सभी दोस्तों के लिए एक चिट्ठी

13 जुलाई 2016   |  अभिजीत साहू   (235 बार पढ़ा जा चुका है)

आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । 
मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता हूँ । देर हो जाने पर बहाने बनाने लगता हूँ । जानता हूँ तुम सब समझ जाते हो पर कभी फील नहीं होने देते । यही तुम्हारी खासियत और बड़प्पन है जो मुझे तुमसे अलग करता है । सच कहूँ तो मैं दूसरा जन्म ले कर भी तुम सा नहीं बन पाऊंगा । मेरे लिए तुम्हारी सख्सियत राम सरीखे है जो अपनी पीड़ा को भूल मित्र की सहायता पहले करता है । मेरे जीवन में तुम्हारी भूमिका जामवन्त की रही है और मैं जानता हूँ कि तुम कर्ण की तरह हमेशा मेरे साथ ही रहोगे । चाहे दुनिया इधर की उधर क्यों न हो जाये । 
यार यकीन करो ये सारी बाते सिर्फ बहलाने भर को नहीं कह रहा । आज सचमुच तुम्हारे गले लगने का जी कर रहा । गले लग बताना चाहता हूँ की रिश्ते सिर्फ खून के नहीं होते और दोस्त सिर्फ नाम मात्र के लिए नहीं बनाये जाते । तुमसे जाने अनजाने बहुत कुछ सीखा है और इतना कुछ पाया है जिसकी मैं कल्पना भी नहीं कर सकता था । 
यार तुम मेरा साथ यूँ ही देते रहना क्योकि मैं जानता हूँ कि तुम्हारे बिना मैं कुछ भी नहीं ।



© अभिजीत

अगला लेख: एक चिट्ठी तुम्हारे नाम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 जुलाई 2016
आज का सुवचन  
14 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
दो
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
07 जुलाई 2016
क्
फेसबुक या कम्प्यूटर पर कीबोर्ड की सहायता से लिखना अलग बात है औरअसल जिंदगी में कागज पर कलम चलना अलग । आज तकनीकी तौर पे हम जितना दक्ष होते जा रहे उतना ही पीछे हम व्यवहारिक तौर पे होते जा रहे । आज बरसों बाद जब ख़त लिखने को कागज़ और कलम ले कर बैठा तब एहसास हुआ कि असल जिंदगी में मैंने आख़री ख़त लखनऊ से लिखा
07 जुलाई 2016
07 जुलाई 2016
मा
(मेरे जान की दुश्मन)हफ़्तों बाद आज सोचता हूँ तुम्हें ख़त भेज ही दूँ पर उसके लिए जरूरी है पहले उसे लिख डालूँ । जानता हूँ नाराज़ हो । होना भी चाहिए पर अब अगर हर ख़त का जवाब ख़त मिलते ही लिख दूँ तो फिर वो बात नहीं होगी जो अभी है । हमारे लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में जरूरी है कि तुम लगातार लिखती जाओ और मैंने
07 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
कु
प्रेम जीवन का आधार है। प्रेम के अभाव में जीवन की कल्पना ही व्यर्थ है। प्रेम ही व्यक्ति में जीवन के प्रति मोह उत्पन्न करता है। प्रेम ही व्यक्ति में सपने जगाता है। रंग-विरंगे सपने। और उन सपनों में डूबकर मन अनायास ही गाने लगता है, गुनगुनाने लगता है, मचलने लगता है, चहचहाने लगता है, फुदकने लगता है। और यह
26 जुलाई 2016
05 जुलाई 2016
जो इंसानियत को मारे, घर-घर लहू बहाये। वो किसने 'राम' समझे, किसने 'खुदा' बनाये।। ये आतिश नवा से लोग ही, मातम फ़रोश हैं, चैन-ओ-अमन का ये वतन, फिर से न डगमगाये। घोला ज़हर किसी ने या, गलती निज़ाम की, गुनहगार इस वतन के, यूँ ही न पूजे जायें। उन्हें खून की हर बूंद का, कैसे हिसाब दें, जो आँसुऔ की कीमत, अबत
05 जुलाई 2016
02 जुलाई 2016
गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती मास्को ओलंपिक के गोल्ड मेडीलिस्ट हॉकी लीजेंड मोहम्मद शहीद को यूँ सरकार से कोई देखने नहीं आया.  नई दिल्ली : गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती मास्को ओलंपिक के गोल्ड मेडीलिस्ट हॉकी लीजेंड खिलाडी मोहम्मद शहीद को यूँ सरकार से कोई देखने नहीं आया. लेकिन शाम होते-होत
02 जुलाई 2016
06 जुलाई 2016
वर्ष के तीसरे ग्रैंड स्लैम विबलडन में उस समय अजीबो-गरीब स्थिति पैदा हो गई जब पुरुष युगल वर्ग के मुकाबले में उरुग्वे के पाब्लो क्यूवास को मैच के बीच में टॉयलेट ब्रेक न मिलने पर उन्होंने कोर्ट पर बैठकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुरुष युगल के तीसरे दौर में पाब्लो और उनके जोड़ीदार स्पेन के मार्सेल ग्रैनोलर
06 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
तैयार की जाती है औरतें इसी तरह रोज छेदी जाती है उनके सब्र की सिल हथौड़ी से चोट होती है उनके विश्वास पर और छैनी करती है तार – तार उनके आत्मसम्मान को कि तब तैयार होती है औरत पूरी तरह से चाहे जैसे रखो रहेगी पहले थोड़ा विरोध थोडा दर्द जरुर निकलेगा आहिस्ते – आहिस्ते सब गायब और पुनश्च दी जाती है धार क्रूर
14 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
ते
हर समस्या का समाधान होता है , कहना आसान है मगर असल में कर पाना हर बार उतना भी सरल नहीं होता ! खासकर तब जब वो भीड़ का उन्माद हो या फिर कट्टर धार्मिकता से पैदा किया गया जूनून ! समाधान असम्भव तब हो जाता है जब समस्या जबरन पैदा की गयी हो ! कहा भी जाता है की पागलपन का कोई इलाज नहीं !लेकिन इस चक्कर में किसी
13 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x