शायद एक ना होती तो महाभारत ना होती

13 जुलाई 2016   |  Ashwani Manocha   (303 बार पढ़ा जा चुका है)

शायद हम जानते है महाभारत क्यूं हुई यही शायद  गीता में भी लिखा है और वही हमने देखा है और वही टी.वीके  माध्यम से हम देखते आ रहे है । शकूनी मामा और दुर्योध्न ने किस तरह से चालबाजी करके पांडवो का 

सारा राज्य ले लिया फिर द्रोपदी का चीर हरण किया जिससे आगे चलकर महाभारत हुई । 

            पर आप सोचिये अगर युधिष्ठर से खेल खेलने से मना कर देता तो क्या महाभारत होती । चलो खेल भी 

खेल लेता राज्य भी हार जाता पर क्या द्रोपदी को दांव पर लगाना ठीक था द्रोपदी दांव पर नहीं लगती तो

महाभारत भी नहीं होती इसमें शकूनी मामा और दुर्योध्न की चाल थी पर इसमें युधिष्ठर की भूमिका कम तो नहीं थी अगर यूधिष्ठर एक ना बोल देता और ये खेल नहीं खेलता तो इतनी िवनाशकारी महाभारत ना होती । 

अगला लेख: टेंशन



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 जुलाई 2016
प्
आजकल आप देखिये प्रकृति ने भी अपना व्यवहार बदल लिया क्योंकि इन्सान ने उसे बदलने के लिये मजबूर कर दिया है क्योंकि सिर्फ अपनी जरूरत को पूरा करने के लिये हम इन्सान लगातार प्रकृति को नुकसान पंहुचा  रहे है । अब जंगल तो नाम के ही रह गये है । शहरों का विस्तार तो एेसे भड़ रंहा है जैसे जिस स्पीड से प्रदूषणभड़
11 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
ना
नारी शायद भगवान की बनाई इस सृष्टि में ऐसी रचना है जिसे हम कई नामों में जानते है माँ, बहन, पत्नि, दोस्तऔर भी बहुत नामों से जानते है और नारी ही एक भगवान की ऐसी रचना है जो इन्सान को जन्म देती है उसे9 महीने पेट में रखकर ना जानें कितनी असहनीय पीड़ा भोगती है और जहां वो पैदा होती है जहां खेलती हैअपना बचपन 
20 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
आज का सुवचन  
14 जुलाई 2016
01 जुलाई 2016
ट्
मैं जैसे ही अलवर स्टेशन पर पहुंचा ट्रैन आ गई थी मैं बिना टिकिट लिए ट्रैन में चढ़ गया ट्रैन में भीड़ थी पर मुझेसीट मिल गई मेरे पास टिकिट नहीं थी तो डर भी लग रहा था कही टिकिट चेक करने वाला न आ जाये जैसे हीकिसी स्टेशन पर ट्रैन रूकती मेरी दिल की धड़कने बहुत तेज़ हो जाती और डर के मारे में ट्रैन की सारी तरफदे
01 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
24 जुलाई 2016
से
आजकल जो भी फिल्म बनती है उसमें अधिकर सेन्सर बोर्ड की भूमिका रहती ही है सेन्सर  बोर्ड क्या है ? आम तौर पर हम लोगों की नजर में सेन्सर बोर्ड फिल्मों में आपत्ति जनक दृश्यों को हटाने के लिये है जिससे समाज पर उसका गलत असर ना हों पर क्या इस बोर्ड का काम यही है या फिर इसमें भी लोग अपना फायदा देखने लगे है आज
24 जुलाई 2016
22 जुलाई 2016
जो
कहते है जोडियां भगवान बनाता है और नीचे पण्डित या रिलेटिव के द्वारा मिलकर उनकी शादी हो जाती है और सुनने में आता है ये  जोड़ी भगवान ने बनाई है अौर बोलते है  राम मिलाई जोड़ी ।                इसमें कितनी सच्चाई है यहीं बात मैं सोच कर परेशान रहा । भगवान भी कितना फ्री बैठा होगा । जोडियां बनाने के लिये ये 
22 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x