सभी दोस्तों के लिए एक चिट्ठी

13 जुलाई 2016   |  अभिजीत साहू   (250 बार पढ़ा जा चुका है)

आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । 
मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता हूँ । देर हो जाने पर बहाने बनाने लगता हूँ । जानता हूँ तुम सब समझ जाते हो पर कभी फील नहीं होने देते । यही तुम्हारी खासियत और बड़प्पन है जो मुझे तुमसे अलग करता है । सच कहूँ तो मैं दूसरा जन्म ले कर भी तुम सा नहीं बन पाऊंगा । मेरे लिए तुम्हारी सख्सियत राम सरीखे है जो अपनी पीड़ा को भूल मित्र की सहायता पहले करता है । मेरे जीवन में तुम्हारी भूमिका जामवन्त की रही है और मैं जानता हूँ कि तुम कर्ण की तरह हमेशा मेरे साथ ही रहोगे । चाहे दुनिया इधर की उधर क्यों न हो जाये । 
यार यकीन करो ये सारी बाते सिर्फ बहलाने भर को नहीं कह रहा । आज सचमुच तुम्हारे गले लगने का जी कर रहा । गले लग बताना चाहता हूँ की रिश्ते सिर्फ खून के नहीं होते और दोस्त सिर्फ नाम मात्र के लिए नहीं बनाये जाते । तुमसे जाने अनजाने बहुत कुछ सीखा है और इतना कुछ पाया है जिसकी मैं कल्पना भी नहीं कर सकता था । 
यार तुम मेरा साथ यूँ ही देते रहना क्योकि मैं जानता हूँ कि तुम्हारे बिना मैं कुछ भी नहीं ।



© अभिजीत

अगला लेख: एक चिट्ठी तुम्हारे नाम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
दो
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
02 जुलाई 2016
गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती मास्को ओलंपिक के गोल्ड मेडीलिस्ट हॉकी लीजेंड मोहम्मद शहीद को यूँ सरकार से कोई देखने नहीं आया.  नई दिल्ली : गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती मास्को ओलंपिक के गोल्ड मेडीलिस्ट हॉकी लीजेंड खिलाडी मोहम्मद शहीद को यूँ सरकार से कोई देखने नहीं आया. लेकिन शाम होते-होत
02 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
कु
प्रेम जीवन का आधार है। प्रेम के अभाव में जीवन की कल्पना ही व्यर्थ है। प्रेम ही व्यक्ति में जीवन के प्रति मोह उत्पन्न करता है। प्रेम ही व्यक्ति में सपने जगाता है। रंग-विरंगे सपने। और उन सपनों में डूबकर मन अनायास ही गाने लगता है, गुनगुनाने लगता है, मचलने लगता है, चहचहाने लगता है, फुदकने लगता है। और यह
26 जुलाई 2016
05 जुलाई 2016
जो इंसानियत को मारे, घर-घर लहू बहाये। वो किसने 'राम' समझे, किसने 'खुदा' बनाये।। ये आतिश नवा से लोग ही, मातम फ़रोश हैं, चैन-ओ-अमन का ये वतन, फिर से न डगमगाये। घोला ज़हर किसी ने या, गलती निज़ाम की, गुनहगार इस वतन के, यूँ ही न पूजे जायें। उन्हें खून की हर बूंद का, कैसे हिसाब दें, जो आँसुऔ की कीमत, अबत
05 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
07 जुलाई 2016
माय डियर मोटी (मेरे जान की दुश्मन)हफ़्तों बाद आज सोचता हूँ तुम्हें ख़त भेज ही दूँ पर उसके लिए जरूरी है पहले उसे लिख डालूँ । जानता हूँ नाराज़ हो । होना भी चाहिए पर अब अगर हर ख़त का जवाब ख़त मिलते ही लिख दूँ तो फिर वो बात नहीं होगी जो अभी है । हमारे लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में जरूरी है कि तुम लगातार लिखती
07 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
तु
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
कु
प्रेम जीवन का आधार है। प्रेम के अभाव में जीवन की कल्पना ही व्यर्थ है। प्रेम ही व्यक्ति में जीवन के प्रति मोह उत्पन्न करता है। प्रेम ही व्यक्ति में सपने जगाता है। रंग-विरंगे सपने। और उन सपनों में डूबकर मन अनायास ही गाने लगता है, गुनगुनाने लगता है, मचलने लगता है, चहचहाने लगता है, फुदकने लगता है। और यह
26 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x