कुछ दोहे..........

05 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (114 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ दोहे..........

छद्म रूप तेरा दिखा, कैसा रे इंसान
बस रौदा रौदी सड़क, खेतों में शैतान॥- 1

माँ बेटी के रूप को, जबह किया हैवान 
आती घिन है देखकर, धरती लहू लुहान॥- 2

गिरेगी कत मानवता, के होगी पहचान
न पायी लंका ऐसी, जब गए बीर हनुमान॥- 3

सेना कैसे पल रही, किसका कहाँ मकान
जरजमीन जोरू विकल, चहरों पर मुस्कान॥- 4

हर घर की बेटी बहन, भाई बाप जहान
पूछते आसमान से, तड़के साँझ विहान॥- 5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 अगस्त 2016
गुरुवार- चित्र अभिव्यक्ति आप सभी मनीषियों को पावन रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई सह मंगल शुभकामना.......जय माता दी....... "कुंडलिया" बैठो मत उदास सखे, हर्षित राखी आज बहनों का आशीष है, थाली कंकू साज थाली कंकू साज, कलाई धर दे अपनी वादा कर शिरताज, झोलियाँ भर दे सपनी कह गौतम चितलाय, हिया में आकर पैठो नेकी क
18 अगस्त 2016
04 अगस्त 2016
“कुंडलिया”कल्पवृक्ष एक साधना, देवा ऋषि की राहपात पात से तप तपा, डाल डाल से छांह डाल डाल से छांह, मिली छाई हरियाली कहते वेद पुराण, अकल्पित नहि खुशियाली बैठो गौतम आय, सुनहरे पावन ये वृक्षमाया दें विसराय, अलौकिक शिवा कल्पवृक्ष॥ महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी    
04 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
कजरी गीत....चइताधुन  पुतरी खेल न हम जइबें, हो मैया ताल तलैया....... वहि ताल तलैया मैया, सारी सखियाँ सहेलिया बेर के बिरवा सजइबें, हो मैया ताल तलैया....... गोबर से गोठब मैया, तोरी सुनरी महलिया  नगवा के दूध चढ़इबें, हो मैया ताल तलैया...... कदमा की डाली मैया, डारब रेशमी डोरिया नेहिया के खूब झुलइबें, हो
05 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x