चमत्कारिक महामृत्युंजय मन्त्र

17 जुलाई 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (449 बार पढ़ा जा चुका है)

चमत्कारिक महामृत्युंजय मन्त्र

    जब कोई व्यक्ति मृत्यु शय्या पर पड़ा होता है, किसी असाध्य रोग से पीड़ित होता है, ऊपरी प्रभाव या हवाओं से निरन्तर रोगग्रस्त रहता है या अचानक दुर्घटना के कारण मृत्यु की घड़ियां गिन रहा होता है तो कहते हैं कि महामृत्युंजय मन्त्र का पाठ करा लो। इससे मृत्यु भी टल जाती है।

    मन्त्र के लिए कह सकते हैं कि वह मन व हृदय से निकली हुई सच्ची पुकार है। मन-त्रायते इति मंत्र। बार-बार बोलने से एक विशेष प्रकार की ध्वनि ऊर्जा निर्मित होती है। 108 बार मन्त्र बोलने से ध्वनि चक्र पूर्ण होता है। यह ध्वनि चक्र जितना अधिक निर्मित होता है उतना ही मन्त्र की शक्ति व प्रभाव बढ़ जाता है। मन्त्र ध्वनि से उठने वाली आवृत्ति इतनी शक्तिप्रद होती है जोकि रोगी या पीड़ित व्यक्ति को नीरोग करती है। यदि आप मन्त्र जाप करने में असमर्थ हैं तो उस मन्त्र को निरन्तर सुनकर भी कुप्रभाव से मुक्ति पा सकते हैं। यदि कर सकते हैं तो अत्यन्त प्रभावी और फलदायी है।

    जैन धर्म के पास णमोकार मन्त्र है। 

     बौद्धों के पास ऊँ मणि पद्मे हुम्‌ मन्त्र है। 

     सिक्खों के पास एक ओंकार सतनाम्‌ मन्त्र है। 

     वैसे ही हिन्दुओं के पास गायत्री मन्त्र एवं महामृत्युंजय मन्त्र है।

     मृत्यु मिट्टी सदृश है। पंचतत्वों से निर्मित यह देह मृत्तिका मात्र है। मृत्युंजय का अर्थ है जिसने मृत्यु को जीत लिया हो। शरीर मरता है, आत्मा नहीं वह तो अजर व अमर है। जिसने इस नश्वर शरीर में शाश्वत के दर्शन कर लिए और जीवन व मृत्यु के मध्य में, यश व अपयश के मध्य में, लाभ व हानि के मध्य जो अनासक्त भाव से जीवन जीता है वही मृत्युंजय है। महामृत्युंजय मन्त्र अमृतमय है।

    शुक्राचार्य मृतसंजीवनी विद्या के प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।  भृगु पुत्र शुक्राचार्य को कौन नहीं जानता? उन्होंने भगवान्‌ शिव से ही दीक्षा ली थी। मार्कण्डेय भी इसी मृत्युंजय मन्त्र से रक्षित होकर भगवान्‌ आशुतोष शिव से दीक्षा लेते हैं। यमराज भी शिव भक्तों के मन्त्रमय तेजोमय मृत्युंजय रूप को प्रणाम करते हैं।

    कहते हैं कि एक से पच्चीस लाख जप करने से यह मन्त्र अपने इष्टलोक तक पहुंचता है और इष्टदेव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। ऐसे में साधक को सिद्धि मिलती है और उसके ओज-चक्र से एक आभा स्फुटित  होने लगती है। आजकल किरलियन फोटोग्राफी से ओज-चक्र देखा जा सकता है। 

      महामृत्युंजय मन्त्र के जाप से शरीर के मृत कोशिकाएं के स्थान पर नई कोशिकाओं का निर्माण होने लगता है।

      यह सत्य है कि महामृत्युंजय मन्त्र के प्रभाव से मृत्य शरीर में चिन्मय के दर्शन होने लगते हैं।

    महामृत्युंजय मन्त्र इस प्रकार है-ॐ  त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्‌ मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्‌॥

    अर्थात्‌ समस्त संसार के पालनहार तीन नेत्रों वाले शिव की हम आराधना करते हैं। विश्व में सुरभि फैलाने वाले भगवान्‌ शिव मृत्यु न कि मोक्ष से हमें मुक्ति दिलाएं।

    यह जान लें कि त्रयम्बकं त्रैलोक्य शक्ति,  यजा सुगन्धात शक्ति, महे माया शक्ति, सुगन्धिं सुगन्धि शक्ति, पुष्टि पुरन्दिरी शक्ति,   वर्धनम्‌ वंशकरी शक्ति, उर्वा ऊर्ध्दक शक्ति,  रुक रुक्तदवती शक्ति, मिव रुक्मावती शक्ति, बन्धनान्‌ बर्बरी शक्ति, मृत्योः मन्त्रवती शक्ति, मुक्षीय मुक्तिकरी शक्ति, मा महाकालेश शक्ति एवं अमृतात्‌ अमृतवती शक्ति की द्योतक है।

    इसी प्रकार प्रत्येक वर्ण की अलग-अलग शक्ति होती है जो ब्रह्ममाण्ड में एवं शरीर में स्थित है जोकि ब्रह्माण्ड सदृश है।

    आवश्यकता है श्रद्धा, भक्ति व मनोयोग से ध्यान सहित मन्त्र जाप की। अनासक्त भाव से किया गया कर्म साधक को बांधता नहीं है। मन्त्र साधना अनासक्त भाव से जीने की कला है।

   

अगला लेख: शतप्रतिशत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
02 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
ते
हर समस्या का समाधान होता है , कहना आसान है मगर असल में कर पाना हर बार उतना भी सरल नहीं होता ! खासकर तब जब वो भीड़ का उन्माद हो या फिर कट्टर धार्मिकता से पैदा किया गया जूनून ! समाधान असम्भव तब हो जाता है जब समस्या जबरन पैदा की गयी हो ! कहा भी जाता है की पागलपन का कोई इलाज नहीं !लेकिन इस चक्कर में किसी
13 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
     क्या हमें, बच्चों या पशु-पक्षियों को पूर्वाभास हो जाता है? भविष्य में घटने वाली घटनाओं का पूर्व में ज्ञान हो जाना ही पूर्वाभास है। कुछ लोगों को अपनी मृत्यु से पूर्व ही ऐसा लगने लगता है कि मेरी मृत्यु समीप है। इसी को पूर्वाभास कहते हैं। कुछ लोग पूर्वाभास को दैवीय संकेत कहते हैं। पूर्वाभास स्वप्न
26 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
  आप सूर्योपनिषद को एक साथ एक स्थान पर अपने मोबाईल पर पढ़ना चाहते हैं तो इसे नीचे लिखे लिंक से डाॅउनलोड करके पढ़ सकते हैं।  Smashwords – Suryopanishada – a book by Umesh Puri
16 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
    वास्‍तु प्रचलन में है और वास्‍तु सम्‍मत घर सुख-समृद्धि कारक है। वास्‍तु सम्‍मत घर सभी बनाना चाहते हैं। यदि आप भी अपनाना चाहते हैं पर अपना नहीं पा रहे हैं क्‍योंकि आपका घर तो पुराना है और बना हुआ है। ऐसे में वास्‍तु कैसे अपनाएं।     आप चाहे तो वास्‍तु न अपनाएं पर ईशान का प्रबन्‍धन कर लेंगे तो बहु
14 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
आज का सुवचन  
14 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
12 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
12 जुलाई 2016
18 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
18 जुलाई 2016
18 जुलाई 2016
     स्वर दो होते हैं-सूर्य स्वर(दायां) और चन्द्र स्वर(बायां)।      सूर्य स्वर दाएं नथुने से और चन्द्र स्वर बाएं नथुने से आता-जाता रहता है।      दोनों स्वर ढाई-ढाई घड़ी में बदलते रहते हैं।     जिस नथुने  से श्‍वास अधिक तेजी से अन्‍दर जाए या निकले वह स्‍वर चल रहा होता है।       आप यात्रा करने जा र
18 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
20 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
13 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
    जब किसी स्‍त्री के तीन कन्‍या के उपरान्‍त लड़के या लड़की का जन्‍म हो तो इस त्रिखल दोष कहते हैं    त्रिखल दोष अशुभ होता है।    लड़के का जन्‍म हो तो पिता को भय, रोग एवं धनहानि होती है।    लड़की का जन्‍म हो तो माता को कष्‍ट होता है।    यदि आपके संज्ञान में त्रिखल दोष हो तो निज पुरोहित से इसकी शान्त
20 जुलाई 2016
15 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
15 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x