आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

जहर खुरानी ,जहर खिला कर मरणासन्न कर लूटने वाले लुटेरों से सावधान

29 जुलाई 2016   |  शोभा भारद्वाज

जहर खुरानी ( जहर खिला कर मरणासन्न कर लूटने वाले ) लुटेरों से सावधान )

                      डॉ शोभा भारद्वाज

 सुना है अंग्रेजों के समय में कई धतूरिया गैंग थे उनके लुटेरे धतूरे के बीजों को पीस कर कभी – कभी उनमें भांग या अफीम मिला कर जहरीला बनाते थे शिकार को बातों में उलझा कर प्रशाद या किसी खाने की चीज में मिला कर प्रेम से खिला देते थे (मीठी वस्तु में मिलाने पर भी उसका स्वाद नहीं बदलता ) खाने वाला बेहोश हो कर कौमा में चला जाता था या मर जाता था उसे लूट कर भाग जाते थे |अब मारने का जहर बदला है अब तरह – तरह के ड्रग है लूटने का तरीका वही है | परिचित आनन्द कुमार गुप्ता जी एक सभ्रांत व्यक्ति हैं उन्होंने अपने साथ होने वाली लूट का किस्सा सुनाया कैसे वह मरते-मरते बचे उन्होंने कहा लूट के अनेक किस्से सुने हैं लुटेरे कैसे ठग कर लूट लेते हैं ठगे जाने वाले व्यक्ति सोच में पड़ जाता है क्या मैं इतना मूर्ख हूँ अजनबी मुझे बेवकूफ बना कर चला गया और मैं बन गया |उन्होंने अपनी आप बीती सुनायीवह चाहते हैं और लोग भी जाने उनके साथ लूट ऐसी जगह हुई जहाँ वह बड़ी परेशानी की हालत में थे उनकी बेटी अपनी सुसराल से मायके डिलीवरी के लिए आई थी उन्होंने 10 दिसम्बर को उसे लोकनारायण अस्पताल में भर्ती कराया ईश्वर की कृपा से उनकी बेटी ने दो जुड़वाँ बच्चों को जन्म दिया|

   वह बेटी के लिए बहुत परेशान थे अस्पताल में ही रहते थे न जाने कब किस चीज की जरूरत पड़ जाये उनकी पत्नी घर गयी हुई थी |उनके पास वेटिंग रूम में अच्छे कपड़े पहने दिखने में भद्र पुरुष बैठा थाउसने भी उन्हें अपनी परेशानी की कहानी सुनाई मैं मेरठ में रहता हूँ मेरा इकलोता बेटा है बहू पांच महीने की प्रिगनेंट है बच्चा 70% उलटा है उनका पूरा घर परेशान है पहला बच्चा है पता नहीं क्या होगा उन्हें उसके साथ बहुत हमदर्दी हुई उसको  समझाया भगवान का भरोसा रखो जब अपने बस में न हो ऊपर वाले पर छोड़ दो सब कुछ ठीक हो जायेगा आप सही अस्पताल में आये है बस कुछ समय का कष्ट है’ |
इतवार को वह उनके साथ ही था उसे 100 रु० की जरूरत थी लेकिन उसके पास 500 का नोट था उन्होंने उसे 100 रु दिये जब छुट्टा होगा वापिस कर दीजिएगा लेकिन फिर वह नजर नहीं आया सोमवार को रात के दस बजे थे उन्होंने कहा मैं सोने के लिए लेटा तभी वह आया उसने 100 का नोट मुझे लौटाया और कुछ देर बैठ कर चला गया अबकी बार लौटा उसके हाथ में दो कप चाय थी मैं उनींदा सा था उसने जबरदस्ती मुझे चाय पिलाई चाय पीने के बाद मुझे अजीब सा लगा मैं सो गया जब आँख खुली मैं एमरजेंसी वार्ड में था 26 घंटे के बाद होश आया ,बाद में ऑब्जरवेशन में रखा गया 80 घंटे बाद उन्हें छुट्टी मिली उनके पास सेल फोन और 7500 रु० थे लेकिन मेरे घरवालों को मेरी जेब खाली मिली’ |पूछने पर उन्होंने बताया उनकी पत्नी बेटे के साथ घर से आई उसने उन्हें बेसुध देखा वह घबरा गयी वेटिंग रूम में उपस्थित लोगों ने बताया अभी तो वह अधेड़ से आदमी से बात कर रहे थे वह उनके लिए चाय लाया थाबेटी को उनकी जरूरत थी और वह इस हाल में पहुँच गये लोकनारायण अस्पताल वालों ने वहाँ की पुलिस चौकी में मामला दर्ज कराया होश में आने पर उन्होंने अपना ब्यान दर्ज कराया उन्हें अपने आप पर गुस्सा आ रहा था इतना वह समझ गये थे जिसे वह भद्र पुरुष समझ रहे थे उसी की करतूत थी परन्तु क्या कर सकते थे उनका पूरा परिवार सकते में था यदि समय पर उनकी पत्नी और बेटा नहीं पहुंचता क्या होता ?
लगभग पाँच महीने के बाद उन्हें अस्पताल आना पड़ा उनकी बेटी का बच्चाबच्चों के 15 नम्बर बार्ड में भर्ती था |वह हैरान रह गये वही व्यक्ति सफारी सूट में वोटिंग रूम में बैठा दूसरों को अपनी पुरानी कहानी सुना रहा था जो उन्हें पाँच महीने पहले सुनायी थी सबकी सहानुभूति बटोर रहा था पहली कहानी और अब वाली कहानी में कोई फर्क नहीं था अभी भी उसकी बहू पांच महीने की प्रिगनेंट थी मन तो हुआ उसकी कालर पकडू पुलिस चौकी ले चलूँ जहाँ उनकी तरफ से शिकायत और MLC रिपोर्ट दर्ज थी कैसे उन्हें मरणासन्न अवस्था में एमरजेंसी में दाखिल किया गया था डाक्टरों की कृपा से उनके प्राण बचे थेउन्होंने क्रोध को नियन्त्रण में किया श्रोताओं में उसके पास ही बैठ कर टिफिन की आड़ में उसका वीडियो बनाने लगे वह उन्हें पहचाना या नहीं पता नहीं परन्तु चेहरे पर कोई भाव नहीं लाया |उसकी कहानी सबके साथ सुन कर पुलिस चौकी आये उनके पास प्रूफ था मामला पहले से उस व्यक्ति की कहानी के साथ दर्ज था उन्होंने वीडियो पुलिस चौकी में दिखाया पहले की कहानी और अब की कहानी हुबहू वही थी पुलिस चौकी में वीडियो देखा सारी बात सुनी एक्शन लेने का आश्वासन देकर भेज दिया वह दरियागंज के थाने में गये उन्होंने सादा कागज पर रिपोर्ट लिख कर उनका पता ,मोबइल नम्बर भी लिया |पुलिस क्या करेगीक्योकि वह अस्पतालों में घूमने वाला जहर खुरानी लुटेरा है जहर की चीज खिला कर लूटने वाला ठग है मरीजों के तीमारदारों की परेशानी के साथ अपनी परेशानी मिला कर लूटता है |वह सबको सावधान करते हैं उनका जो नुक्सान होना था हो गया वह इतना मायने भी नहीं रखता लेकिन उनके जीवन पर बन आई थी अस्पताल वालों ने बचा लिया | |उनका सबसे आग्रह है आप लोग ऐसे सफेदपोश लुटेरों से सावधान रहें जो अस्पतालों में भी तीमारदारों के बीच घुसे हुए हैं जिनके लिए कुछ रुपयों के लिए किसी को मार देना या मरने की हालत कर देना खेल है |

 


शोभा भारद्वाज

लिखना मेरा शोक है में 30 वर्षों से आकाश वाणी से जुडी हुई हूँ आज का विचार, और वार्ता मे भाग लेती हूँ  लेख भेजती हूँऔर  विचार रखती हूँ पांचवा स्तम्भ , सूर्या संस्थान द्वारा छपने वाली मैगजीन में मेरे लेख प्रकाशित होते हैं वर्तमान अंकुर अखबार में नितन्तर मेरे लेख छपते हैं जागरण जंगशन और नवभारत टाईम्स ब्लॉग में निरंतर लिखती हूँ अंतर्राष्ट्रीय विषयों  और कूटनीति के विषयों में मेरी विशेष रूचि है वैसे राजनीती और किसी महान पुरुष के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालना मेरा प्रमुख उद्देश्य है मैने 10 वर्ष ईरान  में उस समय परिवार सहित बिठाये हैं जब ईरान का शाह देश छोड़ कर  जा चुके थे इस्लामिक सरकार ने किस तरह ईरान की जनता पर नियन्त्रण किया तथा ईरान इराक युद्ध देखा मैंने भारत पाकिस्तान सम्बन्धों पर पर रिसर्च की है विषय Anglo American Impact on the Indo Pak Relations और कुछ ख़ास नहीं, मुख्य शौक लेक्चर देना है 

मित्रगण 52       वेबपेज  0       लेख 115
सार्वजनिक वेबपेज
अनुयायी 88
लेख 25791
लेखक 1
शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
लोकप्रिय प्रश्न