हाइकू.........

05 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (76 बार पढ़ा जा चुका है)


हाइकू”

कहते हैं ये 

बरसाती तरु हैं

भरा है पानी॥-1

 

सूख न जाएँ 

उपवन झरने

पिलाते पानी॥-2

 

बैठना छांव

शीतल हवा है

तपता  पानी॥-3

 

संग चल तो

हरी भरी धरती

ओढ़ती पानी॥-4

  

गिरता पानी

सड़क ये वीरानी 

लुटाएँ पानी॥-5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2016
गी
गीतिका- आधार छंद - आनंदवर्धक मापनी 2122 2122 212हाल ए गम में दिवाना आ गयाउफ़यहाँ तो मय खजाना आ गयासाफ़कर दूँ क्या हिला कर बोतलेंशामआई तो जमाना आ गया।।देखिये यह तो न पूछें जानकरदागदीवारें दिखाना आ गया।।उलझनों में बीत जाती जिंदगी आपकहते हैं बहाना आ गया।।दोपहर यह ताक पर है साहबासुबहकिसका अब सुहाना आ गया।
27 जुलाई 2016
05 अगस्त 2016
देसज कजरी लोकगीत......  मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना ले गयो चीर कदम की डारी, हम सखी रहीउघारी नामोहन हम तो शरम की मारी, रखि लो लाजहमारी ना....मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना  अब ना कबहुँ उघर पग डारब, भूल भई जलभारी नामोहन हम तो विरह की मारी, रखि लो लाजहमारी ना.....मोहन बाँके
05 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
गीत/नवगीत/तेवरी/गीतिका/गज़ल आदि आयोजन, के अंतर्गत आज- नवगीत विशेष आयोजन पर एक गजल/ गीतिका, मात्रा भार - 24, 12-12 पर यति...........देखों भी नजर उनकी, कहीं और लड़ी है सहरा सजाया जिसने, बहुत दूर खड़ी है गफलत की बात होती, तो मान भी लेते लग हाथ मेरी मेंहदी, कहीं और चढ़ी है॥ये रश्म ये रिवाजें, ये शोहरती बाज
05 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x