मेरी जिंदगी…………………एक कहानी

04 अगस्त 2016   |  ऋषभ शुक्ला   (677 बार पढ़ा जा चुका है)

मेरी जिंदगी…………………एक कहानी

मेरा नाम …………. छोड़ो भी, मेरे नाम मे क्या रखा है. कहते है लोगो को एक नाम इसीलिए दिए जाते है की वो रहे या ना रहे उन्हे हमेशा पहचाना जा सके, लेकिन फिर भी मै चाहता हूँ, की मेरा नाम एक गुमनाम शक्सियत हो. अब मै आप सभी को रूबरू करने जा रहा हूँ अपने इस अधूरे जिंदगी के सफ़र के बारे मे. मै शुरुआत करना चाहूँगा अपने जन्म से, अपने जन्म स्थान से, मेरी मातृभूमि से जिसकी एक झलक देखने भर के लिए मै हमेशा लालायित हुआ करता हूँ. मै बताना चाहूँगा जिंदगी के हर उस पड़ाव के बारे मे जो अभी भी मेरे दिल के पास है और जिसे मै कभी भी नही भूल सकता हूँ. बताना चाहूँगा मेरे जिंदगी के हर उस किरदार के बारे मे जिसने मेरे दिल को छू लिया, हर उस लम्हे के बारे मे जिसे मै कभी भी भूल नही पाऊँगा. बताना चाहूँगा मेरे गाँवो, मेरे कस्बे और उन गलियों के बारे मे जहा मै खेल कर बड़ा हुआ, जहा मैने अपनो का प्यार पाया, जहा मुझे मेरे पहले दोस्त मिले, उस मिट्टी के बारे मे जिसकी सोधी महक मे है एक अपनेपन का एहसास, एक सुकून, एक मिठास. बताना चाहूँगा अपनी जिंदगी के हर उस पड़ाव के बारे मे, जब मेरी जिंदगी बदली, बताना चाहूँगा हर उस व्यक्ति के बारे मे जो मेरे इस सुनहरे सफ़र पर मेरे साथ थे. मै बताना चाहूँगा कुछ एक ऐसी चाहकर भी ना भालने वाली घटनाओ के बारे मे, जिसे यादकर आज भी मेरी रूह ककप जाती है. आइए मेरे साथ मेरे जिंदगी के इस सुनहरे सफ़र पर, जहाँ हमेशा होंगी कुछ खट्टी, कुछ मीठी बातें. ........... मेरे मन की |


मेरे मन की...... - OnlineGatha-The Endless tale आज कल चर्चा है इसी बात पर की,ज़माना असहिष्णु होता जा रहा है |कोई वापस देता तमगा है,तो कोई घर छोड़ जा रहा है ||मै तो हूँ अचंभित,सब को दिख रही असहिष्णुता,दुम दबा के मुझसे ही,क्यों भगा जा रहा है ||मैंने खोजा सब जगह,खेत-खलिहान, बाग़-बगीचे |अन्दर-बाहर, सड़क और नदी,पर मुझे तो कही दिख ना रहा है ||कही फटा बम,तो कही हो रहा हमला |लेकिन पता नहीं क्यों,यह भारत में ही भगा जा रहा है ||Publisher : OnlinegathaEdition : 1ISBN : 978-93-86163-45-5Number of Pages : 142Binding Type : Ebook , PaperbackPaper Type : Cream Paper(58 GSM)Language : HindiCategory : PoetryUploaded On : July 12,2016 Partners :ezebee.com , Ebay , Payhip , Smashwords , Flipkart , shopclues , Paytm , Kobo , scribd मेरे मन की...... - OnlineGatha-The Endless tale

अगला लेख: असहिष्णुता व सहिष्णुता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अगस्त 2016
बात तब की है जब मै सिर्फ १२ साल का था | मै अपने जन्म स्थान, उत्तरप्रदेश के भदोही जिले में अपने माता-पिता के साथ रहता था | वही भदोही जो अपने कालीन निर्यात के लिए विश्व विख्यात है | मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है, जहाँ मेरे दादाजी अपने दो भाइयों और उनके पुरे परिवार के साथ रहते है | और मै खुद को इसील
11 अगस्त 2016
09 अगस्त 2016
मेरा पूरा गाँव मेरे परीवार के प्रत्येक सदस्य को सम्मान की दृष्टी से देखता था, अभी भी वह सम्मान बरकरार है या नहीं यह कहना थोड़ा मुश्किल है | लेकिन जो सम्मान मुझे भी मिलता आया है उसे मै अपनी बड़ी उपलब्धी मानता आया हूँ, (संभवतः अब यह भ्रम टूट गया है)| गाँव में सभी अपनो से बड़ो या छोटो को भी जिन्हें सम्मान
09 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
मेरा गाँव मोहनपुर, कालीन नगरी भदोही जनपद का एक छोटा सा गाँव है, क्षेत्रफल की दृष्टी से यह बड़ा तो नहीं है, लेकिन जनसँख्या की दृष्टी से बड़ा है | लेकिन अब नहीं रहा क्योकी आधी से ज्यादा आबादी तो रोजगार की आशा में मुंबई जैसे महानगरो की और पलायन कर चुका है | गाँव के बीचोबीच ही सारी आबादी बसी हुई है और चार
07 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
आजकल चर्चा है इसी बात पर की,ज़माना असहिष्णु होता जा रहा है |कोई वापस देता तमगा है,तो कोई घर छोड़ जा रहा है ||मै तो हूँ अचंभित,सब को दिख रही असहिष्णुता,दुम दबा के मुझसे ही,क्यों भगा जा रहा है ||मैंने खोजा सब जगह,खेत-खलिहान, बाग़-बगीचे |अन्दर-बाहर, सड़क और नदी,पर मुझे तो कही दिख ना रहा है ||कही फटा बम,तो
05 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
आज बात करूंगा परिवार के कुछ सदस्यों के बारे में जिन्हें मै चाहकर भी भुला नहीं सकता मेरा परिवार जिसमे मै भारत देश की एकता और अखंडता को वीद्दमान पाता हूँ, मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है जो भारत में ख़त्म होने की कगार पर है, और मै भारत वर्ष के लोगो से इसके संरक्षण हेतु आगे आने का आह्वान करता हूँ | मेर
08 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
मेरा गाँव मोहनपुर, कालीन नगरी भदोही जनपद का एक छोटा सा गाँव है, क्षेत्रफल की दृष्टी से यह बड़ा तो नहीं है, लेकिन जनसँख्या की दृष्टी से बड़ा है | लेकिन अब नहीं रहा क्योकी आधी से ज्यादा आबादी तो रोजगार की आशा में मुंबई जैसे महानगरो की और पलायन कर चुका है | गाँव के बीचोबीच ही सारी आबादी बसी हुई है और चार
07 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
आज बात करूंगा परिवार के कुछ सदस्यों के बारे में जिन्हें मै चाहकर भी भुला नहीं सकता मेरा परिवार जिसमे मै भारत देश की एकता और अखंडता को वीद्दमान पाता हूँ, मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है जो भारत में ख़त्म होने की कगार पर है, और मै भारत वर्ष के लोगो से इसके संरक्षण हेतु आगे आने का आह्वान करता हूँ | मेर
08 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
1. चुहल           क-मजबूत           ख-हल्का           ग-हंसी, ठिठौली             2. चूषक       क-चूहा         ख-चूसने वाला         ग-लकड़ी           3. चैत्यक        क-पीपल         ख-चैत्र            ग-चिंता            4. चैर्गिद               क-शार्गिद          ख-चौकस           ग-चहुंओर          उत
04 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
आज बात करूंगा परिवार के कुछ सदस्यों के बारे में जिन्हें मै चाहकर भी भुला नहीं सकता मेरा परिवार जिसमे मै भारत देश की एकता और अखंडता को वीद्दमान पाता हूँ, मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है जो भारत में ख़त्म होने की कगार पर है, और मै भारत वर्ष के लोगो से इसके संरक्षण हेतु आगे आने का आह्वान करता हूँ | मेर
08 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
मेरा गाँव मोहनपुर, कालीन नगरी भदोही जनपद का एक छोटा सा गाँव है, क्षेत्रफल की दृष्टी से यह बड़ा तो नहीं है, लेकिन जनसँख्या की दृष्टी से बड़ा है | लेकिन अब नहीं रहा क्योकी आधी से ज्यादा आबादी तो रोजगार की आशा में मुंबई जैसे महानगरो की और पलायन कर चुका है | गाँव के बीचोबीच ही सारी आबादी बसी हुई है और चार
07 अगस्त 2016
06 अगस्त 2016
मै ........., छोड़िये भी | यहाँ, मेरे नाम से कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि यह अधिकप्रभावशाली  नहीं है |मैंने अपने जीवन के २० वर्ष पूरे कर लिए है | मैं  भदोही से हूँ, जो पूरी दुनिया में अपने वस्त्र निर्यात के लिए जाना जाता है। मेरे पास अपने बारे में बताने के लिए कोई और अधिक सामग्री नहीं है, क्योकी मै अ
06 अगस्त 2016
11 अगस्त 2016
बात तब की है जब मै सिर्फ १२ साल का था | मै अपने जन्म स्थान, उत्तरप्रदेश के भदोही जिले में अपने माता-पिता के साथ रहता था | वही भदोही जो अपने कालीन निर्यात के लिए विश्व विख्यात है | मेरा परिवार एक संयुक्त परिवार है, जहाँ मेरे दादाजी अपने दो भाइयों और उनके पुरे परिवार के साथ रहते है | और मै खुद को इसील
11 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
09 अगस्त 2016
11 अगस्त 2016
07 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
08 अगस्त 2016
10 अगस्त 2016
09 अगस्त 2016
11 अगस्त 2016
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x