चिट्ठी आयी है, आयी है ... Satire on letter writing, Ravish Kumar, Rohit Sardana, Journalism!

13 जुलाई 2016   |  मिथिलेश कुमार सिंह   (157 बार पढ़ा जा चुका है)

आजकल चिट्ठियों की बड़ी चर्चा है और हो भी क्यों न आखिर कंप्यूटर, स्मार्टफोन के युग में कोई 'चिट्ठी' लिखे तो यह बात 'एंटीक' सा लगता है और बड़े लोगों को तो वैसे भी 'एंटीक' चीजें पसंद होती हैं. चिट्ठियों का इतिहास हम देखते हैं तो इसे 'प्रेम-पत्र' के रूप में कहीं ज्यादा मान्यता प्राप्त रही है. मसलन कुछ साल पहले तक मजनूँ टाइप लड़के स्कूल/ कॉलेज-गोइंग लड़कियों को खूब चिट्ठी लिखा करते थे या फिर दूर सुदूर प्रदेश में कमाने वाले महबूब, गाँव में रहने वाली महबूबा को अंतर्देशीय-पत्रों के जरिये अपनी फीलिंग पहुंचाते थे.


यह 'चिट्ठी' कई बार पूरे मोहल्ले तक पहले और फिर आखिर में उनकी पत्नी तक पहुँच पाती थी. बाद में 'जवाबी-पत्र' में पत्नी लिखती थी कि चिट्ठी में 'गोंद' ठीक से लगाया कीजिये और ऐसी-वैसी बातें क्यों लिखते हैं जी, सब पढ़ लेते हैं!

देखा जाए तो आज के समय में चिट्ठियों का वही प्रारूप 'खुले-पत्र' के रूप में कुछ पत्रकार बंधुओं ने ज़िंदा रखा है. वैसे पत्र सामान्यतः वन-टू-वन कम्युनिकेशन का ज़रिया बनते रहे हैं, किन्तु 'गोंद' न लगने की वजह से हमारी व्यक्तिगत फीलिंग कई बार 'भद्दे' रूप में सबके सामने आ जाती है. 'भद्दे रूप' का प्रयोग इसलिए, क्योंकि 'पत्र-लेखन' में हम लिखते तो अपनी समझ और शब्दों से हैं, किन्तु उसका अर्थ सामने वाला अपनी समझ से निकालता है. खुले-पत्रों में तो मामला और भी गम्भीर हो जाता है, क्योंकि कई खुल-खुलकर चटकारे लेते हैं तो कइयों द्वारा जवाबी-पत्र भी लिख दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें: 'वेबसाइट' न चलने की वजह से आत्महत्या ... !!!

अब 'शिकायती-पत्रों' द्वारा अपनी बेवफाई का ढिंढोरा पीटने वाले इस बात को कहाँ समझते हैं कि 'शिकायतें' तो दूसरों के पास भी हैं.

पर ख़ूबसूरती देखिये 'प्रेम-पत्रों' की, जिसमें प्रेमी शिकायत करता है कि तुम देर से मिलने आती हो, तो प्रेमिका शिकायत करती है कि तुम्हें तो मेरी याद ही नहीं आती, केवल प्रेम का दिखावा करते हो! यह अलग बात है कि शिकायतों, गिले-शिकवों का दौर चलता रहता है और इसके साथ प्रेम भी प्रगाढ़ होता जाता है. पर चलते-चलते कई बार बेवजह की खुन्नस चढ़ जाती है कइयों को, और प्रेम-पत्र का भाव 'हेट-स्टोरी' जैसा हो जाता है, फिर हेट-स्टोरी टू और थ्री की सीरीज सी बनने लगती है.

ऐसे में प्रेमी-प्रेमिका को एक दुसरे की सामान्य हरकतें भी अखरने लगती हैं, मसलन प्रेमिका अगर किसी से हंस कर बात भी कर ले तो 'व्हाट्सप्प रुपी पत्र' का नोटिफिकेशन उसके पास आ जाता है.

व्हाट्सप्प-चिट्ठिबाजी से ध्यान आया कि कई बार यहाँ भी पत्र 'खुले' हो जाते हैं, जब प्रेमिका या प्रेमी की बजाय किसी 'ग्रुप' में 'पत्र' फॉरवर्ड हो जाएँ!

वैसे, इन मामलों में 'पत्रकार-बंधुओं' ने पूरी आज़ादी ले रखी है. वह जब चाहें 'पत्रकारों के ग्रुप' में रहें और कोई सन्देश 'राजनीतिक ग्रुप' में चला जाए तो वह उनसे घुल-मिल जाते हैं. यूं भी आजकल मीडिया के 'कॉरपोरेटीकरण' ने पत्रकारों को कई 'व्हाट्सप्प ग्रुपों' में जोड़ रखा है. कई पत्रकार इन सभी ग्रुपों को बढ़िया 'संतुलित' कर लेते हैं तो कई इतने ग्रुप्स को देखकर 'कन्फ़्युजिया' जाते हैं और फिर पुराने फॉर्मेट में 'पत्र-लेखन' कर डालते हैं.

पर वह 'गोंद' क्यों नहीं लगाते, या फिर पुराने पत्र-लेखन कला के साथ गोंद लगाने की कला भी विस्मृत हो गयी है और वह 'थूक' से काम चला लेना चाहते हैं...

बहुत कन्फ्यूजन है रे भइया इन 'चिट्ठी-पत्रियों' में...

इतने बड़े लोग उलझ जा रहे हैं तो फिर ... !!!


Satire on letter writing, Ravish Kumar, Rohit Sardana, Journalism!

- मिथिलेश.

अगला लेख: प्रचार नहीं, 'अच्छे कार्यों का प्रसार' बना अखिलेश की पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2016
यू
... पर कांग्रेस के लिए ऐसे दबंग और आपराधिक मुस्लिमों से खुलेआम हाथ मिलाना नामुमकिन की हद तक मुश्किल होगा, पर यह राजनीति है और राजनीति में कुछ भी 'नामुमकिन' नहीं होता है. प्रियंका गांधी के बारे में कहा जा रहा है कि वह प्रदेश भर में (UP Election 2017) प्रचार करेंगी और ऐसा होने पर उनकी जनसभाओं में भीड़
15 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
ते
... इस नई व्यवस्था से अर्थव्यवस्था को 60 लाख करोड़ रुपये का महत्वपूर्ण फायदा होगा. गौरतलब है कि लोकसभा में ये बिल पहले ही पास हो चुका है, लेकिन राज्यसभा में इसकी राह में बार-बार रोड़े अड़ा दिए जाते हैं, जिसके लिए कांग्रेस सीधे तौर पर जिम्मेदार मानी जा रही है और इसके लिए उसकी खासी आलोचना भी हो चुकी है.
20 जुलाई 2016
03 जुलाई 2016
कल तक जो विश्लेषक यूपी की समाजवादी पार्टी सरकार को अपराधियों की मददगार मानते थे, वही आज अखिलेश यादव की मुक्तकंठ से सराहना कर रहे हैं. पिछले दिनों कई लेख और रिपोर्ट देखी, जिसमें अखिलेश यादव ने अपनी सरकार के आगे जाने का रोडमैप बेहद सख्ती से लागू किया. अभी ज्यादा दिन नहीं हुए, जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्
03 जुलाई 2016
06 जुलाई 2016
'
... आज केवल पत्रकारिता, लेखन में ही नहीं बल्कि टूरिज्म, मेडिकल, स्कूलिंग हर क्षेत्र में इंटरनेट जड़ तक घुसने के लिए ज़ोर लगा रहा है. चूंकि, मैं खुद इस व्यवसाय से पिछले 8 सालों से (8 Year experience in Digital marketing) सीधा जुड़ा हुआ हूँ और रोज अनेक क्षेत्रों से मेरे पास इंक्वायरी आती है कि मिथिलेश जी
06 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
गी
ब्रह्म ,ब्रह्मा और ब्राह्मण का अर्थ कितने प्रतिशत लोग जानते है . मेरे अनुमान से शायद करोड़ो में एक इसका सच्चा अर्थ जाननेवाला है . अपने आप को हिन्दू कहने वाले क्या हिन्दू का अर्थ या हिन्दू की परिभाषा जानते है .विश्व में कोई भी हिन्दू धर्म नहीं है . हिन्दू धर्म अपने आप में कुछ भी नहीं है . भारत वर्ष मे
14 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
ते
... इस नई व्यवस्था से अर्थव्यवस्था को 60 लाख करोड़ रुपये का महत्वपूर्ण फायदा होगा. गौरतलब है कि लोकसभा में ये बिल पहले ही पास हो चुका है, लेकिन राज्यसभा में इसकी राह में बार-बार रोड़े अड़ा दिए जाते हैं, जिसके लिए कांग्रेस सीधे तौर पर जिम्मेदार मानी जा रही है और इसके लिए उसकी खासी आलोचना भी हो चुकी है.
20 जुलाई 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x