उसे उनलोगों की परवाह ना की / उसने घरवालों को समझाया कि बाहर  जाना उसके कैरियर के लिए बहुत जरुरी है  / 

कुछ ही दिनों में उसे दूर मुंबई शहर में एक अच्छी कंपनी में काम करने का ऑफर मिला / वह मुंबई जाने के लिए स्टेशन पहुँचा / टिकट कटाकर समय सारणी बोर्ड पर ट्रेन का समय देख रहा था / अचानक उसे पीछे से अपने पैंट को खीचने जैसा महसुस हुआ / उसने मुड़कर देखा  मैली कुचली, फटी सलवार कुर्ती पहने हाथ में कटोरे लिए एक किशोरी भीख मांग रही थी / 

सुधीर को अपनी तरफ मुड़कर देखते ही वह बोल उठी -" बाबू पांच रूपये दो ना भूख लगी है भात खाऊँगी /"

सुधीर-" पांच रुपये में भात मिल जाएगा /"

किशोरी-" हाँ बाबू और कुछ लोगों से मांगकर भात खा लुंगी / पांच रुपये दो ना / भगवान तुम्हे भला करेगा /" 

किशोरी की रोनी सूरत देखकर सुधीर को दया आ गई / 

सुधीर-" यहाँ भात कितने का आता है ?" 

किशोरी-" पचास रुपये का बाबू / "

सुधीर-" कहाँ मिलेगा भात /"

किशोरी ने सामने एक होटल को दिखाकर कहा " वहाँ /"

सुधीर ने घडी पर नज़र डाली अभी ट्रेन के आने में देर थी / उसने किशोरी से कहा " चलो मैं तुम्हे भात खिलाता हूँ /" फिर वह उस होटल की ओर बढ़ने लगा /

किशोरी उसके रास्ते में खड़े होकर आगे बढ़ने से रोका और बोली " काहे को इतना कष्ट  करोगे बाबू / मुझे रुपये दे दो मैं खा लुंगी /"

सुधीर - " तुम मेरे कष्ट की चिंता मत करो / चलो तुम्हे जो खाना है खाओ / जितने पैसे होंगे मैं दे दूंगा /"

किशोरी -" तो एक काम करो बाबू तुम मुझे पचास रुपये दे दो मैं खुद खा लुंगी /" 

सुधीर -" पैसा तो मै  तुम्हारे हाथ में नहीं दूंगा / तुमलोग पैसा लेकर गलत जगह खर्च कर देते हो / चलो जो खाना है खाओ मैं पैसा चुका दूंगा / और तुम्हे तो बहुत भूख भी लगा है ना/"

किशोरी ने अपने दोनों कानों को पकड़ते हुआ कहा -: कसम से मैं वैसी नहीं हूँ / तुम नहीं समझते बाबू / मैं अभी नहीं खा सकती /"

सुधीर-" क्यों नहीं खा सकती ?"

किशोरी-"घर वाले भूखे है ना /"

सुधीर ने उत्सुकता दिखाते हुए पूछा " कौन-कौन हैं तुम्हारे घर में ?"

किशोरी-" बाबा बीमार है / खाट पर पड़े रहता है / माँ उसकी देखभाल में लगी रहती है / छोटा भाई है लेकिन उसे ठीक से भीख मांगने नहीं आता /"

सुधीर-" तो तुम खा लो / वे लोग भी बाद में खा लेंगे /"

किशोरी -" एक काम करोगे बाबू / तुम मुझे जितने के खाना खिलाना चाहते हो उतने का मुझे चावल, दाल और अंडे खरीद दो /"

सुधीर -" इससे क्या होगा?"

किशोरी -" हमलोग आज घर में पार्टी करेंगे / दाल भात के साथ आमलेट / बहुत अच्छा लगेगा / बहुत दिन हो गया ऐसा खाना नहीं मिला/"

सुधीर -" लेकिन पचास रुपये में जो सामान आएगा उससे तो दो लोगों का मुश्किल से भोजन  हो पायेगा / और तुम्हारे घर में तो चार सदस्य है / "

किशोरी -" उससे क्या होगा बाबूजी / थोड़ा -थोड़ा कम खाएंगे लेकिन सब मिलकर खाएंगे / अकेले भर पेट दावत उड़ाने से ज्यादा मजा एक साथ मिलकर खाने में आता है बाबूजी / भले ही थोड़ा कम क्यों ना हो /" 

किशोरी की बात को सुनकर सुधीर को स्वयं से घृणा होने लगा / उसने अपना इरादा बदल दिया / पॉकेट से एक सौ रुपये का नोट निकालकर उस किशोरी के हाथों में रखते हुए बोला "मुझे सिख देने के एवज़ में मेरी ओर से यह गुरुदक्षिणा /"

फिर उसने टिकट लौटाए और ख़ुशी-ख़ुशी घर की ओर लौट पड़ा/ 

(चित्र गूगल से साभार)  

अगला लेख: ऐसे विज्ञापनों के प्रकाशन क्यों ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जुलाई 2016
ईद का अर्थ ख़ुशी अर्थात खुशियों का पर्व                  डॉ शोभा भारद्वाज जब भी ईद आती है मेरी स्मृति में कुछ यादें उभर जाती हैं| हम कई वर्ष परिवार सहित ईरान में रहे हैं यह शिया बाहुल्य प्रदेश है लेकिन हम खुर्दिस्तान में रहते थे खुर्द सुन्नी मुस्लिम हैं | तीस दिन तक रमजान के महीने में रोजे रखने के बा
12 जुलाई 2016
12 जुलाई 2016
ईद का अर्थ ख़ुशी अर्थात खुशियों का पर्व                  डॉ शोभा भारद्वाज जब भी ईद आती है मेरी स्मृति में कुछ यादें उभर जाती हैं| हम कई वर्ष परिवार सहित ईरान में रहे हैं यह शिया बाहुल्य प्रदेश है लेकिन हम खुर्दिस्तान में रहते थे खुर्द सुन्नी मुस्लिम हैं | तीस दिन तक रमजान के महीने में रोजे रखने के बा
12 जुलाई 2016
19 जुलाई 2016
इस कदर अब बुरे वक्त आने लगे हैं /सोएं मुर्गे, लोग उनको अब जगाने लगे हैं/ कश्ती डूबने की  डर थी जिन्हे बीच भँवर में /अपनी कश्ती ही खुद वो डुबोने लगे है /ना दुःख में शामिल, सुख में मिलना बामुश्किल /अब "फेसबुक" पर ही दोस्ती निभाने लगे है /जवानी के जोश में हुए बेख़ौफ़ इस कदर /मासूमों पर ही अपनी मर्दांगि
19 जुलाई 2016
19 जुलाई 2016
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:TargetScreenSize>800x600</o:TargetScreenSize> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <
19 जुलाई 2016
28 जून 2016
पु
पहले महिलाएं त्याग, संस्कार, धर्म और सादगी की प्रतिमूर्ति हुआ करती थी / इन्ही विशेष गुणों के कारण उन्हें भारतीये समाज में देवी का स्थान प्राप्त था / इन सब गुणों को महिलायों ने बिना किसी के दबाव में स्वच्छेया से अपनाया था / वह परिवार की आतंरिक मैनेजर बनकर गर्व महसूस करती थी / महिलाएं परिवार के आतंरिक
28 जून 2016
15 जुलाई 2016
डैड अब मैं यंग हो गई हूँ/ब्वाय फ्रैंड बदलते-बदलते -तंग हो गई हूँ/अब मुझे चाहिए स्थाई समाधान/ला दो ना मुझे कोई हैंडसम, स्मार्ट  चाहे जितना देना पड़े दाम/"कन्या दान" का नाम मत लेना/वर खरीदकर मुझे दान कर देना/कोई ऐसा वर खरीदना /जो जिंदगी भर मेरी गुलामी कर सके/गाड़ी, बंगला मैं जहाँ-जहाँ चाहू दिला सके/उस
15 जुलाई 2016
10 जुलाई 2016
दु
दुखों की पोटलीएक बार एक गांव के सभी लोग अपने अपने दुखों के कारण भगवान से बहुत नाराज हो गए वह भगवान से प्रार्थना करने लगे कि उनके दुखों को दुर करें वरना वो भगवान काहे का ?लोगें की फरियाद सुन आकाश से भविष्यवाणी हुई  हे गांव वासियों ऐसा करें आज रात के तीसरे पहर में सब लोग अपने अपने दुखो को एक कागज में
10 जुलाई 2016
22 जुलाई 2016
 "इक्कीसवी सदी में स्त्रियाँ किसी भी मायने में पुरुषों से कम नहीं है / कारखाना हो या ऑफिस, सीमा पर लड़ना हो या अंतरिक्ष में चहलकदमी, सभी जगह महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से कंधे मिलाकर आगे बढ़ रही है / और एक आप है जो खुद नौकरी करते है लेकिन मुझे रोकते है / बड़े सौभाग्य से मेरी सहेली ने मेरे लिए कॉल स
22 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
आजकल प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक सभी तरह के मीडिया पर कुछ ऐसे विज्ञापन प्रकाशित  किये जा रहे है जो बच्चो, किशोर, युवाओं के साथ -साथ बृद्धों को भी बुरी तरह से प्रभावित कर सामाजिक पतन, आर्थिक नुकसान के साथ-साथ उनको चारित्रिक पतन की ओर ढ़केल रहे है / ऐसे विज्ञापनों के माध्यम से खुलकर समाज में देह व्यवसाय, अन
14 जुलाई 2016
21 जुलाई 2016
चलो हम सब मिलकर -आपसी नफ़रत को - जलाकर राख कर डाले /तू मेरे सीने से लिपटो ,हम तुम्हे गले लगा डाले /तू हमारे और  हम तुम्हारे -भावनाओं का रखें ख्याल /बन गई जो दूरियाँ -उसे सिमटा डाले /तू मेरे सीने से लिपटो ,हम तुम्हे गले लगा डाले /अब न कोई सेंक सके रोटी -हमारी भावनाओं की-जलाकर आग /राजनितिक मुहरा बनने स
21 जुलाई 2016
30 जून 2016
आजकल हमारे देश में नौजवानो के लिए साहित्य से लगाव ही नहीं |कविता,कहानी क्या है जानते ही नहीं |न लेखक को पहचानते हैं न कवि को |साहित्य से दूर ही रहते हैं वो तो आजकल अश्लील वीडियो ,अश्लील मूवीज एंव भोजपुरी के अश्लील गाने एंव फिल्मो को देखना पसंद करते हैं इन सबका हमारे देश मे तेजी से वृद्धि भी हो रहा ह
30 जून 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x