इच्‍छा शक्ति सफलता दिलाने में सहायक है!

16 जुलाई 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (456 बार पढ़ा जा चुका है)

इच्‍छा शक्ति सफलता दिलाने में सहायक है!

    जैसा चाहते हैं वैसा कर पाने के लिए जिस शक्ति से प्रेरित होते हैं उसे इच्‍छा शक्ति कहते हैं। इच्‍छा शक्ति का विकास करना सरल लगता है पर है नहीं। जीवन में बड़ी उपलब्धियां मात्र तभी मिल पाती हैं जब व्‍यक्ति अपनी प्राकृतिक मनोकामनाओं पर निज इच्‍छा शक्ति द्वारा विजय पा लेता है और इन्द्रियों पर संयम रखता है।

    यह सत्‍य है कि आत्‍म संयम से इच्‍छा शक्ति में वृद्धि होती है। मानव मस्तिष्‍क विभिन्‍न दिशाओं में गतिमान रहने का स्‍वभाव रखता है। आप कुछ कर रहे हैं तो उसे बीच में छोड़ देने की आपकी इच्‍छा हो सकती है। टीवी पर कोई कार्यक्रम देख रहे हैं तो आपका मन उसे बीच में छोड़कर कुछ ओर करने का करने लगे। यह सामान्‍य है, पर आपमें इतनी सामर्थ्‍य है कि आप अन्‍त:शक्तियों को केन्‍द्रीभूत करके एक समय में एक कार्य करने और उसे पूर्ण अविभाजित मन से करने की क्षमता उत्‍पन्‍न कर सकते हैं। आप अपने मस्तिष्‍क को इतना नियन्त्रित कर सकते हैं कि जब आप जो चाहें कर सकते हैं। जब आप एक घंटे तक एक ही वस्‍तु पर केन्द्रित कर लेते हैं तो आप मस्तिष्‍क को नियन्त्रित कर लेते हैं। नियन्त्रित मस्तिष्‍क सामान्‍य मस्तिष्‍क से अधिक बली होता है। मस्तिष्‍क को इधर-उधर भटकने पर रोक लगा लेने वाला व्‍यक्ति सामान्‍य व्‍यक्ति की अपेक्षा विशिष्‍ट होता है।

    जब आप एकाग्र हो जाते हैं तो आप समझ लें कि आपके पास इच्‍छा शक्ति है क्‍योंकि ये एकाग्रता उसी के बल पर आती है। इच्‍छा शक्ति कमजोर हो तो स्‍मरण शक्ति भी कमजोर होती है। अच्‍छी स्‍मरण शक्ति नहीं है तो समझ लें कि आप में इच्‍छा शक्ति का अभाव है। इच्‍छा शक्ति हो तो आप सबकुछ समय पर और सम्‍यक ढंग से कर पाते हैं और सफलता के सोपान चढ़ते जाते हैं।

 

अगला लेख: शतप्रतिशत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 जुलाई 2016
आज का सुवचन
19 जुलाई 2016
15 जुलाई 2016
    यदि आपके विवाह में विलम्ब हो रहा है और बिना बात की बाधांए आ रही है, काम बनते बनते बिगड़ रहा है! प्रयास कर-कर के थक गए हैं तो इस बाधा व विलम्ब को दूर करने के लिए एक अनुभूत प्रयोग बता रहे हैं। इस प्रयोग से विवाह की बाधाएं दूर होती हैं, विवाह होने का मार्ग प्रशस्त होता है और अच्छे व सम्पन्न परिवारों
15 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
आज का सुवचन  
14 जुलाई 2016
06 जुलाई 2016
क्रोध से अपना अहित होता है। क्रोध का कुटम्ब अवगुण सम्पन्न है। आईए क्रोध के कुटुम्ब का परिचय प्राप्त करें।  क्रोध का दादा है-द्वेष! क्रोध का पिता है-भय!  क्रोध की माता है-उपेक्षा! क्रोध की एक लाडली बहन है-जिद्द! क्रोध का अग्रज है-अंहकार! क्रोध की पत्नी है-हिंसा! क्रोध की पुत्रियां हैं-निंदा और चुगली!
06 जुलाई 2016
21 जुलाई 2016
    खुश कौन नहीं रहना चाहता है, सभी तो यही चाहते हैं।     खुश कैसे रहा जाए?      इस प्रश्‍न का उत्तर देने के लिए ही खुश रहने के लिए यहां कुछ बातों की चर्चा करेंगे।     यदि आपने इनको अपनाकर व्यवहार में लाएंगे तो निश्चित रूप से आप खुश रहेंगे।     ये बातें निम्नलिखित हैं-नई रुचियों का विकास करें लेकिन
21 जुलाई 2016
02 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
02 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
    सुख पाने का सरल मार्ग क्‍या है?     यह तो आप भी जानना चाहते होंगे।     सुख पाने का मार्ग सरल है-ईश्‍वरार्पण।    यदि आप सभी कार्य ईश्‍वर को अर्पण करके करें, अपनी सभी गतिविधियां उसकी इच्‍छा समझकर नीति और धर्म का पालन करते हुए करें, क्‍या होगा यह ईश्‍वर जाने, जो होगा वह भले के लिए होगा और जैसा भी ह
13 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
  आज का सुवचन 
16 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
आज का सुवचन  
14 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
17 जुलाई 2016
    जब कोई व्यक्ति मृत्यु शय्या पर पड़ा होता है, किसी असाध्य रोग से पीड़ित होता है, ऊपरी प्रभाव या हवाओं से निरन्तर रोगग्रस्त रहता है या अचानक दुर्घटना के कारण मृत्यु की घड़ियां गिन रहा होता है तो कहते हैं कि महामृत्युंजय मन्त्र का पाठ करा लो। इससे मृत्यु भी टल जाती है।    मन्त्र के लिए कह सकते हैं
17 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x