तेरा क्या होगा रे 'जीएसटी'!

20 जुलाई 2016   |  मिथिलेश कुमार सिंह   (132 बार पढ़ा जा चुका है)

... इस नई व्यवस्था से अर्थव्यवस्था को 60 लाख करोड़ रुपये का महत्वपूर्ण फायदा होगा. गौरतलब है कि लोकसभा में ये बिल पहले ही पास हो चुका है, लेकिन राज्यसभा में इसकी राह में बार-बार रोड़े अड़ा दिए जाते हैं, जिसके लिए कांग्रेस सीधे तौर पर जिम्मेदार मानी जा रही है और इसके लिए उसकी खासी आलोचना भी हो चुकी है. हालाँकि, अपनी आलोचना से और प्रधानमंत्री के बार-बार के प्रयासों से कांग्रेस (Congress Party) भी इस बार नरम रुख अपनाती दिख रही है. इस सम्बन्ध में कांग्रेस लीडर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि "कांग्रेस विधेयकों को पास कराने में रोड़ा नहीं डालेगी, लेकिन मेरिट के आधार पर ही उनका सपोर्ट करेगी." देखा जाए तो कांग्रेस की मनः स्थिति अभी साफ़ होती नहीं दिख रही है और राज्यसभा में सरकार का बहुमत न होने का वह राजनीतिक फायदा उठाने की कोशिश (Monsoon Session 2016, GST Bill) कर रही है. ये बात अलग है कि  इस बात का उसे नुक्सान ज्यादा हो रहा है, क्योंकि ज्यादातर राज्य जीएसटी बिल के फेवर में हैं, किसी भी पार्टी ने इसका विरोध नहीं किया है और इसलिए कांग्रेस के खिलाफ जनता में भी सन्देश निर्मित हो रहा है कि वह बेवजह सरकार को परेशान और देश का नुक्सान कराने पर तुली हुई है. वैसे भी, भारत में 20 तरह के टैक्स लगते हैं और जब एक टैक्स...

Read this full article here: http://editorial.mithilesh2020.com/2016/07/monsoon-session-2016-gst-bill-news.html


तेरा क्या होगा रे 'जीएसटी'! Monsoon Session 2016, GST Bill News Views, Hindi Article, Congress, Rajyasabha

अगला लेख: प्रचार नहीं, 'अच्छे कार्यों का प्रसार' बना अखिलेश की पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जुलाई 2016
चि
आजकल चिट्ठियों की बड़ी चर्चा है और हो भी क्यों न आखिर कंप्यूटर, स्मार्टफोन के युग में कोई 'चिट्ठी' लिखे तो यह बात 'एंटीक' सा लगता है और बड़े लोगों को तो वैसे भी 'एंटीक' चीजें पसंद होती हैं. चिट्ठियों का इतिहास हम देखते हैं तो इसे 'प्रेम-पत्र' के रूप में कहीं ज्यादा मान्यता प्राप्त रही है. मसलन कुछ साल
13 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
चि
आजकल चिट्ठियों की बड़ी चर्चा है और हो भी क्यों न आखिर कंप्यूटर, स्मार्टफोन के युग में कोई 'चिट्ठी' लिखे तो यह बात 'एंटीक' सा लगता है और बड़े लोगों को तो वैसे भी 'एंटीक' चीजें पसंद होती हैं. चिट्ठियों का इतिहास हम देखते हैं तो इसे 'प्रेम-पत्र' के रूप में कहीं ज्यादा मान्यता प्राप्त रही है. मसलन कुछ साल
13 जुलाई 2016
12 जुलाई 2016
प्
विश्व जनसँख्या दिवस 11 जुलाई को आकर चला गया. कई जगहों पर छिटपुट कार्यक्रम भी हुए, किन्तु इस दिन बड़े स्तर पर पर्यावरण को लेकर जो सरकारी जागरूकता दिखाई देनी चाहिए थी, वह कहीं दिखाई नहीं दी, सिवाय उत्तर प्रदेश के! सवाल है कि आप लोगों को जनसँख्या के प्रति, पर्यावरण के प्रति कैसे जागरूक करेंगे? अगर आप कि
12 जुलाई 2016
13 जुलाई 2016
चि
आजकल चिट्ठियों की बड़ी चर्चा है और हो भी क्यों न आखिर कंप्यूटर, स्मार्टफोन के युग में कोई 'चिट्ठी' लिखे तो यह बात 'एंटीक' सा लगता है और बड़े लोगों को तो वैसे भी 'एंटीक' चीजें पसंद होती हैं. चिट्ठियों का इतिहास हम देखते हैं तो इसे 'प्रेम-पत्र' के रूप में कहीं ज्यादा मान्यता प्राप्त रही है. मसलन कुछ साल
13 जुलाई 2016
15 जुलाई 2016
यू
... पर कांग्रेस के लिए ऐसे दबंग और आपराधिक मुस्लिमों से खुलेआम हाथ मिलाना नामुमकिन की हद तक मुश्किल होगा, पर यह राजनीति है और राजनीति में कुछ भी 'नामुमकिन' नहीं होता है. प्रियंका गांधी के बारे में कहा जा रहा है कि वह प्रदेश भर में (UP Election 2017) प्रचार करेंगी और ऐसा होने पर उनकी जनसभाओं में भीड़
15 जुलाई 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x