कुछ दोहे..........

05 अगस्त 2016   |  महातम मिश्रा   (87 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ दोहे..........

छद्म रूप तेरा दिखा, कैसा रे इंसान
बस रौदा रौदी सड़क, खेतों में शैतान॥- 1

माँ बेटी के रूप को, जबह किया हैवान 
आती घिन है देखकर, धरती लहू लुहान॥- 2

गिरेगी कत मानवता, के होगी पहचान
न पायी लंका ऐसी, जब गए बीर हनुमान॥- 3

सेना कैसे पल रही, किसका कहाँ मकान
जरजमीन जोरू विकल, चहरों पर मुस्कान॥- 4

हर घर की बेटी बहन, भाई बाप जहान
पूछते आसमान से, तड़के साँझ विहान॥- 5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: मत्तगयंद/मालती सवैया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जुलाई 2016
“भीगता आदमी”बरसात में यह कौन है?जो कुंडी खटखटा रहा है  देखों तो कौन बेअदब  अभी पानी भीगा रहा है॥ कटकटा रहा है दाँत उसकान जाने क्या सुना रहा है?बुला लो अंदर उसको जो अपनी ठंड हिला रहा है॥ दे दो किसी पुराने पड़े हुये कपड़ेको  कह दो निचोड़ दे तरसते हुये पानी को साथ में दो रोटी भी देना उसे बासी घसीट कर लाया
27 जुलाई 2016
05 अगस्त 2016
गीत/नवगीत/तेवरी/गीतिका/गज़ल आदि आयोजन, के अंतर्गत आज- नवगीत विशेष आयोजन पर एक गजल/ गीतिका, मात्रा भार - 24, 12-12 पर यति...........देखों भी नजर उनकी, कहीं और लड़ी है सहरा सजाया जिसने, बहुत दूर खड़ी है गफलत की बात होती, तो मान भी लेते लग हाथ मेरी मेंहदी, कहीं और चढ़ी है॥ये रश्म ये रिवाजें, ये शोहरती बाज
05 अगस्त 2016
05 अगस्त 2016
देसज कजरी लोकगीत......  मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना ले गयो चीर कदम की डारी, हम सखी रहीउघारी नामोहन हम तो शरम की मारी, रखि लो लाजहमारी ना....मोहन बाँके छैल बिहारी, सखियाकीन्ह लाचारी ना  अब ना कबहुँ उघर पग डारब, भूल भई जलभारी नामोहन हम तो विरह की मारी, रखि लो लाजहमारी ना.....मोहन बाँके
05 अगस्त 2016
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x