स्वर द्वारा सफल यात्रा व कार्यसिद्धि कैसे करे?

18 जुलाई 2016   |  डॉ उमेश पुरी 'ज्ञानेश्‍वर'   (714 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वर द्वारा सफल यात्रा व कार्यसिद्धि कैसे करे?


     स्वर दो होते हैं-सूर्य स्वर(दायां) और चन्द्र स्वर(बायां)। 

     सूर्य स्वर दाएं नथुने से और चन्द्र स्वर बाएं नथुने से आता-जाता रहता है। 

     दोनों स्वर ढाई-ढाई घड़ी में बदलते रहते हैं।

     जिस नथुने  से श्‍वास अधिक तेजी से अन्‍दर जाए या निकले वह स्‍वर चल रहा होता है। 

     आप यात्रा करने जा रहे हों अथवा किसी कार्य के लिए घर से जा रहे हों तो ऐसे में मंगलमयी यात्रा एवं कार्यसिद्धि के लिए मन में कोई चिन्ता न करें।

यदि आप स्वर को पहचानते हैं या उसे महसूस कर सकते हैं तो उसी के अनुरूप करें यात्रा मंगलमयी ही होगी और कार्य भी सिद्ध होगा।

     यदि आप यात्रा के लिए निकल रहे हैं तो सर्वप्रथम अपना स्वर महसूस करें- 
1. यदि आपका बायां स्वर चल रहा है तो पहले बायां पैर बाहर निकालकर घर से बाहर निकलें।
2. यदि आपका दायां स्वर चल रहा है तो पहले दायां पैर बाहर निकालकर घर से बाहर निकलें।
   कहने का तात्पर्य यह है कि यात्रा को सुखद् एवं प्रसन्नतामयी बनाने के साथ-साथ मंगलमयी बनाने के लिए मात्र स्वर की पहचान करके घर से बाहर निकलते समय उसी पैर को बाहर निकालकर यात्रा प्रारम्भ करनी है जो स्वर चल रहा है।
     मूलतः यह समझ लें कि समस्त शुभ या सौम्य कार्य बाएं स्वर अर्थात्‌ चन्द्र स्वर में ही करने चाहिएं।
1.  अधिक परिश्रम युक्त कार्य एवं साहस वाले कार्य क्रूर कार्य आदि करने हो तों दायां स्वर अर्थात्‌ सूर्य स्वर का प्रयोग करना चाहिए।
2.  योग, भजन, ध्यान, जप आदि कार्य सुषुम्ना स्वर में करने से शीघ्र सिद्ध होते हैं या अच्छा प्रभाव देते हैं।
3.  चन्द्र स्वर ठंडी प्रकृति का होता है इसलिए गर्मी या पित्त जनित रोगों का शमन करता है।
4.   सूर्य स्वर गर्म प्रकृति का होता है इसलिए सर्दी या कफजनित रोगों या मन्दाग्नि के कारण उत्पन्न रोगों का शमन करता है।
5.  अचानक कोई भी पीड़ा आ जाए तो तुरन्त स्वर परिवर्तन अर्थात्‌ सूर्य स्वर चल रहा हो तो चन्द्र स्वर कर दें और यदि चन्द्र स्वर चल रहा हो तो सूर्य स्वर में परिवर्तन कर देने पर तुरन्त लाभ होता है।

अगला लेख: शतप्रतिशत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 जुलाई 2016
    यदि आपके विवाह में विलम्ब हो रहा है और बिना बात की बाधांए आ रही है, काम बनते बनते बिगड़ रहा है! प्रयास कर-कर के थक गए हैं तो इस बाधा व विलम्ब को दूर करने के लिए एक अनुभूत प्रयोग बता रहे हैं। इस प्रयोग से विवाह की बाधाएं दूर होती हैं, विवाह होने का मार्ग प्रशस्त होता है और अच्छे व सम्पन्न परिवारों
15 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
15 जुलाई 2016
    यदि आपके विवाह में विलम्ब हो रहा है और बिना बात की बाधांए आ रही है, काम बनते बनते बिगड़ रहा है! प्रयास कर-कर के थक गए हैं तो इस बाधा व विलम्ब को दूर करने के लिए एक अनुभूत प्रयोग बता रहे हैं। इस प्रयोग से विवाह की बाधाएं दूर होती हैं, विवाह होने का मार्ग प्रशस्त होता है और अच्छे व सम्पन्न परिवारों
15 जुलाई 2016
12 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
12 जुलाई 2016
18 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
18 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
20 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
     क्या हमें, बच्चों या पशु-पक्षियों को पूर्वाभास हो जाता है? भविष्य में घटने वाली घटनाओं का पूर्व में ज्ञान हो जाना ही पूर्वाभास है। कुछ लोगों को अपनी मृत्यु से पूर्व ही ऐसा लगने लगता है कि मेरी मृत्यु समीप है। इसी को पूर्वाभास कहते हैं। कुछ लोग पूर्वाभास को दैवीय संकेत कहते हैं। पूर्वाभास स्वप्न
26 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
  आज का सुवचन 
16 जुलाई 2016
09 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
09 जुलाई 2016
19 जुलाई 2016
आज का सुवचन
19 जुलाई 2016
16 जुलाई 2016
व्यक्तित्व का निर्माण मूल रूप से विचारों पर निर्भर है। चिन्तन मन के साथ-साथ शरीर को भी प्रभावित करता है। चिन्तन की उत्कृष्टता को व्यवहार में लाने से ही भावात्मक व सामाजिक सामंजस्य बनता है। हमारे मन की बनावट ऐसी है कि वह चिन्तन के लिए आधार खोजता है। चिन्तन का जैसा माध्यम होगा वैसा ही उसका स्तर होगा।न
16 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज फ्रेंडशिप डे नहीं पर ना जाने क्यों तुम्हे याद करने का बड़ा मन हो रहा । शायद मैं एक बुरा दोस्त हूँ या फिर स्वार्थी या दोनों जो तुम्हारी खबर नहीं लेता । पर यार तुम किस मिट्टी के बने हो जो मेरी आवाज पर दौड़ पड़ते हो । मुझसे जुड़ा हर दिन , समय और जगह तुम्हे आज भी बखूबी याद है और मैं फेसबुक के भरोसे रहता
13 जुलाई 2016
17 जुलाई 2016
    जब कोई व्यक्ति मृत्यु शय्या पर पड़ा होता है, किसी असाध्य रोग से पीड़ित होता है, ऊपरी प्रभाव या हवाओं से निरन्तर रोगग्रस्त रहता है या अचानक दुर्घटना के कारण मृत्यु की घड़ियां गिन रहा होता है तो कहते हैं कि महामृत्युंजय मन्त्र का पाठ करा लो। इससे मृत्यु भी टल जाती है।    मन्त्र के लिए कह सकते हैं
17 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
10 जुलाई 2016
जय जगन्नाथ... बोलो जय जगन्नाथ...रथ महोत्सव पर निकली यात्रा में उत्साहित बच्चों के मुंह से निकलने वालेइस जयकारे ने नुक्कड़ से मोहल्ले की ओर जाने वाली पगडंडी पर चल रही उदासमाला की तंद्रा मानो भंग कर दी।जीवन के गुजरे पल खास कर उसका अतीत किसी फिल्म के फ्लैश बैक की तरह उसकीआंखों के सामने नाचने लगा।क्योंक
10 जुलाई 2016
20 जुलाई 2016
    जब किसी स्‍त्री के तीन कन्‍या के उपरान्‍त लड़के या लड़की का जन्‍म हो तो इस त्रिखल दोष कहते हैं    त्रिखल दोष अशुभ होता है।    लड़के का जन्‍म हो तो पिता को भय, रोग एवं धनहानि होती है।    लड़की का जन्‍म हो तो माता को कष्‍ट होता है।    यदि आपके संज्ञान में त्रिखल दोष हो तो निज पुरोहित से इसकी शान्त
20 जुलाई 2016
26 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
26 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
आज का सुवचन 
13 जुलाई 2016
14 जुलाई 2016
    वास्‍तु प्रचलन में है और वास्‍तु सम्‍मत घर सुख-समृद्धि कारक है। वास्‍तु सम्‍मत घर सभी बनाना चाहते हैं। यदि आप भी अपनाना चाहते हैं पर अपना नहीं पा रहे हैं क्‍योंकि आपका घर तो पुराना है और बना हुआ है। ऐसे में वास्‍तु कैसे अपनाएं।     आप चाहे तो वास्‍तु न अपनाएं पर ईशान का प्रबन्‍धन कर लेंगे तो बहु
14 जुलाई 2016
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x