सिर्फ ईशान के प्रबन्‍धन से पाएं धन, सुख व शान्ति

14 जुलाई 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (471 बार पढ़ा जा चुका है)

सिर्फ ईशान के प्रबन्‍धन से पाएं धन, सुख व शान्ति

    वास्‍तु प्रचलन में है और वास्‍तु सम्‍मत घर सुख-समृद्धि कारक है। वास्‍तु सम्‍मत घर सभी बनाना चाहते हैं। यदि आप भी अपनाना चाहते हैं पर अपना नहीं पा रहे हैं क्‍योंकि आपका घर तो पुराना है और बना हुआ है। ऐसे में वास्‍तु कैसे अपनाएं।

    आप चाहे तो वास्‍तु न अपनाएं पर ईशान का प्रबन्‍धन कर लेंगे तो बहुत सी समस्‍याओं से मुक्ति मिल जाएगी और रुके कार्य भी बन जाएंगे। खर्चों में कमी आ जाएगी, रोग पर धन कम खर्च होने लगेगा। जीवन में धनलाभ से आर्थिक तंगी दूर होने लगेगी। जीवन में छाया मंदा और अंधेरा छंटने लगेगा। ईशान के प्रबन्‍धन के लिए नीचे लिखे दस वास्‍तु टिप्‍स अपनाएं-

       1. पूजा सिर्फ ईशान कोण में करें। कहने का तात्‍पर्य यह है कि  पूजा सदैव उत्तर, पूर्व या ईशान की ओर मुख करके ही करें। ऐसा करने से स्‍वास्‍थ्‍य, धन एवं समृद्धि तीनों मिलते हैं और मन में शान्ति बरकरार रहती है।

       2. ईशान कोण्‍ा सदैव साफ रखना चाहिए। जैसे रोज चेहरे को साफ करते है वैसे ही ईशान कोण को चमकाकर रखें।

       3. प्रत्‍येक कमरे का ईशान कोण हल्‍का, खाली व साफ रखने से धन, स्‍वास्‍थ्‍य एवं समृद्धि तीनों मिलने लगेंगे।

       3. ईशान कोण में शौचालय, जीना एवं स्‍टोर नहीं होना चाहिए। यदि है तो इनकी जगह बदलें।

       4. किचन में गैस सदैव दक्षिण्‍ा या दक्षिण-पूर्व में जलाएं। यदि स्‍लैब नहीं बना है तो मेज रखकर जलाएं। इससे गृह क्‍लेश में कमी आएगी और परस्‍पर वैचारिक मतभेद कम होंगे।

       5. किचन में पानी की स्‍थापना ईशान या उत्तर की ओर ही करें।

       6. गृह में मुख देखने वाला शीश सदैव उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व की दीवार पर ही लगाएं। इसके अतिरिक्‍त किसी अन्‍य दीवार पर न लगाएं।

       7. किचन में कभी भी रात को झूठे बर्तन न रखें, यदि रखेंगे तो आर्थिक तंगी या धनप्राप्ति में बाधाएं या विलम्‍ब होगा।

       8. उत्तर या उत्तर-पूर्व की ओर मुख करके भोजन करने से हाजमा ठीक रहता है और स्‍वास्‍थ्‍य भी ठीक रहता है।

       9. ईशान में झाड़ू, पोचा, डस्‍टबिन न रखें।

    10. ईशान कोण सदैव साफ रखें और प्रत्‍येक कमरे का साफ रखने, खाली रखने मात्र से घर में धन, सुख व शान्ति रहती है।   

अगला लेख: महान आत्मा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जुलाई 2016
  आप सूर्योपनिषद को एक साथ एक स्थान पर अपने मोबाईल पर पढ़ना चाहते हैं तो इसे नीचे लिखे लिंक से डाॅउनलोड करके पढ़ सकते हैं।  Smashwords – Suryopanishada – a book by Umesh Puri
16 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
02 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
02 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
13 जुलाई 2016
15 जुलाई 2016
    यदि आपके विवाह में विलम्ब हो रहा है और बिना बात की बाधांए आ रही है, काम बनते बनते बिगड़ रहा है! प्रयास कर-कर के थक गए हैं तो इस बाधा व विलम्ब को दूर करने के लिए एक अनुभूत प्रयोग बता रहे हैं। इस प्रयोग से विवाह की बाधाएं दूर होती हैं, विवाह होने का मार्ग प्रशस्त होता है और अच्छे व सम्पन्न परिवारों
15 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
     क्या हमें, बच्चों या पशु-पक्षियों को पूर्वाभास हो जाता है? भविष्य में घटने वाली घटनाओं का पूर्व में ज्ञान हो जाना ही पूर्वाभास है। कुछ लोगों को अपनी मृत्यु से पूर्व ही ऐसा लगने लगता है कि मेरी मृत्यु समीप है। इसी को पूर्वाभास कहते हैं। कुछ लोग पूर्वाभास को दैवीय संकेत कहते हैं। पूर्वाभास स्वप्न
26 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
  आज का सुवचन 
16 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
12 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
12 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x